कहीं आपको तो नहीं डीप वेन थ्रांबोसिस? जानें किन कारणों से हाती है ये परेशानी

Updated at: Sep 23, 2020
कहीं आपको तो नहीं डीप वेन थ्रांबोसिस? जानें किन कारणों से हाती है ये परेशानी

आप डीवीटी के विषय में क्या जानते हैं? इसके क्या कारण है? आइए जानते हैं डीवीटी के कुछ अन सुने कारणों को विस्तार में।

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 23, 2020

डीवीटी का अर्थ है डीप वेन थ्रांबोसिस।रिसर्च ने बताया है कि यदि आप एक एथलीट हैं और मैराथन आदि में भाग लेते हैं, तो आप को डीवीटी होने के अधिक सम्भावना है। डीवीटी को हम अक्सर खेल आदि से सम्बन्धित समस्या मान लेते हैं। परन्तु यह समस्या खेलों से अलग कारणों द्वारा भी हो सकती हैं। इसके कुछ ऐसे कारण होते हैं जिन को जान कर आप हैरान रह जाएंगे।

dvt

सर्जरी (Surgery)

एक सर्जरी या ऑपरेशन के कारण भी आप को डीवीटी हो सकता है। सर्जरी के बाद आप को कुछ दिन का बेड रेस्ट दिया जाता है। जिसके कारण आपका खून का दौरान धीमा हो जाता है। इसके कारण आप को डीवीटी होने की सम्भावना हो जाती है। क्योंकि सर्जरी के दौरान आप की नसें भी चोटिल हो जाती हैं।

पेट दर्द रोग (Inflammatory Bowel Disease)

यदि आप को किसी भी तरह का पेट रोग, अल्सरेटिव कोलाइटिस, या एक अन्य आंत्र रोग होता है, तो आप को खून के थक्के होने की संभावना दोगुनी से तिगुनी हो जाती है। इस प्रकार के लोग डिहाइड्रेट हो जाते हैं। उन्हें बेड रेस्ट के साथ साथ कभी कभार सर्जरी की भी जरूरत पड़ जाती है। आंत्र रोगों का कारण बनने वाली सूजन रक्त के थक्कों से जुड़ी हो सकती है।

विटामिन डी की कमी (low vitamin D)

यदि आप के शरीर के अंदर विटामिन डी की कमी है तो आप को दूसरे लोगों के मुकाबले डीवीटी होने का अधिक खतरा होता है। अतः आप को कुछ समय धूप में बिताना चाहिए। यदि आप धूप में नहीं रह सकते तो आप चीज या अंडे आदि खा सकते हैं। इनसे भी आप को विटामिन डी मिलता है।

इसे भी पढ़ें- हाथ और पैरों की नसों में दर्द और सूजन हो सकता है डीवीटी रोग का संकेत

कैंसर (cancer)

यदि आप को कैंसर है तो आप को डीवीटी होने की बहुत अधिक सम्भावना होती है। कुछ प्रकार की कीमो थेरेपी व कुछ प्रकार की कैंसर सेल्स आप के लिए खून का थक्का बनने की सम्भावना अधिक रहती है। इसलिए यदि आप को कैंसर है तो जितना हो सके उतना अधिक एक्टिव रहें।

ओवर वेट हो जाना (overweight)

यदि आप का वजन सामान्य से अधिक है तो आप को अपना वजन कम कर लेना चाहिए क्योंकि यह भी डीवीटी का एक कारण बन सकता है। यदि आप का बॉडी मास इंडेक्स 25 या इससे अधिक है तो आप को अपनी सेहत पर ध्यान देना चाहिए।

प्रेग्नेंसी (pregnancy)

यदि आप प्रेगनेंट महिला हैं तो बेबी के द्वारा भी आप की नसों या पैरों पर अधिक भार पड़ सकता है। और आप बच्चे को जन्म देने के 6 हफ्तों तक डीवीटी होने का रिस्क रहता है। डीवीटी हर 1000 में से 2 प्रेगनेंट महिला को अवश्य होता है। इसलिए आप को अपना ख्याल रखने में लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। गर्भावस्था के दौरान सक्रिय रहकर अपनी बाधाओं को कम करें।

समय से पहले बच्चे का जन्म लेना (premature birth)

यदि आप समय से पहले ही पैदा हो गए हैं? यदि हां तो आप जितने जल्दी पैदा हुए हैं उतना अधिक आप को स्वास्थ्य से सम्बन्धित रिस्क पूरी जिंदगी भर रहेंगे। जिनमें से एक डीवीटी है। यदि आप समय से पहले पैदा हो गए हैं तो अपने डॉक्टर को इस बारे में जरूर बता दें।

धूम्रपान 

यदि आप धूम्रपान करते हैं तो आप अपनी सेहत को स्वयं ही जोखिम में डाल रहें हैं। आप की धूम्रपान कि आदत आप के सेहत के लिए बहुत नुक़सान दायक होती है। धूम्रपान करने से चाहे वह कम मात्रा में ही क्यों न हो, आप के हृदय व रक्त धमनियों को नुकसान पहुंचाती हैं। यदि आप धूम्रपान करते हैं तो आप को डीवीटी होने की संभावना 9 गुना अधिक हो जाती हैं।

इसे भी पढ़ें- पैरों में लगातार तेज दर्द का कारण हो सकता है डीवीटी रोग, जानिये इसके लक्षण

सेक्स हार्मोन के साथ दवाएं (Medicines With Sex Hormones)

रजोनिवृत्ति के लिए गर्भनिरोधक गोलियां और हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) में से एक आवश्यक महिला हार्मोन है एस्ट्रोजन, जो रक्त के थक्के को और अधिक आसानी से बना सकता है। हर साल 1,000 महिलाओं में से केवल 1 महिला गर्भनिरोधक गोलियों के कारण डीवीटी प्राप्त करती है। इसी प्रकार जो पुरुष टेस्टोस्टेरोन हार्मोन, का उपयोग करते हैं, उनमें भी रक्त थक्के होने की अधिक संभावना होती है।

Read More Articles On Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK