स्‍वाद म‍हसूस न होना और पेट में दर्द भी हो सकते हैं कोरोना के छिपे हुए लक्षण, रिपोर्ट्स से हुआ खुलासा

Updated at: Mar 23, 2020
स्‍वाद म‍हसूस न होना और पेट में दर्द भी हो सकते हैं कोरोना के छिपे हुए लक्षण, रिपोर्ट्स से हुआ खुलासा

क्‍या आप जानते हैं कि स्‍वाद या गंद महसूस न होना और पेट में दर्द होना भी कोरोना वायरस के छिपे लक्षण हो सकते हैं। 

Sheetal Bisht
अन्य़ बीमारियांWritten by: Sheetal BishtPublished at: Mar 23, 2020

देश दुनिया में कोरोना वायरस एक विश्‍वव्‍यापी महामारी बन चुका है। आमतौर पर कोरोना वायरस के कुछ आम लक्षणों में सांस लेने में तकलीफ, छींकना, गले में खराश, खांसी-बुखार और जुखाम जैसे लक्षण शामिल हैं। लेकिन यदि आप खाने में स्‍वाद या किसी गंध को महसूस करने असमर्थ हैं या फिर हल्‍का पेट दर्द महसूस कर रहे हैं, तो सावधान हो जाएं, क्‍योंकि यह भी कोरोना वायरस के छिपे लक्षण हो सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे? 

पेट दर्द भी हो सकता है कोरोना वायरस का लक्षण 

Corona Virus Symptoms

द सन अमेरिकी वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया है कि पेट में दर्द, शरीर का उच्च तापमान यानि बुखार, खांसी और सांस की तकलीफ जैसे लक्षणों से पहले हो सकता है। पेपर अमेरिकन जर्नल ऑफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी में एक अध्ययन इसकी ओर इशारा करता है, जिसमें कहा गया है कि कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों को दस्त, पेट में दर्द और पाचन समस्याओं का अनुभव हो सकता है।

यह अध्‍ययन चीन के हुबेई प्रांत में 204 कोरोनोवायरस रोगियों के डेटा पर आधारित है। शोधकर्ताओं के अनुसार, इन रोगियों में से 48.5 प्रतिशत में पाचन संबंधी लक्षण जैसे कि दस्त, उल्टी और पेट में दर्द था। ये लक्षण श्वसन के लक्षणों से पहले दिखाई दे सकते हैं।

यह चीन के हुबेई प्रांत में 204 कोरोनोवायरस रोगियों के डेटा पर आधारित है। शोधकर्ताओं के अनुसार, इन रोगियों में से 48.5 प्रतिशत में पाचन संबंधी लक्षण जैसे कि दस्त, उल्टी और पेट में दर्द था। ये लक्षण श्वसन के लक्षणों से पहले दिखाई दे सकते हैं।

द सन के अनुसार, इस अध्ययन के रोगियों में COVID-19 के अधिक गंभीर मामले थे। ब्रेनन एमआर पत्रिका के सह-संपादक स्पीगेल के अनुसार, पाचन के लक्षणों वाले रोगियों में भी "मृत्यु दर का उच्च जोखिम" था। 

अचानक स्‍वाद या सूंघने में कठिनाई होना भी कोरोना वायरस का लक्षण 

अचानक से स्‍वाद खोना या सूंघने में कठिनाई महसूस होना भी कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है। स्‍वाद या गंध की अचानक हानि को एनोस्मिया या हाइपोस्मिया के रूप में जाना जाता है। 

दक्षिण कोरिया, चीन और इटली के आंकड़ों से पता चलता है कि COVID-19 वाले कई रोगियों को बिना किसी अन्य लक्षण के गंध महसूस न होना या सूंघने में सक्षम न होना भी एक लक्षण हो सकता है। वहीं, ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ ओटोरहिनोलार्यन्गोलॉजी का मानना है कि युवा लोग बुखार और खांसी के अधिक सामान्य रूप से पहचाने जाने वाले लक्षणों को पेश किए बिना इस बीमारी के शिकार हो सकते हैं, उनमें इसका लक्षण स्‍वाद न मिलने या गंद महसूस न कर पाना हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस की जांच के लिए कैसे लिया जा रहा है सैंपल? जांच के लिए जाएं तो इन बातों का रखें ध्यान

Sudden Lost Of Sense or Smell

क्‍या कहती हैं चीन, इटली और इरान जैसे कई देशों की रिर्पोट 

ब्रिटेन में प्रमुख राइनोलॉजिस्ट द्वारा संकलित साक्ष्य के अनुसार, गंध या स्‍वाद में अचानक कमी महसूस करने वाला कोई भी व्‍यक्ति कोरोनोवायरस का "छिपा हुआ वाहक" हो सकता है, भले ही उसमें कोई अन्य लक्षण न दिख रहे हों। वहीं दक्षिण कोरिया, चीन और इटली में, COVID-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण करने वाले लगभग एक तिहाई रोगियों में गंध या सूंघने की क्षमता में कमी, जिसे एनोस्मिया या हाइपोस्मिया के रूप में जाना जाता है, ऐसे लोग थे।  ब्रिटिश राइनोलॉजिकल सोसाइटी के प्रोफेसर, क्लेयर हॉपकिन्स और ब्रिटिश एसोसिएशन ओटोरहिनोलार्यन्गोलॉजी के अध्यक्ष, प्रोफेसर निर्मल कुमार ने एक संयुक्त बयान में कहा,  "दक्षिण कोरिया में, जहां परीक्षण अधिक व्यापक रहा है, सकारात्मक परीक्षण करने वाले 30% रोगियों में  एनोस्मिया या हाइपोस्मिया था।''

शोधकर्ताओं ने कहा कि दुनिया भर में कई रोगियों, जिन्होंने COVID-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया है, वे केवल बुखार और खांसी के लक्षणों के बिना, गंध और स्वाद के नुकसान के लक्षण पेश कर रहे हैं। बयान में कहा गया है, "अन्य लक्षणों की अनुपस्थिति में एनोस्मिया के साथ पेश होने वाले रोगियों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि की रिपोर्ट में तेजी से वृद्धि हुई है।" 

इसे भी पढ़ें: सिर्फ हाथ धोना नहीं बल्कि उन्हें सुखाना भी उतना ही महत्वपूर्ण है, जानें क्‍या है हाथ सुखाने का सही तरीका?

Corona Virus New Symptoms

इन लक्षणों को नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी 

"ईरान ने एनोस्मिया या हाइपोस्मिया के मामलों में अचानक वृद्धि की सूचना दी है और अमेरिका, फ्रांस और उत्तरी इटली के कई सहयोगियों के पास भी यह एक ही अनुभव है।" इन मामलों में अन्य मान्यता प्राप्त लक्षणों की कमी का मतलब हो सकता है कि उनका परीक्षण और आइसोलेशन पर ध्‍यान नहीं दिया जा रहा या संभावना नहीं है, जिसका अर्थ है कि वे दुनिया भर में कोरोनावायरस के तेजी से फैलने में योगदान दे सकते हैं।

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK