हाई इंटेंसिटी वर्कआउट बढ़ा सकते हैं आपके चेहरे की झुर्रियां, जानें एक्सरसाइज और स्किन एजिंग के बीच का कनेक्शन

Updated at: Jun 23, 2020
हाई इंटेंसिटी वर्कआउट बढ़ा सकते हैं आपके चेहरे की झुर्रियां, जानें एक्सरसाइज और स्किन एजिंग के बीच का कनेक्शन

एक्सरसाइज और स्किन एजिंग के बीच एक गहरा कनेक्शन है, जो बताता है कि कैसे कुछ व्यायाम करना चेहरे की झुर्रियों का बढ़ा सकता है।

Pallavi Kumari
त्‍वचा की देखभालWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jun 23, 2020

एस्सरसाइज शरीर के तमाम अंगों के लिए फायदेमंद है। पर बात सिर्फ त्वचा की देखभाल की करें, तो कुछ खास एक्सरसाइज और योग हैं, जिनकी मदद से आप अपनी त्वचा को खूबसूरत बनाए रख सकते हैं। चाहे योग करना हो या डांस करना, त्वचा से पसीना निकलना आपकी त्वचा के लिए भी बेहद फायदेमंद हो सकता है। व्यायाम से हृदय गति बढ़ती है और रक्त परिसंचरण में भी सुधार हो सकता है। यह बदले में त्वचा को ऑक्सीजन और पोषक तत्वों के वितरण में सुधार कर सकता है जो त्वचा को स्वस्थ रख सकता है। पर आपने कभी इस बात पर ध्यान दिया है कि एक्सरसाइज करना कैसे आपकी एंजिंग पर असर डाल सकता है। नहीं, तो आइए आज हम इसी के बारे में विस्तार से जानते हैं।

insideyoga

व्यायाम और त्वचा की उम्र बढ़ने के बीच क्या है संबंध ?

दुनिया में कई शोध किए गए हैं जो बताते हैं कि कैसे व्यायाम त्वचा की उम्र को धीमा कर सकता है। व्यायाम से त्वचा कोशिकाओं की माइटोकॉन्ड्रिया की गतिविधि बढ़ जाती है, जो कि बैटरी की तरह होती हैं और कोशिकाओं को कुशलता से चलाती हैं। व्यायाम पूरे शरीर में परिसंचरण को बढ़ाता है और पफपन को कम करने के लिए लसीका द्रव को हटा देता है। वहीं कई एक्सरसाइज ऐसे भी हैं, जो  झुर्रियों को कम करने में (Anti-Aging Facial Exercises) भी मदद करते हैं। पर कुछ एस्सरसाइज ऐसे भी हैं, जो आपके चेहरे की झुर्रियों और एक्ने को कम कर सकते हैं।

insidewrinkles

इसे भी पढ़ें : महिलाओं को वर्कआउट के बाद इन 3 स्ट्रेचिंग से मिलेगी लचीली बॉडी, मांसपेशियों का तनाव होगा दूर

हाई इंटेंसिटी वर्कआउट बढ़ा सकते हैं आपके चेहरे की झुर्रियां

हाई इंटेंसिटी वर्कआउट (HIIT) अगर लगातार किया जाए, तो चेहरे की युवा चर्बी कम हो सकती है। जब हम 30 के दशक की शुरुआत में होते हैं, तो हमारी त्वचा के लोच को खोने लगती है और कोलेजन के नुकसान के साथ आंखों और सिर में फैट का नुकसान होने लगता है। वहीं मुंह के कोने और जबड़े के कोण पर तो हाई इंटेंसिटी वर्कआउट का उच्च प्रभाव पड़ता है। साथ ही बहुत दौड़ने और कूदने वाले वर्कआउट का मतलब ऊपर और नीचे की ताकतों से है, जो आपकी त्वचा पर खिंचाव डालते हैं और सैद्धांतिक रूप से समय से पहले फाइन लाइनों को जन्म दे सकते हैं। सुस्त त्वचा वाले लोगों के लिए, कार्डियो व्यायाम एक चमक को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। वहीं चेहरे में चमक के लिए त्वचा पर फेशियल मसाज करने की सलाह दी जाती हैं क्योंकि यह रक्त के प्रवाह और चेहरे की ऑक्सीजन को बढ़ाता है जिससे त्वचा का कायाकल्प होता है और इसे कम रखने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें : प्रियंका चोपड़ा से लेकर जेनिफर एनिस्टन की पसंद है ये इलेक्ट्रिक फेशियल, 4 से 12 मिनट में आता है चेहरे पर ग्लो

क्या व्यायाम मुंहासे को प्रभावित करता है?

किशोरअवस्था के मुंहासे या वयस्क मुंहासे विशेष रूप से महिलाओं में हार्मोनल मुद्दों से जुड़े होते हैं और पीसीओएस के कारण एंड्रोजन की गड़बड़ी होने से ये होने लगता है। यह स्थिति इंसुलिन प्रतिरोध नामक चीज से भी जुड़ी हुई है। हालांकि, अगर आपके मुंहासे अक्सर तनाव में पसीने और स्पाइक्स द्वारा फुलाए जाते। वहीं उच्च तीव्रता वाले व्यायाम के साथ कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं और एक्ने को कम कर सकते हैं। वहीं इसकी जगह, अगर आप टहलने, योग और कार्डियो करने की कोशिश करते हैं, तो इससे आपके मुंहासे कम हो सकते हैं।

Read more articles on Skin-Care in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK