• shareIcon

महिलाओं में हड्डियों की कमजोरी का खतरा बढ़ा देते हैं ये 5 साइलेंट कारण, जानें इस खतरे को कम करने का तरीका

अन्य़ बीमारियां By शीतल बिष्‍ट , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 19, 2019
महिलाओं में  हड्डियों की कमजोरी का खतरा बढ़ा देते हैं ये 5 साइलेंट कारण, जानें इस खतरे को कम करने का तरीका

World Osteoporosis Day: ऑस्टियोपोरोसिस यानि हड्डियों से जुड़ा यह रोग एक ऐसी गंभीर स्थिति है, जो फ्रैक्चर और दर्द का कारण बनती है। यद्यपि इसका इलाज नहीं किया जा सकता है, लेकिन बीमारी को रोकने और स्वस्थ हड्डियों के लिए बहुत सारे तरीके अपनाए जा सकते

ओस्टियोपोरोसिस, यह हड्डियों से जुड़ा रोग है, जिसमें आपकी हड्डियां कमजोर और फ्रेक्‍चर होने लगती हैं। हर साल 20 अक्टूबर को पूरे विश्व में द इंटरनेशनल ओस्टियोपोरोसिस फाउंडेशन (IOF) द्वारा विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, निदान और उपचार के अलावा, विभिन्न मेटाबोलिक बोन डिजीज के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाना है। यह अनुमान है कि दुनिया भर में हर 3 सेकंड में एक ऑस्टियोपोरोटिक फ्रैक्चर होता है। इसलिए, इस साइलेंट डिजीज के बारे में जागरूकता बढ़ाना ज़रूरी है| क्‍योंकि यदि समय से इसका इलाज न किया जाए, तो स्थिति गंभीर हो जाने पर इलाज में कठिनाई होती है। 

पुरूषों की तुलना में महिलाओं में अधिक खतरा  

ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा पुरूषों के मुकाबले महिलाओं में होता है, जिसके कई विशेष कारण हैं, जैसे हार्मोनल बदलाव आदि।  यह एक ऐसी चिकित्सा स्थिति है, जिसमें लो डेंसिटी के कारण हड्डियां कमजोर होकर झरझरा जाती हैं। यह हालत फ्रैक्चर के बढ़ते जोखिम से जुड़ी है। इसमें पहला फ्रैक्चर होने तक कोई लक्षण नहीं दिखाता है और इस कारण से, इस स्थिति को अक्सर 'द साइलेंट डिजीज' कहा जाता है। भारत में ऑस्टियोपोरोटिक फ्रैक्चर यानि हड्डियों का फ्रेक्‍चर होना महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों में भी बहुत आम हैं और हर साल लगभग 10 मिलियन लोग इससे प्रभावित होते हैं। 2013 में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, लगभग 50 मिलियन भारतीय ऑस्टियोपोरोसिस या लो बोन मास से पीड़ित हैं।

osteoporosis

ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम कारक

ऑस्टियोपोरोसिस हड्डियों से जुड़ा रोग है, जिसमें आपको हड्डी फ्रैक्चर होने की अधिक संभावना होती है। क्योंकि आप अपना बोन मास और डेंसिटी खो देते हैं। आपको कोई दिखाई देने वाले लक्षण महसूस नहीं हो सकते हैं, आमतौर पर पहला संकेत एक टूटी हुई हड्डी होता है।

ऑस्टियोपोरोसिस को बढ़ाने वाले कारक

ऑस्टियोपोरोसिस यानि हड्डियों के इस रोग को को बढ़ाने के पीछे सामान्य रूप से 5 कारण हैं, जिनमें—

1 आयु

उम्र शरीर की एक प्राकृतिक क्रिया है, जिसे धीरे-धीरे बढ़ना ही है। ऐसे में उम्र बढ़ने के साथ पुरानी हड्डी की कोशिकाएं टूट जाती हैं और हड्डी की नई कोशिकाएं बन जाती हैं। हालांकि, जैसे ही कोई व्यक्ति अपने 30 के दशक में पहुंचता है, तो शरीर तेजी से हड्डी तोड़ना शुरू कर देता है, क्योंकि यह तभी इसे बदलने में सक्षम है। इस प्रकार, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में हड्डियों के फ्रेक्‍चर (ऑस्टियोपोरोसिस) होने के जोखिम ज्‍यादा होते हैं। 

2 लिंग

हार्मोनल स्तर में परिवर्तन के कारण, ऑस्टियोपोरोसिस पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में अधिक होने की संभावनाएं होती है। 45 से 55 वर्ष की आयु वर्ग की महिलाएं को हड्डियों में दर्द और हड्डियों के फ्रेक्‍चर का खतरा अधिक होता है। इस आयु वर्ग के पुरुष को भी इसका जोखिम हो सकता है, लेकिन महिलाओं की तुलना में संभावना कम है।

3 पारिवारिक इतिहास

यदि पहले परिवार का कोई भी व्यक्ति ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित है, तो बीमारी के बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है। यदि माता-पिता में से किसी को फ्रैक्चर हिप रहा हो, तो जोखिम बढ़ सकता है। 

4 आहार

आपका खानपान भी इसके लिए काफी हद तक जिम्‍मेदार हो सकता है। क्‍योंकि जिन लोगों में कैल्शियम की मात्रा कम होती है, उनमें ऑस्टियोपोरोसिस होने की संभावना अधिक होती है। इसके अलावा, जोखिम उन लोगों में भी बढ़ता है, जो कम वजन वाले या दुबले होते हैं। जिन लोगों में गैस्ट्रोइंटेस्टिनल सर्जरी हुई है, उनमें हड्डियों के रोग की संभावना विकसित होने का खतरा अधिक होता है।

osteoporosis

5 दवाएं

कॉर्टिकोस्टेरॉइड के लंबे समय तक संपर्क में हड्डियों के पुनर्निर्माण की शरीर की क्षमता पर प्रभाव पड़ सकता है। इस प्रकार, कोर्टिकोस्टेरोइड लेने वाले रोगियों में ऑस्टियोपोरोसिस विकसित होने की अधिक संभावना होती है। जिन दवाओं का उपयोग गैस्ट्रिक रिफ्लक्स, सीज़र्स और कैंसर को रोकने और इलाज करने के लिए किया जाता है, उनमें ऑस्टियोपोरोसिस के विकास के जोखिम का खतरा अधिक होता है। 

6 लाइफस्टाइल फैक्टर्स

आपकी कुछ आदतें भी ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा भी बढ़ा सकती हैं। इनमें आपका सक्रिय न रहना, गतिहीन जीवन शैली, शराब का अधिक सेवन, धूम्रपान, तंबाकू और संतुलित आहार का सेवन न करना शामिल हैं।

क्या ऑस्टियोपोरोसिस का कोई लक्षण दिखाता है?

ऑस्टियोपोरोसिस को अक्सर मूक रोग यानि साइलेंट डिजीज के रूप में जाना जाता है। क्योंकि इसमें तब तक कोई लक्षण नहीं दिखाता है, जब तक आपको फ्रैक्चर नहीं होता है। ऑस्टियोपोरोसिस में अनुभव होने वाला पहला वास्तविक लक्षण अक्सर टूटी हुई हड्डी होता है। हालांकि, एक बार हड्डियों के कमजोर हो जाने के बाद, रोगी को कुछ लक्षण अनुभव हो सकते हैं जैसे पीठ में फ्रैक्चर या टूटी हुई कशेरुका, स्तूप वाली मुद्रा, नाजुक हड्डियां आदि।

इसे भी पढें: महिलाओं को होता है ऑस्टियोपोरोसिस का ज्यादा खतरा, इन लक्षणों से जानें इसे

ऑस्टियोपोरोसिस का निदान कैसे किया जा सकता है?

रोगी के शारीरिक जांच के आधार पर, यदि ऑस्टियोपोरोसिस का संदेह है, तो ब्‍लड टेस्‍ट और यूरीन टेस्‍ट किया जाता है। जिससे कि उन स्थितियों के लिए जांच कर सकते हैं, जो हड्डियों के नुकसान का कारण बन सकते हैं। इसके बाद बोन डेंसिटि टेसट कर सकते हैं। यह टेस्‍ट हड्डी के एक खंड में मौजूद कैल्शियम की मात्रा को मापने में मदद करता है। बीएमडी में जिन हड्डियों का सबसे अधिक परीक्षण किया जाता है, वे ज्यादातर कूल्हे और रीढ़ में होती हैं।

द नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (NIH) के अनुसार, 65 वर्ष से अधिक उम्र की सभी महिलाओं को समान अंतराल पर अस्थि खनिज घनत्व की सिफारिश की जाती है, जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं या शराब का सेवन करती हैं और गतिहीन जीवन शैली वाले लोग हैं, उनमें यह गुर्दे की बीमारियों और गठिया के रोगियों का संकेत भी हो सकता है। 

इसे भी पढें: आखिर महिलाओं को क्यों होती है ऑस्टियोपोरोसिस की अधिक समस्या, जानें पूरा सच

ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज 

  • ऑस्टियोपोरोसिस में उपचार द्वारा हड्डी के फ्रैक्चर को रोका जा सकता है। हालांकि, डॉक्‍टर रोगी में हड्डियों के टूटने को धीमा करने के लिए कुछ दवाओं का प्रयोग करने की सलाह देते हैं। इसके साथ ही हड्डियों को मजबूत करने के लिए कुछ जीवनशैली में बदलाव की सलाह भी दी जाती है। 
  • इसके उपचार में नियमित व्यायाम और कैल्शियम और विटामिन डी का बढ़ता सेवन शामिल हैं।
  • आपको हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए अपने आहार में कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर भोजन को शामिल करना चाहिए। इसके अलावा, कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ दूध, दही और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। 
  • सूर्य के प्रकाश के अच्छे संपर्क के माध्यम से विटामिन डी प्राप्त किया जा सकता है। इसके अलावा नियमित व्यायाम, तनाव से राहत योग और सीमित शराब का सेवन भी हड्डियों को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।
(यह लेख डॉ. बिनीता प्रियबंदा, सीनियर कंसल्टेंट, मेडिकल टीम (डॉकप्राइम.कॉम) से बातचीत पर आधरित है।)

Read More Article On Other Disease In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK