• shareIcon

Tooth Decay: सिर्फ मीठे से ही नहीं इन 5 कारणों से भी होती है दांतों में सड़न, जानें बचाव के टिप्‍स

अन्य़ बीमारियां By अतुल मोदी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 04, 2019
Tooth Decay: सिर्फ मीठे से ही नहीं इन 5 कारणों से भी होती है दांतों में सड़न, जानें बचाव के टिप्‍स

Tooth Decay Causes And Prevention: गलत खानपान और ब्रश न करना, दांतों में सड़न की मुख्‍य वजह है, लेकिन इसके अलावा भी कई कारण हैं। दांतों में सड़न की वजह और इससे बचाव के बारे में जानने के लिए पढ़ें यह लेख। 

दांतों में सड़न (Tooth Decay), दांतों की संरचना को नुकसान पहुंचाता है और यह इनेमल (दांतों की बाहरी परत) को प्रभावित करता है। दांतों में सड़न तब होती है जब कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ (शर्करा और स्टार्च), जैसे ब्रेड, अनाज, दूध, सोडा, फल, केक, या कैंडी का सेवन ज्‍यादा किया जाता है। ये खाद्य पदार्थ जब दांतों में फंसे रह जाते हैं तो दांतों में सड़न होने की समस्‍या उत्‍पन्‍न होने लगती है। मुंह में रहने वाले बैक्टीरिया में इन खाद्य पदार्थों को पचाने और उन्हें एसिड में बदलने की प्रवृत्ति होती है। एसिड, खाद्य पदार्थ, लार और बैक्टीरिया मिलकर दांतों के ऊपर प्‍लाक बनाते हैं जो दांतों से चिपक जाते हैं और दांतों में सड़न पैदा करते हैं। प्लाक में मौजूद एसिड दांतों के इनेमल पर घुल जाता है और छिद्रों का निर्माण करते हैं, जिन्‍हें कैविटी कहते हैं।

दांतों में सड़न होने के कुछ कारण निम्‍नलिखित हैं- Common causes of tooth decay

1. मुंह की देखभाल न करना

नियमित रूप से अपने दांतों को ब्रश न करना और यहां तक कि फ्लॉसिंग की कमी से दांतों की सड़न हो सकती है। यह प्‍लाक बनने की संभावना को बढ़ाता है। के निर्माण की अनुमति देता है और दांतों के इनेमल को नुकसान पहुंचाता है। सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से सोते हैं और हर दिन दो बार अपने टूथब्रश करते हैं। सिर्फ ब्रश से ही नहीं इन तरीकों से रखें अपनी ओरल हेल्थ का ख्याल

2. खाना और पीना

स्टार्च और शुगर युक्त खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ के सेवन से कैविटीज़ और दांतों की सड़न हो सकती है। शुगर या स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ खाने के बाद आपको अपने दांतों को ब्रश करना चाहिए क्योंकि वे खाने के बाद आपके दांतों से चिपक जाते हैं। खाना पकाना, सांस लेना, अनाज, कैंडीज, सूखे फल, किशमिश आदि सभी ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनके सेवन के बाद आपको अपने दांतों को ब्रश करना चाहिए।

3. मेडिकल प्रॉब्‍लम

कई बार, एक अंदरूनी स्वास्थ्य स्थिति आपके दांतों के क्षय का कारण हो सकती है। जब एसिड आपके पेट से वापस आपके मुंह में बहता है, उल्टी या बुलिमिया के मामले में, यह दांतों में सड़न का कारण बनता है। 

4. मुंह का सूखना

लार दांतों से प्‍लाक धोने में मदद करता है। यदि आपके मुंह में लार की कमी है और मुंह सूखा रहता है, तो इससे दांतों में सड़न का खतरा बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: पायरिया रोग के लक्षण हैं दांतों और मसूड़ों से खून आना, जानें बचाव का तरीका

5. बैक्टीरिया और एसिड

जब मुंह में बैक्टीरिया आपके दांतों को खराब वाले कार्ब्स को पचाता है, तो यह एसिड और दांतों के क्षय का कारण बनता है। दांतों को पीलापन चुटकियां में दूर करते हैं ये 5 नुस्खे

दांतों की सड़न रोकने के टिप्स- How to prevent tooth decay

  • अपने दांतों को हर दिन दो बार ब्रश करें और नियमित रूप से डेंटिस्ट के पास जाएं। सुनिश्चित करें कि आपके टूथपेस्ट में फ्लोराइड है। हर भोजन के बाद ब्रश करने की कोशिश करें और बिस्तर पर जाने से पहले अपने दांत ब्रश करना कभी न भूलें।
  • पौष्टिक और संतुलित आहार लें। डीप फ्राइड, प्रोसेस्ड और जंक फूड के सेवन से बचें। कैंडी, चिप्स, चॉकलेट और मिठाइयों से जितना संभव हो उतना बचना चाहिए। यहां तक कि जब आप उनमें लिप्त होते हैं, तो अपने हिस्से के आकार को नियंत्रित करें।
  • फ्लोराइड युक्त माउथवॉश से अपने मुंह को धोएं। यह हानिकारक प्‍लाक पैदा करने वाले जीवाणुओं को मारने में मदद कर सकता है। 
  • फ्लॉस करना ब्रश करने जितना ही महत्वपूर्ण है और इसे छोड़ना नहीं चाहिए।
  • फ्लोराइड युक्त पानी पीने से दांतों की सड़न रोकने में मदद मिल सकती है।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK