संजय दत्त को हुआ फेफड़ों का कैंसर, इलाज के लिए जाएंगे अमेरिका! जानिए लंग कैंसर के लक्षण और उपचार क्‍या हैं?

Updated at: Aug 12, 2020
संजय दत्त को हुआ फेफड़ों का कैंसर, इलाज के लिए जाएंगे अमेरिका! जानिए लंग कैंसर के लक्षण और उपचार क्‍या हैं?

संजय दत्त के लंग कैंसर स्टेज-3 से पीड़ित होने की खबर ने उनके फैंस को हिला कर रख दिया है। हालांकि बाबा ने जल्द ठीक होकर वापस लौटने की बात कही है।  

Jitendra Gupta
कैंसरWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Aug 12, 2020

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता संजय दत्त के लंग कैंसर स्टेज 3 (Sanjay dutt lung cancer stage 3) डायगनोस होने की खबर ने उनके फैंस और फिल्म इंडस्ट्री को हिला कर रख दिया है। संजय दत्त को छाती में दर्द और सांस लेने में परेशानी के बाद 8 अगस्त को मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनका कोरोना टेस्ट (sanjay dutt corona test) भी हुआ था।

हालांकि कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव (sanjay dutt corona report negative) आने के बाद उन्होंने अपना फुल बॉडी चेक अप करवाया,  जिसकी रिपोर्ट में उनके लंग कैंसर स्टेज 3 (Sanjay dutt diagnose lung cancer stage 3) से पीड़ित होने की बात सामने आई है। इस बात के सामने आते ही बीती शाम संजय दत्त ने ट्विटर पर एक पोस्ट के माध्यम से अपने फैंस को बताया कि वह अपने इलाज के लिए काम (फिल्मों) से कुछ समय का ब्रेक ले रहे हैं। 

दत्त ने कहा, ‘‘मैं उपचार के लिए काम से थोड़ा ब्रेक ले रहा हूं। मेरा परिवार और दोस्त मेरे साथ हैं और मैं अपने शुभचिंतकों से चिंता नहीं करने और बेवजह अटकलें नहीं लगाने की अपील करता हूं। आपके प्यार और शुभकामनाओं से मैं जल्द लौटूंगा।’’ 

संजय दत्त के करीबियों ने जानकारी दी है कि संजय लंग कैंसर स्टेज 3 के इलाज के लिए अमेरिका गए हैं और वहां से जल्द ही ठीक हो कर लौटेंगे। 

फेफड़े हमारे शरीर का अभिन्न और बेहद ही जरूरी हिस्सा है लेकिन हमारी गतिहीन जीवनशैली ने हमारे इस अंग का जीवन कम कर दिया है। हेल्थलाइन के मुताबिक, दुनियाभर में लगभग 40 प्रतिशत लोग फेफड़ों के कैंसर (lung cancer) का शिकार होते हैं और इस रोग का उनमें पता तब चलता है जब ये कैंसर एडवांस स्टेज में पहुंच जाता है। बता दें कि इनमें से एक तिहाई लंग कैंसर के केस स्टेज 3 तक पहुंच जाते हैं। 

अमेरिकन कैंसर सोसायटी के अनुसार, लगभग 80 से 85 प्रतिशत लंग कैंसर,  नॉन स्मॉल सेल लंग कैंसर (एनएससीएलसी) होते हैं और लगभग 10 से 15 प्रतिशत स्मॉल सेल लंग कैंसर (एससीएलसी) के मामले होते हैं। इन दोनों प्रकार के लंग कैंसर का अलग-अलग तरीके से इलाज किया जाता है। हालांकि दोनों में बचने की दर अलग-अलग होती है। स्टेज 3 लंग कैंसर उपचार योग्य है लेकिन ये कई कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें कैंसर की स्टेज, उपचार योजना और व्यक्ति का समग्र स्वास्थ्य शामिल हैं। तो आइए जानते हैं स्टेज 3 लंग कैंसर के लक्षणों, उपचार और ऐसी कुछ जानकारियों के बारे में जो इस रोग को घातक बनाता है। 

इसे भी पढ़ेंः  फेफड़ों के कैंसर से अपना बचाव करने के लिए अपनाएं ये 4 आसान तरीके

cancer

स्टेज 3 श्रेणियां (Stage 3 categories)

जब लंग कैंसर स्टेज 3 तक पहुंच जाता है, तो यह व्यक्ति के फेफड़ों के आस-पास मौजूद टिश्यू या लिम्फ नोड्स को अपनी चपेट में ले चुका होता है। स्टेज 3 लंग कैंसर की व्यापक श्रेणी को दो समूहों में बांटा गया है, स्टेज 3 ए और स्टेज 3 बी।

दोनों स्टेज 3 ए और स्टेज 3 बी ट्यूमर के आकार, स्थान और लिम्फ नोड इंवोलवमेंट के आधार पर विभाजित की जाती है। 

स्टेज 3 ए लंग कैंसर: शरीर का एक तरफ का हिस्सा

स्टेज 3 ए लंग कैंसर को एडवांस रूप माना जाता है। इसका मतलब यह है कि ये कैंसर व्यक्ति की छाती के एक हिस्से में बने ट्यूमर के रूप में लिम्फ नोड्स में फैल चुका होता है। लेकिन ये शरीर के अन्य हिस्सों में नहीं फैला है, जो खासकर दूर होते हैं। 

ये कैंसर ज्यादातर हमारे मुख्य ब्रोन्कस, लंग लाइनिंग, चेस्ट वॉल, डायाफ्राम या हृदय के आसपास की झिल्ली को अपनी चपेट में ले सकता है। इसके अलावा इस स्टेज में आपकी हृदय रक्त वाहिकाएं, श्वासनली, अन्नप्रणाली, आपकी आवाज को नियंत्रित करने वाली तंत्रिका, छाती की हड्डी या रीढ़ या कैरिना (श्वासनली ब्रोन्ची में शामिल होती है) क्षेत्र को भी अपना शिकार बना सकता है। 

स्टेज 3 बी लंग कैंसरः ट्यूमर का विपरीत दिशा में फैलना 

स्टेज 3 बी लंग कैंसर ज्यादा एडवांस माना जाता है। इसमें ट्यूमर अपनी विपरित दिशा से लेकर कॉलरबोन के ऊपर लिम्फ नोड्स में फैल जाता है। 

स्टेज 3 सी लंग कैंसर: पूरे सीने में ट्यूमर का फैल जाना

स्टेज 3 सी लंग कैंसर चेस्ट वॉल या उसके अंदरूनी हिस्से, फ्रेनिक नर्व (phrenic nerve), या मेंमबरेन के चारों ओर फैल जाता है और व्यक्ति के हृदय को घेर लेता है। 

लंग कैंसर,  स्टेज 3 सी में तक भी पहुंच जाता है, जब फेफड़े के एक ही हिस्से में दो या दो से अधिक अलग ट्यूमर नोड्यूल्स पास के लिम्फ नोड्स में फैल जाते हैं। स्टेज 3 सी में, फेफड़े का कैंसर शरीर के दूर के हिस्सों में नहीं फैलता है। स्टेज 3 ए की तरह, स्टेज 3 बी और 3 सी कैंसर छाती की अन्य संरचनाओं में फैल जाते हैं जिसके कारण इन भाग या फेफड़े के सभी भागों में सूजन हो सकती हैं।

lungcancer

स्टेज 3 लंग कैंसर के लक्षण (Stage 3 lung cancer symptoms)

लंग कैंसर के प्रारंभिक चरण में कोई दिखाई देने वाले लक्षण व्यक्ति को महसूस नहीं होते हैं। हालांकि ध्यान देने योग्य लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि अचानक से हल्की खांसी या धूम्रपान करने के बाद होने वाली खांसी में बदलाव (अधिक बलगम या खून निकलना) । ये लक्षण संकेत दे सकते हैं कि कैंसर स्टेज 3 में पहुंच चुका है।

स्टेज 3 के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • सांस लेने में तकलीफ होना, सांस फूलना या सांस न आना। 
  • छाती के हिस्से में दर्द। 
  • सांस लेते समय घरघराहट की आवाज होना। 
  • आवाज में बदलाव । 
  • बेवजह वजन में कमी आना। 
  • हड्डी में दर्द (पीठ में हो सकता है और रात में और ज्यादा तेज दर्द) 
  • सिरदर्द। 

इसे भी पढ़ेंः  इन तरीकों से करें फेफड़ों के कैंसर की पहचान, जानें कैसे आपको करना चाहिए बचाव

स्टेज 3 लंग कैंसर का इलाज (Stage 3 lung cancer treatment)

स्टेज 3 लंग कैंसर के उपचार में आमतौर पर कीमोथेरेपी और रेडियेशन के बाद ट्यूमर को जितना संभव हो सकता है उतना सर्जरी के माध्यम से निकाल लिया जाता है। स्टेज 3 बी के लिए आमतौर पर अकेले सर्जरी की सलाह नहीं दी जाती है। अगर आपके डॉक्टर को ट्यूमर को हटाने के लिए सर्जरी संभव नहीं दिखाई दे रही है तो वे उपचार के पहले कोर्स के रूप में रेडियेशन या कीमोथेरेपी की सलाह दे सकता है। राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के अनुसार, रेडियेशन या कीमोथेरेपी के जरिए उपचार साथ-साथ या फिर अलग-अलग स्टेज 3 के सर्वेाइवल रेट से जुड़ा हुआ है क्योंकि सिर्फ रेडियेशन से उपचार में व्यक्ति के बचने की संभावना कम हो जाती है।

स्टेज 3 फेफड़े के कैंसर में बचने की दर (Stage 3 lung cancer life expectancy and survival rate)

लंग कैंसर का पता लगने के बाद जो लोग पांच साल तक जीवित रहते हैं उनका सर्वाइवल रेट काफी बेहतर होता है। लंग कैंसर में जीवित रहने की दर इस बात पर निर्भर करती है कि व्यक्ति में जब कैंसर का पता चला तो वह किस स्टेज में था। 1999 और 2010 के बीच फेफड़ों के कैंसर के निदान वाले लोगों के एक डेटाबेस से प्राप्त अमेरिकन कैंसर सोसायटी के आंकड़ों के अनुसार, स्टेज 3 ए (एनएससीएलसी) में पांच साल की जीवित रहने की दर लगभग 36 प्रतिशत थी। वहीं स्टेज 3 बी कैंसर में जीवित रहने की दर लगभग 26 प्रतिशत थी जबकि स्टेज 3 सी कैंसर में जीवित बचने वालों की दर लगभग 1 प्रतिशत थी। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि लंग कैंसर का एडवांस रूप किसी भी व्यक्ति की जान ले सकता है। समय पर निदान ही लंग कैंसर से आपको बचा सकता है। 

Read More Articles on Cancer in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK