Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

Skin Cancer: विटामिन A के सेवन से नहीं होता स्किन कैंसर- वैज्ञानिकों ने किया दावा, जानें विटामिन A के स्‍त्रोत

कैंसर
By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 02, 2019
Skin Cancer: विटामिन A के सेवन से नहीं होता स्किन कैंसर- वैज्ञानिकों ने किया दावा, जानें विटामिन A के स्‍त्रोत

विटामिन ए हमारे स्‍वास्‍थ्‍य को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं, यह न सिर्फ स्किन कैंसर से बचाता है बल्कि आंखों, हड्डियों और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकता

एक रिसर्च का दावा है कि, विटामिन ए सामान्‍य प्रकार के स्किन कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। लगभग 125,000 अमेरिकियों पर किए गए अध्ययन में पाया गया कि विटामिन ए के उच्चतम सेवन करने वाले लोगों में स्क्वैमस सेल स्किन कैंसर (squamous cell skin cancer) का खतरा लगभग 15 प्रतिशत कम हो गया। जेएएमए डर्मेटोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित अध्‍ययन के अनुसार, वे जिन विटामिन ए का सेवन करते हैं, वह ज्‍यादातर प्राकृतिक रूप से यानी खाद्य पदार्थों से ग्रहण करते हैं। क्‍योंकि वैज्ञानिकों का मानना है कि, प्राकृतिक रूप से प्राप्‍त विटामिन सुरक्षित है। 

विटामिन ए हमारे स्‍वास्‍थ्‍य को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं, यह न सिर्फ स्किन कैंसर से बचाता है बल्कि आंखों, हड्डियों और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकता है। हालांकि, विटामिन ए का अत्‍यधिक सेवन हानिकारक भी हो सकता है। अगर आप विटामिन ए की गोलियां लेने की सोच रहे हैं तो इससे बेहतर है कि आप फलों, सब्जियों और अन्‍य खद्य पदार्थों से ले सकते हैं। आम तौर पर कुछ सप्‍लीमेंट्स और कुछ पशु खाद्य पदार्थों से ऑस्टियोपोरोसिस और हिप फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। 

अमेरिका के नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ हेल्‍थ के अनुसार, विटामिन ए का सबसे अच्‍छा स्‍त्रोत- स्‍वीट पोटैटो, खरबूजा, गाजर, लोबिया, शिमला मिर्च, ब्रोकोली, पालक, डेयरी फूड, मछली और मांस आदि हैं। यहां हम आपको कुछ विटामिन ए युक्‍त फूड्स और उनमें मौजूद विटामिन की मात्रा के बारे में बता रहे हैं।

महिला, पुरुष और बच्‍चों को विटामिन ए की जरूरत?  

एक पुरुष के लिए अपने रोजाना के आहार में 900 माइक्रोग्राम विटामिन ए की आवश्‍यकता होती है। जबकि महिलाओं को 700 माइक्रोग्राम और बच्‍चों और किशोरों को 300–600 माइक्रोग्राम विटामिन ए की आवश्‍यकता होती है। 

उच्‍च विटामिन A वाले 7 आहार- 7 Foods High in Vitamin A

विटामिन ए वसा में घुलनशील विटामिन है जो आंखों की रोशनी या दृष्टि, शरीर की वृद्धि, प्रतिरक्षा कार्य और प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखने में आवश्यक भूमिका निभाता है। आहार में विटामिन ए की कमी से कमी के कारण बालों का झड़ना, त्वचा की समस्याएं, सूखी आंखें, रतौंधी और संक्रमण बढ़ सकती है। विकासशील देशों में विटामिन ए की कमी अंधेपन का एक प्रमुख कारण है। इसके विपरीत, विकसित देशों में अधिकांश लोगों को अपने आहार से पर्याप्त विटामिन ए मिलता है।

गाजर

ज्यादातर लोग विटामिन ए के बारे में सोचते हैं, तो वे गाजर और स्वस्थ आंखों के बारे में सोचते हैं। विटामिन ए में रेटिनोल होता है जो आंखों के लिए फायदेमंद होता है। पौरूष शक्ति को बढ़ाता है। 

शकरकंद 

हाल के कुछ अध्ययनों ने विशेष रूप से बच्चों के मामले में, हमारे रक्त में विटामिन ए के स्तर को बढ़ाने के लिए शकरकंद की क्षमता को दिखाया गया है।

पालक 

पालक की तुलना में विटामिन K से भरपूर सब्जियां मिलना मुश्किल है। इसके अलावा, यह विटामिन ए और आयरन का भी बेहतरीन स्रोत है। सरसों का साग कैरोटीनॉयड के रूप में एंटीऑक्सिडेंट, फाइटोन्यूट्रिएंट्स और विटामिन ए का एक बड़ा स्रोत है।

कद्दू

कद्दू हर मौसम में मिलता है। यह अल्फा-कैरोटीन के सर्वोत्तम स्रोतों में से एक है। यह कैंसर और हड्डियों के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। 

आम 

जिन लोगों में विटामिन की कमी होती है वह संक्रमण से लड़ने में असमर्थ होते हैं। आप आम खाकर अपने शरीर में विटामिन ए की मात्रा को बढ़ा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: मुंह में सफेद पैच या दाने ओरल कैंसर के हो सकते हैं संकेत, जानिए इसे पहचानने के तरीके और इलाज

पपीता 

क्रिस्टोफर कोलंबस द्वारा पपीते को देवदूतों का आहार बताया था। इसका चमकीला-नारंगी मांस पोटेशियम और कैल्शियम के साथ विटामिन ए से भरा होता है। इसे अपनी स्मूथी में मिलाएं, इसे सलाद में मिलाएं और सेवन करें।

इसे भी पढ़ें: त्‍वचा पर लाल पपड़ीदार घाव है स्किन कैंसर के संकेत, जानें इसके प्रकार और बचाव के तरीके   

टमाटर

लाइकोपीन से भरपूर होने के अलावा, टमाटर विटामिन ए से भी भरपूर होते हैं। बीटा-कैरोटीन एक एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है जो रक्त में हानिकारक मुक्त कणों को बेअसर करता है। मुक्त कण खतरनाक होते हैं क्योंकि इससे कोशिका क्षति हो सकती है।

Read More Articles On Cancer In Hindi

Written by
Atul Modi
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागAug 02, 2019

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK