Smiling Depression: साइलेंट किलर है स्माइलिंग डिप्रेशन, जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव के टिप्‍स

Updated at: Jun 19, 2020
Smiling Depression: साइलेंट किलर है स्माइलिंग डिप्रेशन, जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव के टिप्‍स

तनाव जब हद से अधिक बढ़ जाता है, तो वह डिप्रेशन का रूप ले लेता है। कुछ लोगों में हंसी के पीछे भी डिप्रेशन हो सकता है, जिसे स्‍माइल डिप्रेशन कहा जाता है

Sheetal Bisht
अन्य़ बीमारियांWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jun 19, 2020

शायद किसी व्‍यक्ति की मुस्कुराहट के पीछे डिप्रेशन हो, जैसा कि बहुत से लोगों की हंसी के पीछे उसका दुख और चिंता भी छिपी हो सकती है। डिप्रेशन का कोई चेहरा या अभिव्यक्ति नहीं है। डिप्रेशन में व्यक्ति दुखी दिखे ये जरूरी नहीं है। डिप्रेशन के हालिया मामलों ने हमें सबक दिया है कि डिप्रेशन की पहचान करना इतना आसान नहीं है। डिप्रेशन के कई अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं। डिप्रेशन शब्द को अक्सर उदासी के साथ जोड़ा जाता है और जब व्‍यक्ति डिप्रेशन में होता है, तो व्यक्ति सामाजिक और भावनात्मक रूप से अलग हो जाता है। यह सच नहीं है, कभी-कभी व्‍यक्ति की मुस्‍कुराहट के पीछे भी डिप्रेशन हो सकता है। कुछ मुस्कुराते हुए लोग भी डिप्रेशन के शिकार होते हैं और इस अवस्था को स्माइलिंग डिप्रेशन कहा जाता है। इसलिए जरूरी है कि हम अपने परिवार और आसपास के लोगों के जीवन को बचाने के लिए डिप्रेशन और इसके विभिन्न प्रकारों के बारे में अधिक समझें। किसी को डिप्रेशन में खोना दिल तोड़ने वाला है और हम सभी इसे महसूस कर सकते हैं। आइए यहां इस लेख में जानें स्‍माइलिंग डिप्रेशन क्‍या है और इसके लक्षण और जोखिम कारक क्‍या हैं। 

Smiling Depression

हालांकि डिप्रेशन की व्याख्या करना आसान है लेकिन यह समझना मुश्किल है कि कोई व्यक्ति अवसाद में क्या करता है। जब तक हम खुद को नुकसान नहीं पहुंचाते, तब तक हम मानसिक स्वास्थ्य और उससे जुड़े विकारों के मूल्य को नहीं समझते हैं। उदासी के साथ डिप्रेशन की पहचान करना, मुस्कुराहट के साथ डिप्रेशन की पहचान करने की तुलना में काफी आसान है। डिप्रेशन के कारण अपरिवर्तनीय परिणामों को रोकने के लिए डिप्रेशन और तनाव जैसे मानसिक समस्‍याओं को समय पर पहचान और इलाज की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें: डिप्रेशन और तनाव का शरीर पर इन 5 तरीकों से पड़ सकता है बुरा असर, लक्षण दिखते ही हो जाएं सावधान

स्माइलिंग डिप्रेशन क्या है?

जब कोई व्यक्ति चेहरे पर एक नकली मुस्कान और सामान्य बातचीत और खुश मिजाज के साथ अपनी डिप्रेशन की स्थिति को छुपाता है, तो उसे स्माइलिंग डिप्रेशन कहा जाता है। हालांकि, यह डायग्नोस्टिक एंड स्टैटिस्टिकल मैनुअल ऑफ मेंटल डिसऑर्डर (DSM-5) में सूचीबद्ध नहीं है, लेकिन इसे नॉन-कन‍फर्मिंग लक्षणों के साथ एक प्रमुख डिप्रेसिव डिसऑर्डर (MDD) माना जाता है।

हालांकि, इसके लक्षणों को पहचानना कठिन है, लेकिन स्माइलिंग डिप्रेशन के कुछ लक्षण हैं, जो आपको संकेत दे सकते हैं कि कोई व्‍यक्ति स्माइलिंग डिप्रेशन का शिकार हो रहा है:

  • वजन में अचानक बदलाव (वजन बढ़ना और घटना)
  • भूख में कमी
  • सुस्ती या थकान
  • उन चीजों में रुचि खोना, जो पहले करना पसंद करते थे
  • आशाहीन महसूस करना 
  • अनिद्रा या सोने में दिक्‍कत 
  • एकाग्रता में कमी 
  • नकारात्मक सोच की बातें 

चूंकि स्माइलिंग डिप्रेशन एक अलग स्थिति है, तो संकेत भी क्लासिक डिप्रेशन से भिन्न होते हैं। कभी-कभी यह एम्पटी नेस्ट सिंड्रोम के कारण होता है। वे सार्वजनिक रूप से अपने चेहरे पर मुस्‍कुराहट रखते हैं, लेकिन उनका दिल दर्द महसूस करता है। 

इसे भी पढ़ें: डिप्रेशन व तनाव का कारण बन सकता है आपका गलत खानपान

यह दुर्भाग्यपूर्ण हिस्सा है कि स्माइलिंग डिप्रेशन वाले लोग क्लासिक डिप्रेशन वाले लोगों की तुलना में अधिक कमजोर होते हैं। इसका मतलब है कि वे जल्द ही एक कठोर कदम उठाने में सक्षम होते हैं। यही वजह है कि स्माइलिंग डिप्रेशन की स्थिति को सामान्य डिप्रेशन से अधिक खतरनाक माना जाता है।  

Smiling Depression Signs

स्माइलिंग डिप्रेशन के लिए जोखिम कारक

ज्यादातर मामलों में, स्माइलिंग डिप्रेशन के रोगी उच्‍च आशाओं और महत्वाकांक्षाओं वाले होते हैं। इसमें काम, रिश्तों, आदि में असफलता बड़े जीवन परिवर्तन हैं, जो उन्हें कड़ी टक्कर देते हैं। असफलताओं के साथ अवास्तविक उम्मीदों वाले लोग भी डिप्रेशन के शिकार बनने की अधिक संभावना रखते हैं। 

इसके अलावा, जो लोग पूर्णतावाद में विश्वास करते हैं, वे भी स्माइलिंग डिप्रेशन के अधिक जोखिम में होते हैं। वे अपनी भावनाओं को प्रदर्शित नहीं करना चाहते हैं और मुस्कुराहट के पीछे अपने दुख को पूरी तरह से छिपाते हैं।

डिप्रेशन से ग्रस्‍त व्‍यक्ति की कैसे मदद करें?

  • यदि आप इस स्थिति से ग्रस्‍त किसी भी व्‍यक्ति को देखते हैं या संदेह महसूस करते हैं, तो उसे अपना खूब प्यार दें, देखभाल करें और समर्थन दें। 
  • उनकी बात सुनें और सुझाव देने की कोशिश करें जो उनकी मदद कर सकें।
  • उन्हें खुश करें और उनके मनोबल और आत्मविश्वास को बढ़ाने की कोशिश करें।
  • कॉल या फिर मिल-जुल कर उनके हाल चाल जानें। अक्सर उन पर ध्‍यान दें कि वह क्‍या कर रहे हैं और कैसा महसूस कर रहे हैं। 
  • उन्हें एक हेल्‍दी डाइट को फॉलो करने के लिए कहें।
  • बेहतर इलाज के लिए उन्हें किसी मेंटल हेल्‍थ एक्‍सपर्ट या डॉक्‍टर के पास ले जाएं।

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK