• shareIcon

स्तन कैंसर से बचाये अनार

कैंसर By Anubha Tripathi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 28, 2012
स्तन कैंसर से बचाये अनार

रिसर्च में भी यह बात साबित हो चुकी है कि अनार महिलाओं को स्तन कैंसर का शिकार होने से बचाता है।

stan cancer se bachaye anaar

स्तन कैंसर के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। महिलाओं को स्तन कैंसर से बचने के लिए इसके बारे में पूरी  जानकारी होने के अलावा खान पान पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए। स्तन कैंसर से बचने के लिए महिलाओं को अनार का सेवन करना चहिए। यूं तो अनार का इस्तेमाल हमेशा से ही स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहा है। स्तन कैंसर में इसके फायदे के बारे में पता चलने के बाद महिलाओं को अनार के दानों को नियमित खाना चाहिए।रिसर्च में भी यह बात साबित हो चुकी है कि अनार महिलाओं को स्तन कैंसर का शिकार होने से बचाता है।

 

अनार व स्तन कैंसर

 

अनार में पाए जाने वाले तत्व या फोटोकेमिकल्स एरोमाटेज एंजाइम को रोकता है। यह एंजाइम एंड्रोजन हार्मोन को एस्ट्रोजन हार्मोन में बदल देता है जो ब्रेस्ट कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होने में अहम भूमिका निभाता है। यह तत्व एरोमाटेज एंजाइम के प्रभाव को खत्म कर देता है और कैंसर से बचने में मदद मिलती है। इसके अलावा अनार में ऐसे प्राकृतिक तत्व पाए जाते हैं जो स्तन कैंसर को रोकने में प्रभावी होते हैं। स्तन कैंसर से पीड़ित ज्यादातर महिलाएं एरोमाटेज एंजाइम को खत्म करने वाली दवाएं लेती हैं जिससे एस्ट्रोजन हार्मोन का विकास नहीं हो सके।

 

क्या है स्तन कैंसर

 

स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाली खतरनाक बीमारी है। इसमें स्तनों में छोटी सी गांठ या ट्यूमर हो जाता है। शुरुआती अवस्था में इसका पता चलने पर आसानी से ठीक किया जा सकता है। लेकिन एडवांस स्टेज में पहुंचने पर इसका इलाज मुश्किल हो जाता है। आजकल महिलाओं की जीवनशैली कुछ इस प्रकार की हो गई है जिससे स्तन कैंसर की संभवाना बढ़ रही है। आकड़ों की मानें तो भारत में फिलाहल 22 महिलाओं में से एक महिला स्तन कैंसर की मरीज है। अगर यह आंकड़े इसी तरह बढ़ते रहे तो साल 2015 तक स्तन कैंसर के ढाई लाख से ज्यादा मामले सामने आने की आंशका लगाई जा रही है। चौंकाने वाली  बात यह है कि गांव से ज्यादा शहर की महिलाओं में स्तन कैंसर के मामले देखे जा रहे हैं। स्तन कैसर से बचने के लिए इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी होना ही बेहतर बचाव है।


लक्षण

  • दर्द रहित गांठ।
  • स्तन की बनावट में बदलाव।  
  • स्तन में घाव।  
  • निप्पल का अंदर घुसना।
  • निप्पल में घाव पडना।
  • निप्पल से खून आना।
  • बगल में लिम्फ नोड गांठ होना।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK