• shareIcon

बढ़ी हुई हड्डियों के इलाज (Deformity Correction) के लिए क्यों जरूरी है सर्जरी, जानें एक्सपर्ट की राय

लेटेस्ट By शीतल बिष्ट , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 19, 2019
बढ़ी हुई हड्डियों के इलाज (Deformity Correction) के लिए क्यों जरूरी है सर्जरी, जानें एक्सपर्ट की राय

आपने बहुत से लोगों को देखा होगा कि वह अपनी हड्डियों के गलत तरीके से बढऩे के कारण ठीक से चल नहीं पाते हैं। ऐसी स्थिति में इस समस्‍या से निपटने के लिए विकृति सुधार यानि करेक्शनल सर्जरी की आवश्यकता होती है।

आपने बहुत से लोगों को देखा होगा कि वह अपनी हड्डियों के गलत तरीके से बढऩे के कारण ठीक से चल नहीं पाते हैं। ऐसी स्थिति में इस समस्‍या से निपटने के लिए विकृति सुधार यानि करेक्शनल सर्जरी की आवश्यकता होती है। आमतौर पर यह नॉक-नी और बो-लेग या घुटनों के निचले हिस्से व हड्डियों के टूटने और फैक्‍चर होने के चलते होती है। अधिक जटिल व गंभीर मामलों में, लिजारोव या अस्थि-स्थिरीकरण फ्रेम लगाने से विकृति को ठीक किया जाता है। लिजारोव हड्डी और हड्डी के क्रमिक सुधार का एक रूसी मूल तरीका है, जो छल्लों और छड़ों के उपयोग से हड्डियों को लंबा या पुनव्यवस्थित करती है। लंबे समय की विकृति वाले सबसे जटिल मामलों के लिए, कंप्यूटर की सहायता से छह-अक्षीय सुधार प्रणाली या करेक्शनल सिस्टम का उपयोग किया जाता है। यह विकृति सुधार सर्जरी में सबसे अनोखी विधि है, जो सटीक और तेज सुधार को संभव करती है।

कुछ न्यूरोलॉजिकल रोगों में, टेंडन ट्रांसफर जॉइंट के किसी फंक्शन के नुकसान की भरपाई के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, तंत्रिका की चोट के बाद पैर छोडऩे के मामलों में, टेंडन ट्रांसफर टखने की गति को फिर से हासिल करने और रोगी के चलने-फिरने में सुधार के लिए किया जाता है। कॉन्जेनिटल टेक्नीक के उपयोग से अंग के जन्मजात या पश्च-आघात को भी ठीक किया जाता है, जहां एक या दोनों अंगों की लंबाई बढ़ाई जा सकती है।

कैसे उपयोगी है विकृति सुधार सर्जरी

आजकल विभिन्न प्रकार की विकृति सुधार सर्जरी की जाती हैं, जिसमें कि जैसे- ओस्टियोटमी, पेडिकल सबट्रेक्शन ओस्टियोटमी, वर्टिब्रल कॉलम रिसेक्शन और स्पिनोपेल्विक फिक्सेशन शामिल है। इन सर्जरी को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है - सुधारात्मक और पुनर्निर्माण।

सुधारात्मक सर्जरी

हड्डियों की विकृति यानि हड्डियों के टूट-फूट के मामलों में जैसे कि घुटनों या घुटनों के बल आदि में सुधारात्मक सर्जरी अंग की सामान्य शारीरिक रचना को बहाल करती है और रोगी को आम व्यक्ति की तरह चलने-फिरने और काम करने में मदद कर सक्षम बनाती है। एक मरीज को आमतौर पर इस सर्जरी के बाद किसी भी कैलीपर्स या सहायक उपकरणों की आवश्यकता नहीं होती है। इसलिए, प्राप्त किए गए कार्यात्मक परिणामों के संदर्भ में ये सबसे संतोषजनक हैं।

इसे भी पढें: कोलेस्ट्रॉल घटाने वाली दवाएं बढ़ा सकती हैं टाइप 2 डायबिटीज का खतरा: अध्ययन

पुनर्निर्माण सर्जरी 

इस सर्जरी में ऐसी प्रक्रियाएं शामिल हैं, जो अंतर्निहित बीमारी का इलाज नहीं करती हैं लेकिन उनकी जटिलताओं को ठीक करती हैं। उदाहरण के लिए, पोलियो के मामलों में, शल्यचिकित्सा संयुक्त संकुचनों को ठीक करने के लिए की जाती है ताकि रोगी पोलियो प्रभावित अंग का सर्वोत्तम तरीके से उपयोग कर सकें। सेरेब्रल पाल्सी और अन्य न्यूरोलॉजिकल या न्यूरो-मस्कुलर बीमारियों के मामले समान है। एक मरीज को आमतौर पर इन प्रक्रियाओं के बाद कैलीपर, बैसाखी या वॉकर की खासा जरूरत नहीं होती है।

सर्जरी में क्लासिक सर्जरी से लेकर पॉलीओटिक विकृति के लिए सॉफ्ट टिशू रिलीज जैसे कंप्यूटर से लेकर एडवांस सिक्स-ऐक्सिस डिफॉर्मिटी करेक्शन सिस्टम तक शामिल हैं। पोलियोटिक अंगों वाले रोगियों के जोड़ों के जुड़ाव को निर्धारित किया जाता है। ऐसे मामलों में, घुटने के जोड़ और कूल्हे के जोड़ की तरह नरम ऊतक रिलीज किया जाता है, ताकि निश्चित संकुचन को दूर किया जा सके और जोड़ों और अंगों के इष्टतम उपयोग को सक्षम किया जा सके। इसी तरह, सेरेब्रल पाल्सी जैसे स्पस्टी पैराप्लेजिया वाले बच्चों और युवा वयस्कों में, संयुक्त संकुचन को ठीक करने के लिए कंडरा लंबा या टेनोटॉमी प्रक्रिया की जाती है। टेंडन लेग्थनिंग, क्लबफुट, एएमसी और ऊपरी और निचले अंगों के न्यूरो-मांसपेशियों इन्वॉल्वमेंट के लिए  भी टेंडम और जॉइंट केप्सूल के लिए भी कोमल ऊतकों की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढें: डायबिटीज का ज्यादा इलाज भी हो सकता है घातक, वैज्ञानिकों ने किया सावधान

जोड़ों के पोलियोटिक या न्यूरो-मांसपेशियों की भागीदारी वाले कुछ पुराने रोगियों में, हड्डी को काटकर और जोड़ (ओस्टियोमॉमी) को फिर से उन्मुख करके संकुचन को ठीक किया जाता है। कटी हुई हड्डी फिर एक छड़, तार या प्लेटों के साथ तय की जाती है। इन प्रक्रियाओं के बाद, दिव्यांग बिना किसी समर्थन के स्वतंत्र रूप से आगे बढ़ सकते हैं।सभी शल्यचिकित्सा प्रक्रियाओं का लक्ष्य शारीरिक अक्षमताओं के रोगियों को प्रभावित अंग का सर्वोत्तम संभव तरीके से उपयोग करने और उन्हें अपने व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन को सर्वोत्तम रूप से फिर से जीने में करने में मदद करना है।

प्रशांत अग्रवाल, अध्यक्ष, नारायण सेवा संस्थान ने कहा, हमारे चिकित्सकों की टीम सेरेब्रल पाल्सी और पोलियो के रोगियों की 95 से अधिक दैनिक सर्जरी कर रही है। यही कारण है कि हम दिव्यांगों की इस तरह भी मदद कर पा रहे हैं।

इनपुट्स- डॉ. अमर सिंह चूंड़ावत, चीफ सर्जन, नारायण सेवा संस्थान। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK