एक्सरसाइज रूटीन से चीट करने में नहीं है कोई नुकसान, जानें क्यों कभी कभी एक्सरसाइज नहीं करना भी है जरूरी

Updated at: Jul 27, 2020
एक्सरसाइज रूटीन से चीट करने में नहीं है कोई नुकसान, जानें क्यों कभी कभी एक्सरसाइज नहीं करना भी है जरूरी

लगातार एक्सरसाइज करने का विपरीत प्रभाव भी पड़ता है। ऐसे में छुट्टी लेना ऊर्जा बढ़ाता है और थकान को रोकता है, जो आगे के लिए हमें तैयार करता है।

Pallavi Kumari
एक्सरसाइज और फिटनेसWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jul 27, 2020

 वर्कआउट रूटीन को लगातार फॉलो करना एक अच्छी और हेल्दी आदत है, पर कभी-कभी आपको इससे भी छुट्टी लेनी चाहिए। हां, भले ही आपको ये अपने साथ चीट करने जैसा लगे पर ये आपके शरीर के लिए फायदेमंद है। दरअसल कभी-कभी आपको अपने रूटीन से ब्रेक लेना चाहिए। ये सिर्फ आपको एक्सरसाइज एडिक्ट होने से ही नहीं बचाता, बल्कि आपके मनोबल को भी बनाए रखता है। इसके अलावा शरीर को इस एक्सरसाइज फास्टिंग से कई लाभ भी मिलते हैं। इस नियमित ब्रेक लेने से आपके शरीर को ठीक होने और मरम्मत करने की अनुमति मिलती है, तो ये आपके फिटनेस स्तर केप्रगति को भी बेहतर बनाता है। तो आइए जानते हैं शरीर के लिए कैसे फायदेमंद है कभी-कभी एक्सरसाइज न करना।

insideNOEXERCISE

कैसे फायदेमंद है कभी-कभी एक्सरसाइज न करना (Skipping The Gym Benefits)?

1. शरीर को मिलता है रिकवरी का समय

आम धारणा के विपरीत, एक दिन एक्सरसाइज न करने और सोफे पर आलसी बन कर सोए रहने के कई फायदे हैं। इस समय के दौरान शरीर पर एक्सरसाइज का लाभकारी प्रभाव पड़ता है। विशेष रूप से, मांसपेशियों की वृद्धि के लिए। व्यायाम आपके मांसपेशियों के ऊतकों में सूक्ष्म जगहे बनाता है। लेकिन आराम के दौरान, फाइब्रोब्लास्ट नामक कोशिकाएं इसकी मरम्मत करती हैं। यह ऊतक को ठीक करने और बढ़ने में मदद करता है, जिसके परिणामस्वरूप मांसपेशियां मजबूत होती हैं। इसके अलावा, आपकी मांसपेशियां कार्बोहाइड्रेट को ग्लाइकोजन के रूप में संग्रहित करती हैं। व्यायाम के दौरान, आपका शरीर आपके वर्कआउट को पूरा करने के लिए ग्लाइकोजन को तोड़ता है। इसलिए अपने अगले वर्कआउट से पहले इन ऊर्जा भंडारों को फिर से भरने के लिए अपने शरीर को आराम दें।

इसे भी पढ़ें : वेट लिफ्टिंग से पहले या बाद में कितना जरूरी है कार्डियो वर्कआउट, जानें आपके लिए कब है फायदेमंद

2. मांसपेशियों की थकान को रोकता है

एक्सरसाइज के कारण होने वाली थकान से बचने के लिए आराम आवश्यक है। याद रखें, व्यायाम आपकी मांसपेशियों के ग्लाइकोजन स्तरों को कम करता है। ग्लाइकोजन स्तरों को अगर फिर से न भरा जाए, तो ये आपके शरीर में मांसपेशियों की थकान और खराश का अनुभव करवा सकता है। साथ ही, आपकी मांसपेशियों को कार्य करने के लिए ग्लाइकोजन की आवश्यकता होती है, तब भी जब आप काम नहीं कर रहे होते हैं। पर्याप्त आराम मिलने से, आप अपने ग्लाइकोजन स्टोर फिर से भर पाएंगे।

insideexercise

3. चोट के जोखिम को कम करता है

व्यायाम के दौरान सुरक्षित रहने के लिए नियमित आराम आवश्यक है। जब आपके शरीर को ओवर वर्क करवाया जाता है, तो वो वो चोटिल हो सकता है। वहीं इससे शरीर को फायदा पहुंचने की जगह नुकसान भी हो सकता है। ओवरट्रेनिंग आपकी मांसपेशियों को दोहराए जाने वाले तनाव को और भी उजागर करता है। यह अत्यधिक चोटों के जोखिम को बढ़ाता है, आपको नियोजित की तुलना में अधिक आराम करने के लिए मजबूर करता है।

इसे भी पढ़ें : 10 मिनट बैठने पर पैर हो जाते हैं सुन्न? 5 मिनट में ये 5 एक्सरसाइज कर दुरुस्त करें अपने पैरों का ब्लड सर्कुलेशन

4. प्रदर्शन में सुधार

जब आपको पर्याप्त आराम नहीं मिलता है, तो अपनी सामान्य दिनचर्या को पूरा करना कठिन हो सकता है। साथ ही ये अकेले अपने आप को चुनौती देने जैसा लग सकता है। यहां तक कि अगर आप अपने आप को बिना मन के एक्सरसाइज करने के लिए धक्का देते हैं, तो ओवरट्रेनिंग आपके प्रदर्शन को कम कर देता है। आप कम धीरज, धीमी प्रतिक्रिया और एक्सरसाइज करने में समय बर्बाद करना महसूस कर सकते हैं।

नियमित व्यायाम आपकी नींद में सुधार कर सकता है, पर जब आप इससे छुट्टी लेकर सोते हैं, तो इससे शरीर को और फायदा हो सकता है। इससे कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन जैसे ऊर्जा बढ़ाने वाले हार्मोन बढ़ते हैं। हालांकि, लगातार व्यायाम इन हार्मोन को ओवरप्रोड्यूस करता है, जो शरीर के लिए और नुकसानदेह हो सकता है।

Read more articles on Exercise and Fitness in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK