• shareIcon

जुकाम, खांसी और गले में दर्द है सीजनल एलर्जी के लक्षण, एक्सपर्ट से जानें बचाव के टिप्स

अन्य़ बीमारियां By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 12, 2019
जुकाम, खांसी और गले में दर्द है सीजनल एलर्जी के लक्षण, एक्सपर्ट से जानें बचाव के टिप्स

बच्चा अगर बहुत ज्यादा थकान का शिकार होता हो, उसे सर्दी-जुकाम बना रहता हो, नाक में खुजली हो तो इसे एलर्जी हो सकती है। बच्चों की रोग प्रतिरोधक कमजोर बड़ो की तुलना में कमजोर होने के कारण बच्चे जल्दी एलर्जी का शिकार हो जाते है। 

 <

मौसम बदलने के कारण जो एलर्जी होती है उसे सीजनल एलर्जी कहते है, जिसमें जुकाम, खांसी, गला खराब होना और बुखार आदि शामिल है। बच्चा अगर बहुत ज्यादा थकान का शिकार होता हो, उसे सर्दी-जुकाम बना रहता हो, नाक में खुजली हो तो इसे एलर्जी हो सकती है। बच्चों की रोग प्रतिरोधक कमजोर बड़ो की तुलना में कमजोर होने के कारण बच्चे जल्दी एलर्जी का शिकार हो जाते है। गुरुग्राम स्थित नारायणा सुपर स्पेशेलिटी अस्पताल के इंटरनल मेडिसिन के एचओडी एंड डारेक्टर डॉ सतीश कौल ने बच्चों को सीजनल एलर्जी से बचाने और इसके लक्षणों के बारे में कुछ सुझाव दिए हैं, जिनका सहारे आप अपने बच्चों को इस सीजनल एलर्जी से बचा सकते हैं।

सीजनल एलर्जी से बच्चों में बीमारियां 

मौसम में बदलाव से बच्चों में दूषित पानी और खान-पान के कारण एलर्जी से दस्त, पीलिया और डायरिया जैसी बीमारियां हो सकती है।

इसे भी पढ़ेंः फ्लू वैक्सीन से जुड़े ये पांच झूठ, जिसे लोग अक्‍सर मानते हैं सच

सीजनल एलर्जी के लक्षण

सीजनल एलर्जी के लक्षणों में आंखों में जलन होना, जुकाम, गला खराब होना, बहती नाक या बंद नाक, उल्टी, दस्त, कमजोरी और बुखार मुख्य रूप से शामिल है।

सीजनल एलर्जी से बचाव के तरीके

  • अगर आप एलर्जी से बचना चाहते हैं, तो अपने घर के आस पास गंदगी को न रहने दें। 
  • अपने घरों में अधिक से अधिक खुली और ताजा हवा आने दें। 
  • जिन खाद्य पदार्थों से आपको एलर्जी होती है उन्हें न खाएं।
  • बरसात के मौसम में नमी से बचे और इसके अलावा एकदम गरम से ठन्डे और ठन्डे से गरम वातावरण में न जाएं।
  • बाहर निकलते समय मुंह पर ढ़क कर बाहर निकलें।  
  • पालतू जानवरों से दूर रहें। अगर उनसे एलर्जी है तो उन्हें घर में ना रखें।
  • ज़िन पौधों के पराग कणों से एलर्जी है उनसे दूर रहे। 
  • धूल मिटटी से बचें, यदि धूल मिट्टी भरे वातावरण में काम कर रहे है तो फेस मास्क पहन कर काम करें।

सीजनल एलर्जी से उपचार के तरीके

बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से उपचार के लिए हमें एलर्जी से बचाव करना चाहिए। बाहर निकलते समय मुंह ढ़क कर निकलना, बाहर का भोजन न करना, मार्केट में मिलने वाले पेय पदार्थ जैसे कोल्ड ड्रीक, गन्ने का जूस, गोलगप्पे के सेवन से बचें। इन उपायों से आप बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से बच सकते है। 

इसे भी पढ़ेंः मलेरिया की पहचान पर खुद से न लें पेनकिलर, नहीं तो हो सकती हैं ये गंभीर समस्याएं

माता-पिता बच्चों को इस बीमारी से कैसे बचाएं और उन्हें कैसे इससे दूर रखें?

बच्चों को बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से बचाने के लिए माता-पिता को अपने बच्चे पर विशेष ध्यान देना चाहिए। यदि बच्चे को धुल- मिट्टी से एलर्जी है तो बाहर खेलने के दौरान नाक पर कपड़ा बांधकर रखना चाहिए। इसके लिए बच्चों को बाहर का खाना, गोलगप्पे, गन्ने का जूस नहीं देना चाहिए। जितना हो सके बच्चों को घर का बना हुआ फ्रेश खाना की खिलाएं, बासी खाना ना दें। उल्टी और दस्त की शिकायत होने पर ओआरएस का घोल पिलाएं।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK