• shareIcon

Shraddha Kapoor Anxiety: आशिकी 2 'के बाद से एंग्जाइटी का शिकार हैं श्रद्धा, जानें लक्षण और उपचार का तरीका

अन्य़ बीमारियां By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 13, 2019
Shraddha Kapoor Anxiety: आशिकी 2 'के बाद से एंग्जाइटी का शिकार हैं श्रद्धा, जानें लक्षण और उपचार का तरीका

एक्शन थ्रिलर 'साहो' और  'छिछोरे' के लिए सुर्खियों बटोर रही बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर पिछले छह वर्षों से एंग्जाइटी से जूझ रही हैं। श्रद्धा ने हाल ही में अपने एक इंटरव्यू में इस बात की जानकारी दी। श्रद्धा ने बताया है कि 'आशिकी 2 'के बाद से

दौड़ती-भागती जिंदगी और व्यस्त जीवनशैली के कारण लोगों में एंग्जाइटी (Anxiety)यानी की चिंता होना एक आम बात है। बदलते वक्त में रिश्तों में विश्वास की कमी, दूसरों से आगे निकलने की ललक और असुरक्षा की भावना ने कहीं न कहीं एंग्जाइटी को बढ़ाने का काम किया है। एंग्जाइटी से न केवल आम आदमी बल्कि नई उम्र के बॉलीवुड सितारें भी शिकार होने लगे हैं। एक्शन थ्रिलर 'साहो' और  'छिछोरे' के लिए सुर्खियों बटोर रही बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर पिछले छह वर्षों से एंग्जाइटी से जूझ रही हैं। श्रद्धा ने हाल ही में अपने एक इंटरव्यू में इस बात की जानकारी दी। श्रद्धा ने बताया है कि 'आशिकी 2 'के बाद से वह एंग्जाइटी से लड़ रही हैं।

एंग्जाइटी के बारे में एक साइट से बात करते हुए श्रद्ध भावुक हो गईं और उन्होंने बताया, ''  मुझे नहीं पता था कि एंग्जाइटी क्या होती है और न ही लंबे समय तक इसके बारे में पता चला। 'आशिकी 2' के बाद से मेरे शरीर में एंग्जाइटी के लक्षण दिखाई देने लगे थे। शरीर में अजीब सा दर्द रहता, जिसका किसी भी टेस्ट में पता नहीं चला। कई टेस्ट कराने के बावजूद डॉक्टर कुछ नहीं बता पाए। सबसे अजीब बात ये थे कि मैं हमेशा सोचती रहती थी मुझे दर्द क्यों हो रहा है लेकिन कोई जवाब नहीं मिलता था। खुद से पूछा करती थी ये मुझे क्या हो रहा है।''

जल्द ही बागी 3 में नजर आने वाली श्रद्धा ने बताया, ''अब मैंने इससे लड़ने का तरीका ढूंढ लिया। अब मैं इससे लड़ रही हूं और पहले से बेहतर हूं।'' 

श्रद्धा के अलावा ऐसे बहुत से लोग हैं, जो एंग्जाइटी से जूझ रहे हैं लेकिन उन्हें नहीं पता कि ऐसा उनके साथ कब से हो रहा है।

कई अध्ययनों से पता चलता है कि एंग्जाइटी से ग्रस्त लोगों की याद्दाश्त भी कमजोर होने लगती है। अगर आप को भी हमारे बताए लक्षण दिखाई दे तो समझ लीजिए आप भी एंग्जाइटी से जूझ रहे हैं। लेकिन घबराएं नहीं इसका इलाज आप खुद ब खुद कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः अक्सर रहती है घबराहट और बैचेनी तो आजमाएं ये 5 उपाय, ज्यादा देर नहीं रहेगी परेशानी

एंग्जाइटी के लक्षण (Anxiety Symptoms)

  • जरा-जरा सी बातों को लेकर सोचते रहना।
  • जब भी कोई व्यक्ति परेशान होता है, तो उसका सिंपैथेटिक नर्वस सिस्टम (Sympathetic Nervous System)तेजी से काम करने लगता है, जिसके चलते दिल की धड़कन बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।
  • पसीना आना, कांपना और मुंह सूखने लगता है।
  • बेचैनी, असहजता और घबराहट महसूस होना।
  • थकान महसूस होना।
  • थकान के कारण सिर दर्द होना।
  • चिड़चिड़ापन होना। 
  • लोगों से मिलने में परेशानी।

इसे भी पढ़ेंः किडनी के लिए धीमा जहर साबित होती है ये 4 चीजें, महिलाएं और पुरुष दोनों ही शिकार

एंग्जाइटी का उपचार (Anxiety Treatment)

  • एंटीसाइकोटिक्स, एंटीकोनवल्सेंट और एंटीड्रिप्रेसेंट दवाएं चिंता के लक्षणों को कम कर सकती हैं।
  • मनोचिकित्सक का सहारा लें क्योंकि यह आपकी बातों को समझने में आपकी मदद करते हैं।
  • व्यवहार में बदलाव लाएं।
  • जीवनशैली और आहार में परिवर्तन।
  • लोगों से मिलें नहीं तो किसी एनजीओ में शामिल हो जाएं ताकि आपका मन लगा रहे।
  • आराम करें क्योंकि यह चिंता से निपटने में आपकी मदद करेगा।

एंग्जाइटी के मुख्य चार प्रकार (Anxiety Types)

  • सामान्यीकृत एंग्जाइटी डिसॉर्डर (जीएडी)
  • पैनिक डिसऑर्डर
  • फोबियाज
  • सोशल एंग्जाइटी डिसॉर्डर

Read More Articles On Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK