• shareIcon

30 वर्ष से अधिक उम्र के पुरूषों के लिए आहार

पुरुष स्वास्थ्य By Aditi Singh , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Mar 12, 2015
30 वर्ष से अधिक उम्र के पुरूषों के लिए आहार

बढती उम्र को थाम लेने वाले एंटी एजिंग डायट के अलावा पचास की आयु सीमा पार कर चुके लोगों  को बेहतर स्वास्थ्य के लिए खान -पान के कुछ गोलडेन रूल्स का पालन करने और अपने आहार तालिका में कुछ बदलाव करने की जरूरत पड़ती है।

बढ़ती उम्र को थाम लेने वाले एंटी एजिंग डायट के अलावा तीस की आयु सीमा पार कर चुके लोगों को बेहतर स्वास्थ्य के लिए खान -पान के कुछ गोलडेन रूल्स का पालन करने और अपने आहार तालिका में कुछ बदलाव करने की जरूरत पड़ती है। उम्र बढने के साथ अपने आहार में परिवर्तन करने से पुरूषों का एक स्वस्थ्य जीवन जीने की दिशा में अच्छा कदम माना जाता है। आयु बढ़ने के साथ ही शरीर के मेटाबोलिज्म रेट के कम होने और पाचन तंत्र के कमजोर पड़ने के साथ ही शरीर में परिवर्तन होने लगता है जिसे विशेष देखभाल की जरूरत पड़ती है। निम्नलिखित फूड हैबिट को अपना कर स्वस्थ्य जीवन का अनंद ले सकते है।

 

प्रचूर मात्रा में हरी और रंगीन सब्जियों का सेवन

हरी सबिजयां  न सिर्फ बढते बच्चों के विकास के लिए जरूरी होता है बलकि व्यस्कों में भी पोषण, विटामिन्स और मिनरल्स के लेवल को बनाए रखने के लिए इनकी आवश्यकता पड़ती है। अपने भोजन मैन्यू में न सिर्फ हरी सब्जियों को स्थान दे बल्कि इसके अलावा और भी रंगीन सबिजयों को इसमें जगह दे और उनका अपने भोजन में भरपूर सेवन करे। इन सब्जियों में  एंटीऑक्सीडेंट प्रचूर मात्रा में पाए जाते है जो शरीर के अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होते है। हरे रंगों वाली सब्जियां  हड्डियों के स्वास्थ्य औश्र बालों के विकास के लिए महत्वपूर्ण होते हैं।  अपने भोजन में साग, बंदा गोभी, सेम, फली आदि जैसी हरी सब्जियों के साथ प्रचूर मात्रा में गाजर, चुकंदर, तरबूजा और खरबुजा जैसे अन्य रंगीन फलों और सब्जियों का भी सेवन करनी चाहिए।

 

Men's Health

ताजे फल

ताजे फल एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर के सबसे अच्छे स्रोत माने जाते है, इसका सर्वाणिक लाभ लेने के लिए  इसे अपने ब्रेकफास्ट में इनका इस्तेमाल करना चाहिए।  सेब और नाशपाती जैसे फलों के छिलके भी विटामिन्स से भरे होते हैं इसलिए विटामिन्स और फाइबर लेने के लिए इन फलों का छिलका सहित प्रयोग करना चाहिए। सेब, नारंगी और टनस रंगीन फलों में शरीर को पोषण देने वाले बहुत से विटामिन्स  होते है।

साबुत अनाज

आहार में रिफाइंड तेल और प्रोसेस्ड खादय पदार्थों के सेवन से परहेज करे। भोजन में सफेद ब्रेड, प्रोसेस्ड सफेद चावल और मैदे की रोटी के बजाए ब्राउन ब्रेड , छिलका वाले कच्च चावल और चोकर सहित आटे की रोटी का प्रयोग करे। फाइबर युक्त आहार लेने से आंतों में हरकत तेज होता है, रक्त में कोलेस्टरोल  बढने के रिस्क को कम कर रक्त में सूगर की मात्रा  को भी नियंत्रित करता है। अगर आप अपने  आहार चार्ट और भोजन करने के आदतों में परिवर्तन करने जा रहे हैं तो इसे अचानक नहीं करे बलिक धीरे-धीरे करे। खान -पान की आदतों को अचानक बदलने और भोजन में अधिक मात्रा में फाइबर युक्त चीजे लेने से पेट खराब होने की आशंका बनी रहती है।

कम वसा वाले दूध से बने उत्पाद

हड्डियों को स्वस्थ्य और मजबूत रखने के लिए कैलसियम की आवश्यक्ता पड़ती है। उम्र बढने के साथ पुरूषों में ऑस्टियोपोरोसिस की समस्यस उतपन्न होने का खतरा बढ जाता है ।इसमें हडडिया कमजोर होकर आसानी से टूट जाती है और इसे जुड़ने में काफी समय लगता है। शरीर में कैल्सियम की मात्रा बनाए रखने के लिए अपने आहार में प्रचूर मात्रा में दूध, दही,पनीर और दूध से बने अन्य उत्पादों का सेवन करे। अगर आपको दूध में पाए जाने वाले लैक्टूज से किसी प्रकार की एलर्जी हो तो आप सोया मिल्क का प्रयोग कर सकते है।

 

Men Health

 

प्रोटीन युक्त आहार

मांस, मछली,अण्डा और सूखे मेवे प्रोटीन का समृद्ध स्रोत माने जाते है। शोध में पाया गया है कि मछली प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत होने के साथ ही हृदय के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। मछली में पाए जाने वाला ओमेगा -3 नामका प्रोटीन रक्त में कोलेस्टरोल की मात्रा बढने से रोकता है। डराई फ्रूट प्रोटीन के  एक अच्छे स्रोत होने के साथ-साथ विटामिन्स ई का भी बढिया स्रोत माना जाता है। जो लोग शाकाहारी होते हैं उनके  लिए डराई फ्रूट

प्रोटीन का एक अच्छा विकल्प हो सकता है

सही वसा का सेवन   अच्छे स्वास्थ्य के लिए जीवन में माध्यम मार्ग अपनाना सबसे अच्छा सिद्धांत  माना जाता है। शरीर  को सही ढंग से काम करने के लिए में एक निधार्रित मात्रा में वसा की आवश्यकता होती है। इसलिए वसा के प्रयोग को बिलकुल बंद कर देना इससे सेवन से बचना भी स्वास्थ्य की दृष्टी से उचित नहीं है।  सुरक्षित वसा के रूप् में जैतून का तेल प्रयोग किया जा सकता है।

 

ImageCourtesy@GettyImages

Read more article on Men health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK