• shareIcon

स्तन कैंसर में फायदेमंद मछली का तेल

Updated at: Sep 20, 2012
कैंसर
Written by: Anubha TripathiPublished at: Sep 04, 2012
स्तन कैंसर में फायदेमंद मछली का तेल

जानें, स्तन कैंसर कैसे फायदेमंद मछली का तेल।

Stan cancer me faaydemand hai machli ka tel

महिलाओं में स्तन कैंसर एक गंभीर समस्या है। स्तन कैंसर महिलाओं को ज्यादा तर 40 साल के बाद होता है। स्तन कैंसर की प्रारंभिक अवस्था में वक्ष में एक छोटी सी गांठ होती है। यह धीरे-धीरे बढ़ती जाती है। स्तन कैंसर से पीडित महिलाओं को टैमोक्सिफेन नामकी दवा दी जाती है। हाल ही में हुए रिसर्च में पता चला है कि स्तन कैंसर में मछली के तेल का सेवन काफी फायदेमंद होता है।

 

इसे भी पढें- स्तन कैंसर से बचाये अनार

ओमेग-3 फैटी एसिड

मछली के तेल में ओमेग-3 फैटी एसिड होता है जिसके सेवन से टैमोक्सिफेन दवा   से ज्यादा प्रभावी होता है और मछली का सेवन स्तन कैंसर मरीजों के लिए सुरिक्षत और फायदेमंद होता है।



रुक जाता है ट्यूमर का विकास

स्तन कैंसर में टैमोक्सिफेन दवा के साथ मछली का तेल खाने से महिलाओं में ट्यूमर्स का विकास नहीं होता है।

 

इम्यून सिस्टम भी बनता है मजबूत


स्तन कैंसर पीड़ित महिलाओं को यदि टैमोक्सिफेन दवा दी जा रही है, तो साथ में उन्हें ओमेगा-3 फैटी एसिड वाला भोजन भी कराएं। इससे दवा और प्रभावी हो जाती है तथा ट्यूमर का विकास रूक जाता है। मछली के तेल वाला खाना जीन की गतिविधियों को और सक्रिय बनाती है, जिससे इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। इतना ही नहीं, मछली के सेवन से एलर्जी, जलन आदि क समस्या भी उत्पन्न नहीं होती है।

 

इसे भी पढें-स्तन कैंसर के साथ जीवन

स्तन कैंसर के लक्षण

  • स्तन कैंसर में स्तन पर या बांह के नीचे (बगल में) उभार या मोटापन आ जाता है।
  • निप्पल से पानी या खून आने लगता है। स्तन कैंसर में निप्पल पर परत या पपड़ी सी बन जाती है
  • निप्पल्स अंदर की ओर धंस जाते हैं।
  • स्तन पर लालिमा या सूजन आ सकती है
  • स्तन की गोलाई में कोई बदलाव जैसे एक का दूसरे की अपेक्षा ज़्यादा उभर आना
  • स्तन की त्वचा पर कोई फोड़ा या अल्सर जो ठीक न होता हो

 

इसे भी पढ़ें- ब्रेस्‍ट कैंसर के दर्द से कैसे निपटें


बचाव

  • अधिक धूम्रपान स्तन कैंसर का कारण हो सकता है।
  • शरीर का वजन संतुलित रखकर आप कैंसर का खतरा कम कर सकते हैं।
  • रोज व्यायाम करने से स्तन कैंसर होने की संभवाना कम होती है।
  • मदिरापान का सेवन सीमित करें।
  • समय-समय पर मेमोग्राफी कराएं इससे आपके स्तन में होने वाली गांठ का पता प्ररांभिक अवस्था में चल जाएगा, जिसका इलाज आसानी से हो सकेगा।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK