घर में जरूर रखें ये 4 मेडिकल डिवाइस, महामारी के दौरान अस्‍पताल के चक्‍कर से मिलेगा छुटकारा

Updated at: Sep 28, 2020
घर में जरूर रखें ये 4 मेडिकल डिवाइस, महामारी के दौरान अस्‍पताल के चक्‍कर से मिलेगा छुटकारा

आइए कुछ पोर्टेबल चिकित्सा उपकरणों के बारे में बात करते हैं जो इस लॉकडाउन के दौरान आपको न केवल सुरक्षित बल्कि अच्छी हालत में भी रखने के लिए ज़रूरी है।

Atul Modi
विविधWritten by: Atul ModiPublished at: Sep 28, 2020

कोरोना महामारी ने किसी भी क्षेत्र या देश को नहीं बख्शा है; इसने दुनिया भर में सरकारों को वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन लागू करने के लिए मजबूर किया है। लॉकडाउन ने व्यक्तियों की जीवन शैली की आदतों में बदलाव किया है। आवश्यक सेवाओं की श्रेणी को छोड़कर, ज्यादातर लोग लगभग 6 महीनों से घर से काम कर रहे हैं, यहां तक कि स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए, कक्षाएं ऑनलाइन हो गई हैं। जबकि यह सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने और खुद को वायरस से संक्रमित होने से बचाने के लिए टेक्नोलॉजी का उपयोग करने के लिए एक अच्छी व्यवस्था है, लेकिन इसने कुछ नई समस्याएं पैदा की हैं। यह बताया गया है कि घर से काम करने के वजह से लंबे समय तक काम करने के कारण गलत सिटिंग पॉस्चर से गर्दन, पीठ से संबंधित दर्द होता है। यह न केवल कामकाजी पैटर्न में बदलाव के कारण है, बल्कि जीवनशैली संबंधी विकारों की बढ़ती घटनाओं के कारण भी है।

टाइप 2 डायबिटीज, मोटापा और दिल की बीमारियों जैसी जीर्ण बीमारियों में पुनरावृत्ति की प्रवृत्ति होती है और यह अस्वास्थ्यकर खाने की आदतों, गतिहीन जीवनशैली, काम से संबंधित तनाव और सबसे महत्वपूर्ण नियमित व्यायाम की कमी के कारण उत्पन्न होती है। लॉकडाउन से बच्चों के साथ-साथ वयस्कों में भी मोटापे के मामलों में वृद्धि हुई है; जहां आयु सीमा नहीं है। घर पर रहकर प्रतिबंधित हल चल और दिन भर बैठे रहने के कारण पीठ दर्द, मोटापा और चिंता यह तीन मुख्य स्वास्थ्य मसले हुए है।

इस टेक्नोलॉजी-संचालित युग में, भारत ने हल्के वजन वाले और पोर्टेबल उपकरण, जिसका उपयोग हर व्यक्ति अपनी व्यक्तिगत क्षमता में कर सकता है, इनका निर्माण करते हुए स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में उन्नत किया है। आइए कुछ मेडिकल डिवाइसेस के बारे में विस्‍तार से जानते हैं।

पीठ दर्द- टेन्स (ट्रांसक्यूटेनिअस इलेक्ट्रिक नर्व स्टिमुलेटर): 

यह एक ऐसा उपकरण है जो माइक्रो-लेवल पल्स्ड करंट को उत्पन्न करता है। इन पल्सेस को दो इलेक्ट्रोड के माध्यम से दर्दनाक शरीर के अंगों पर लगाया जाता है। करंट त्वचा के माध्यम से इन इलेक्ट्रोड के बीच पास होता है और दर्द संकेतों को ब्लॉक करते हुए दर्द से राहत देता है। यह 'सेन्सरी' नर्व्स पर काम करता है। पीठ के अलावा, इसका व्यापक रूप से ग्रीवा और घुटने के दर्द में उपयोग किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: आपके लिए फायदेमंद है हाइड्रोजन पेरोक्साइड, जानें कहां करना चाहिए इसका इस्तेमाल

वेट लॉस-ओबेसिटी रिडक्शन: 

उपकरण को ईएमएस (इलेक्ट्रिक मसल स्टिमुलेटर्स) के रूप में जाना जाता है। यह टेन्स के समान है, सिवाय इसके कि पल्स्ड सिग्नल बड़ा है और 'मोटर' नर्व्स को प्रभावित करता है, जिससे मसल्स का व्यायाम होता है। मोटर नर्व्स मसल्स से पास होता हैं, और स्टिम्युलेशन के कारण व्यायाम होता है जिससे मसल्स की टोनिंग होती है। इसी के साथ कम कैलरी वाला आहार व्यक्ति को अपना वजन कम करने में मदद करेगा।

इसे भी पढ़ें: कितने नुकसानदायक है याददाश्त को बढ़ावा देने वाले सप्लीमेंट? जानें क्या कहता है अध्ययन

तनाव से राहत-सीइएस (क्रेनियल इलेक्ट्रिक स्टिम्युलेटर): 

यह उपकरण न्यूरोहोर्मोन और न्यूरोट्रांसमीटर में परिवर्तन को प्रेरित करने में मदद कर सकता है जो तनाव-संबंधित विकारों से ग्रस्त है। इलेक्ट्रोड को कान की लोब या टेम्पल पर रखा जाता है, इसका उपयोग तनाव से राहत / पावर नैप में मदद करता है। सीइएस के उपयोग के साथ-साथ सॉफ्ट म्युज़िक को सुनने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह शरीर के संपूर्ण विश्राम में मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: जानें रबिंग अल्कोहल का इस्तेमाल कहां करना है आपके लिए सही और कहां करना हो सकता है खतरनाक

ब्लड प्रेशर मॉनिटर: 

हाई ब्लड प्रेशर को साइलेंट किलर माना जाता है। बीपी की लगातार जांच के लिए एक पोर्टेबल ब्लड प्रेशर मॉनिटर एक संतुलित और स्वस्थ शरीर बनाए रखने में मदद कर सकता है। चिकित्सा उपकरणों के आगमन ने स्वास्थ्य की लगातार निगरानी को बहुत आसान बना दिया है।

शरीर के लिए जो सही है उसे करके स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखना महत्वपूर्ण है। दवा और चिकित्सा उपकरण दो मार्ग है जिनके माध्यम से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का इलाज किया जा सकता है। यह साबित हो चुका है कि दवाओं के सौम्य प्रतिकूल प्रभाव होते हैं और हर व्यक्ति का शरीर विभिन्न तरह से प्रतिक्रिया करता है। कम ज्ञात तथ्य यह है कि चिकित्सा उपकरण सामान्य से विकट स्वास्थ्य समस्याओं के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

नोट: यह लेख जोहरी डिजिटल हेल्थकेयर लिमिटेड चेयरमेन, सत्येंद्र जोहरी से हुई बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK