हर किसी पर शक करना है गलत, जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव

Updated at: Sep 29, 2020
हर किसी पर शक करना है गलत, जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव

हर किसी पर विश्वास कर पाना मुश्किल होता है। लेकिन अपने नजदीकी लोगों पर शक करने से रिश्तों में दरार आ सकती है। बदलें ये आदत...

Garima Garg
तन मनWritten by: Garima GargPublished at: Sep 29, 2020

अगर किसी को शक करने की आदत हो तो क्या कभी वह कामयाब हो सकता है? नहीं, बल्कि इससे उसका मन हमेशा अशांत ही रहेगा। यह एक नकारात्मक मनोवृति है, जिससे छुटकारा पाना बेहद जरूरी है। जहां भरोसा टूटता है वहीं से शक पैदा होता है। हां, यह सच है कि हम हर किसी पर भरोसा नहीं कर सकते लेकिन जब कोई अपने करीबी पर ही शक करना शुरू कर दे तो यह स्थिति उसके लिए ठीक नहीं है। समय रहते अगर इस मानसिक बदलाव को रोका नहीं गया तो यह आदत आगे चलकर रिश्तों या अपने करीबी के साथ तनाव पैदा कर सकती है। इसलिए जहां तक संभव हो सके इस आदत को तुरंत बदल लेना जरूरी है। आगे पढ़ते हैं कैसे...

 DISTRUST

ऐसा क्यों होता है 

व्यक्तित्व का विकास बचपन से ही किया जाता है। इसको संवारने या बिगाड़ने में परवरिश का बहुत बड़ा योगदान होता है। यदि माता-पिता ही शक्की स्वभाव के हों या वे अपने बच्चे को एक सुरक्षित माहौल ना दे पाए हों तो इन कारणों से उस व्यक्ति के मन में शक की भावना घर कर लेती है। अगर इस समस्या को समय पर नहीं रोका गया तो यह आगे चलकर गंभीर हो सकती है। बता दें कि आगे चलकर इस समस्या से ग्रस्त व्यक्ति पैरानॉइड स्क्रिोज़ोफेनिया या डिल्यूज़न डिसऑर्डर के शिकार हो सकते हैं। यह समस्याएं मानसिक मनोवैज्ञानिक समस्याएं हैं।

क्या होते हैं इसके लक्षण

  • किसी के भी साथ रिलेशंस अच्छे ना होना
  • अपने करीबी लोगों पर विश्वास न करना
  • हमेशा उदास और अकेले रहना
  • दिमाग में केवल यही चलना कि मेरे साथ ठगी या धोखाधड़ी हो सकती है
  • अपने साथ काम करने वाले लोगों को शक की नजर से देखना।

कैसे हो इस बीमारी से बचाव

  • अगर आपको पता है कि आपको शक करने की आदत है तो उसे दूर करने की खुद कोशिश करें। इसके लिए आप उस अनुभव को याद करें, जिससे कभी आपके विश्वास को ठेस पहुंची हो और आपको लगा हो कि इस घटना के बाद से मैं इस समस्या का शिकार हुआ हूं। जैसे ही आप इस समस्या की जड़ ढूंढ लेंगे वैसे ही आप खुद को इसे बचा भी सकते हैं।
  • सकारात्मक दृष्टिकोण रखने वाले लोगों से संपर्क बढ़ाएं और उनकी अच्छी बातों से अपने अंदर बदलाव लाने की कोशिश करें।
  • हमेशा याद रखें कि भरोसे करने वाला गलत नहीं होता बल्कि धोखा देने वाला गलत होता है। अगर आपको लगता है कि सामने वाले ने आपको धोखा दिया है तो अपने मन में ग्लानि की भावना ने आने दें।
  • अगर किसी व्यक्ति को देखकर आपके मन में शक है तो उस शख्स से बातचीत करके अपनी गलतफहमी को दूर करें।
  • एक बुरी घटना के चलते टूटे भरोसे का प्रभाव अपने भविष्य में बनने वाले रिश्तों पर ना आने दें दूसरों को भी मौका दें।
  • अगर इन प्रयासों के बावजूद भी आपको लगे कि आप में कोई बदलाव नहीं आ रहा है तो आप किसी मनोवैज्ञानिक सलाहकार की मदद भी ले सकते हैं। इसके लिए संकोच ना करें।

Read More Articles On Mind Body in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK