• shareIcon

हर दूसरे दिन लकवे का शिकार हो जाती है ये लड़की

मेडिकल मिरेकल By Pooja Sinha , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 11, 2016
हर दूसरे दिन लकवे का शिकार हो जाती है ये लड़की

हाइपोकालेमिक पीरियाडिक पैरालिसिस नाम की अनुवांशिक बीमारी में मांसपेशियां इतनी कमजोर हो जाती है कि व्‍यक्ति हर दूसरे दिन लकवे का शिकार हो जाती है, आइए जानें कैसे।

बार्नली, साउथ यॉर्कशायर की बारह वर्षीय मिया पार्क को हाइपोकालेमिक पीरियडिक पैरालिसिस नाम की एक अनुवांशिक बीमारी है। इस बीमारी में मांसपेशियां इतनी कमजोर हो जाती है कि वह हर दूसरे दिन लकवे का शिकार हो जाती है। एक बार तो वह लगातार 19 घंटों तक अपने शरीर को नहीं हिला सकी और उसकी मां भी उसकी किसी भी तरह से मदद नहीं कर सकी। ऐसी हालत में उसे तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता, जहां उसे एक आई ड्रिप के जरिए पोटैशियम दिया जाता है। मिया ही इस तरह की हालत उसके सोने पर होती है लेकिन उसके जागने पर वह पूरी तरह से लकवाग्रस्‍त होती है। डॉक्टरों का कहना है कि हाइपोकालेमिक पैरालिसिस बीमारी वंशानुगत है और प्रति एक लाख लोगों में से किसी एक को ही यह बीमारी होती है।

mia perk in hindi

मेलऑनलाइन के लिए मिशेल रालिंस लिखती हैं कि एक दुखी और निराश मां (39) को अपनी बेटी (12) को भय से देखना पड़ता है कि हर सुबह उनकी बेटी लकवाग्रस्त है या नहीं। सारा फर्थ को देखना पड़ता है कि उनकी बेटी मिया कभी-कभी 19 घंटों तक अपने शरीर की एक हड्डी तक हिलाने की हालत में नहीं होती है।

ऐसी हालत में उनकी बेटी रोती है और मदद के लिए दवाएं मांगती है ताकि उसके शरीर में सक्रियता का संचार हो सके। मिया पर इस बीमारी का पहला हमला इसी वर्ष की जनवरी में हुआ था। पेशे से नर्स फर्थ का कहना है, कि एक बार उसकी बेटी आधी रात को जागकर अपने हाथ के सुन्न होने की शिकायत करने लगी। मैंने सोचा कि वह अपने हाथ के ऊपर सो गई होगी और इस कारण से हाथ सुन्न हो गया होगा, लेकिन सुबह के समय मिया ने कहा कि उसे अपने हाथों और पैरों का अनुभव नहीं हो रहा है।

शुरुआत में मैंने सोचा कि वह बहाने बना रही है और बर्फवारी के कारण स्कूल जाने से छुट्‍टी चाहती है। लेकिन जब वह बैठ नहीं सकी या हाथ-पैर नहीं चला सकी तब मुझे अहसास हुआ कि वह सच बोल रही थी। मुझे पता था चूंकि उसका चेहरा टेढ़ा नहीं हुआ था इसलिए उसे पक्षाघात नहीं हुआ था। लेकिन मुझे लगा कि कोई गंभीर बात जरूर है। वह कहती हैं कि मिया के हाथ-पैरों की उंगलियों में सुई चुभोई लेकिन वह एक बार भी पीछे नहीं हटी और उसने दर्द की शिकायत नहीं की। मैंने देखा कि वह निराशा से अपने हाथ पैर हिलाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने तुरंत ही एनएचएस हेल्पलाइन को फोन लगाया जिन्होंने उसके लिए एम्बुलेंस भेजी। जब डॉक्टर उसकी जांच कर रहे थे, उसका ब्लड प्रेशर ले रहे थे तब मुझे इस बीमारी का अंदाजा लगा।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : dailymail.co.uk

Read More Articles on Medical Miracles in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK