• shareIcon

जानें, बालों को हाईलाइट करने के लिए कैसे चुनें टोनर

फैशन और सौंदर्य By Gayatree Verma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 10, 2016
जानें, बालों को हाईलाइट करने के लिए कैसे चुनें टोनर

बाल अधिक खराब हो गएं और आप उसे रंगने जा रहे हैं तो पहले ये पढ़ लें, हेयर कलर से अच्छा है कि आप हेयर टोनर का इस्तेमाल करें, ये लेख आपको बेहतर हेयर टोनर चुनने में मदद करेगा।

गर्मी के दिनों में बेजान हो जाते हैं और बाल रुखे और गंदे दिखने लगते हैं। ऐसे में अच्छे से अच्छा शैम्पू भी पूरा खत्म हो जाता है लेकिन बालों में जान नहीं आ पाती। अगर आपके बालों में भी गर्मी की मार पड़ी है तो हेयर टोनर की मदद लें। ये आपके बालों में जान भी लौटाएंगे और बाल इसकी वजह से शाइन भी करेंगे। क्या आप ऐसा सोच रहे हैं? अरे नहीं हम बालों को कलर करने की बात नहीं कर रहे हैं। हेयर टोनर औऱ हेयर कलर बहुत अलग है। पहले इसके बारे में जानिए।


इसे भी पढ़ें, ऐसे हेयरस्‍टाइल जो आपको दिखाते हैं जवां

हेयर कलर औऱ हेयर टोनर

  • हेयर कलर में केमिकल होते हैं जबकि हेयर टोनर केमिकल फ्री होता है।
  • हेयर कलर में अमोनिया काफी अधिक होता है जबकि हेयर टोनर में अमोनिया बिल्कुल भी नहीं होता।
  • हेयर कलर काले बालों को भूरे या सफेद बालों को काले बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जबकि टोनर सभी बालों के लिए नहीं होता। इसे डबल प्रोसेसिंग में इस्तेमाल किया जाता है। मतलब कि टोनर या तो ब्लीच्ड हेयर में यूज़ होता है या फिर सुनहरे (ब्लॉन्ड) बालों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  • सरल शब्दों में हेयर कलर बालों को रंगने का काम करता है जबकि हेयर टोनर पर्टिकुलर बाल या बालों को हाइलाइट करने का काम करता है।

बाल हाइलाइट करने के लिए टोनर

बालों के अनचाहे रंग के बाल या डैमेज बालों को कवर या रिफ्रेश करने के लिए हेयर टोनर का इस्तेमाल किया जाता है। ये बालों के लिए फायदेमंद है और रंगों की तरह कोई नुकसान नहीं पहुंचाता।

 

इसे भी पढ़ें, लेटेस्ट हेयरस्टाइल फिश ब्रेड

 

क्या करता है टोनर

रोजाना के बालों की तुलना में टोनर बालों को हाइलाइट कर उन्हें सॉफ्ट बनाता है। हेयर कलर द्वारा बालों में बनाई गई स्ट्रिक नकली लगती है जबकि टोनर द्वारा बनाए गई स्ट्रिक ज्यादा प्राकृतिक और असली लगती है। टोनर बालों को नई चमक देते हैं जिससे बाल अधिक हाइलाइट होते हैं।

 

कब जरूरी

  • कई बार लोगों को समझ नहीं आता कि टोनर का इस्तेमाल कब करना चाहिए। टोनर का इस्तेमाल बालों को अलग लुक देने के लिए करना चाहिए।
  • ये खासकर तब ज्यादा प्रभावी होता है जब बालों के बेस कलर को आप बदलना चाहते हों।
  • या फिर तब जब आप बालों को एक प्राकृतिक रंग प्रदान करना चाहते हैं।
  • जब आप अपने काले बालों को हल्के रंग में बदलना चाहते हैं या फिर बालों को मल्टी-कलर देना चाहते हैं तब टोनर का इस्तेमाल कर सकते हैं।  
  • एक बार जब आपने बालों को ब्लीच कर लिया औऱ वो हाइलाइट हो जाएं तो बालों को धोना शुरू करें। और यहीं पर टोनर का इस्तेमाल किया जाता है। टोनर आपके बालों को और अधिक हाइलाइट करता है।

 

टोनर का इस्तेमाल

जैसा कि हम पहले बता चुके हैं टोनर हेयर कलर को खत्म कर उसे हाइलाइट करता है। एक बार जब आप नया हेयर कलर इस्तेमाल कर, बालों को धो लेते हैं तब टोनर को स्ट्रोक के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं। हां, लेकिन टोनर को बालों के किनारे से इस्तेमाल करने की कोशिश करें। जब आप अपने बालों पर काम करने लगते हैं तो आप नोटिस करने लगेंगे कि बाल पहले से अधिक चमकने लगे हैं। 

 

टोनर का फायदा

  • टोनर आपके बालों के टॉपकोट की तरह काम करता है।
  • ये आपके बालों की खोई हुई चमक लौटाता है।
  • बालों को और अधिक कोमल और मजबूत बनाता है।
  • धूप और प्रदुषण से बचाता है।

 

टोनर का चुनाव

  • बालों के टोनर का चुनाव करने से पहले अपने बालों के कलर की तरफ ध्यान दें।
  • अगर बाल बहुत ज्यादा काले हैं तो उसे ब्लीच कर टोनर का इस्तेमाल करें।
  • सुनहरे बालों पर टोनर सीधे इस्तेमाल कर सकते हैं।


ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image source- getty

Read more articles on Beauty in Hindi.

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।