डायबिटीज मरीजों को कोविड के दौरान क्यों है रेटिनोपैथी (आंखों की बीमारी) का ज्यादा खतरा? जानें कारण और इलाज

Updated at: Mar 06, 2021
डायबिटीज मरीजों को कोविड के दौरान क्यों है रेटिनोपैथी (आंखों की बीमारी) का ज्यादा खतरा? जानें कारण और इलाज

कोव‍िड 19 ने हम सबकी जीवनशैली बदल दी है ज‍िसके चलते डायब‍िटीज मरीजों में रैट‍िनोपैथी का खतरा बढ़ रहा है ज‍िसका कारण है व‍िटाम‍िन डी की कमी

Yashaswi Mathur
डायबिटीज़Written by: Yashaswi MathurPublished at: Mar 06, 2021

कोव‍िड महामारी के दौरान डायब‍िटीज मरीजों को क्‍यों है रेट‍िनोपैथी (आंखों की बीमारी) का खतरा? कोरोना महामारी के चलते ज्‍यादातर लोग घरों से बाहर कम न‍िकल रहे हैं ज‍िस कारण पूरी सर्द‍ियां उन्‍हें धूप से म‍िलने वाला व‍िटाम‍िन डी नहीं म‍िला और अब गर्मी के द‍िन लौट आए हैं जब हम वैसी भी बाहर नहीं न‍िकलना चाहेंगे ज‍िस कारण से शरीर में व‍िटाम‍िन डी की कमी हो सकती है। व‍िटाम‍िन डी की कमी डायब‍िटीज मरीजों के ल‍िए ठीक नहीं हैं क्‍योंक‍ि इससे उन्‍हें आंखों की बीमारी रैट‍िनोपैथी हो सकती है। कोव‍िड के चलते ऐसे मरीजों के बढ़ने की आशंका बढ़ गई है। घरों से काम करने के चलते न खानपान ठीक है और न बाहर न‍िकला जा सकता है ऐसे में आप शरीर में व‍िटाम‍िन डी की कमी न होने दें। व‍िटाम‍िन डी की कमी से आंखों की नसों पर जोर पड़ता है और आपको धुंधला द‍िखने लगता है, आंखों की रौशनी कम हो जाती है। इस बारे में ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

retinopathy in corona

कोरोना काल में डायब‍िटीज मरीजों को क्‍यों है रेट‍िनोपैथी का खतरा? (Retinopathy in diabetic patient during COVID 19)

रेट‍िनोपैथी एक बीमारी है ज‍िसमें डायब‍िटीज से पीड़‍ित व्‍यक्‍त‍ि की आंख का रेट‍िना यानी पर्दा इफेक्‍ट होता है। रेटि‍ना तक ब्‍लड नहीं पहुंच पाता। आपको समय पर इसका इलाज करवा लेना चाह‍िए नहीं तो अंधेपन का श‍िकार हो सकते हैं। कोरोना संक्रमण के बाद ये खतरा और भी बढ़ गया है क्‍योंक‍ि ज्‍यादातर लोग घरों से काम कर रहे हैं ज‍िसके चलते व‍िटाम‍िन डी की कमी हो सकती है जो आगे चलकर रेट‍िनोपैथी का कारण बन सकता है। सिर दर्द, आंखों में खून, चश्‍मे का नंबर बार-बार बदलना, आंखों में सूजन, दर्द ये सब रैट‍िनोपैथी के लक्षण हैं। इन पर गौर करें। 

रेट‍िनोपैथी को कैसे ठीक क‍िया जा सकता है? (Treatment of retinopathy)

retinopathy treatment

रेट‍िनोपैथी की जांच के ल‍िए फ्लोरेसिन एंजियोग्राफी, ओसीटी जांच की जाती है। अगर डॉक्‍टर ने आपको रेट‍िनोपैथी से पीड़‍ित बताया है तो इलाज में वो आपको लेजर फोटो कोएगुलेशन ट्रीटमेंट दे सकते हैं। इस ट्रीटमेंट में लेजर की क‍िरणों से आंखों की नसों खून या असामान्‍य नों के बनने को रोका जाता है। इसके अलावा आंखों में इंजेक्‍शन से दवा डाली जाती है। ऐसा तब क‍िया जाता है जब मैक्‍युला में सूजन ज्‍यादा हो। इसके अलावा सर्जरी भी की जाती है ज‍िसे व‍िट्रेक्‍टॅमी कहते हैं। 

इसे भी पढ़ें- डायबिटीज में क्यों बढ़ जाता है किडनी फेल होने का खतरा? डॉक्टर से जानें कारण और बचाव

कोरोना के दौरान रेट‍िनोपैथी के खतरे से कैसे बचें? (Safety measure for retinopathy during COVID 19)

रेट‍िनोपैथी के खतरे से बचने के ल‍िए समय-समय पर आंखों के पर्दे की जांच करवाते रहें। अगर आप 5 साल से ज्‍यादा समय से डायब‍िटीज से पीड़‍ित हैं तो आपको हर दूसरे महीने जांच करवानी चाह‍िए। इसके अलावा आप कोलेस्‍ट्रॉल और ब्‍लड प्रेशर को बढ़ने न दें और ब्‍लड शुगर व ल‍िप‍िड प्रोफाइल जांच भी करवाते रहें। 

इसे भी पढ़ें- ब्लड शुगर चेक करते समय इन 6 गलतियों के कारण रीडिंग आ सकती है गलत, डायबिटीज रोगी बरतें सावधानी

रेट‍िनोपैथी से बचने के ल‍िए व‍िटाम‍िन डी की कमी न होने दें (Vitamin D deficiency may cause retinopathy during COVID 19)

vitamin d diet for retinopathy

शरीर में व‍िटाम‍िन डी की कमी के चलते रेटिनोपैथी का खतरा बढ़ गया है इसल‍िए आपको शरीर में व‍िटाम‍िन डी की कमी नहीं होने देना है। व‍िटाम‍िन डी का सबसे अच्‍छा स्रोत है सनलाइट। आपको सुबह-सुबह सूर्य क‍ी क‍िरणों के सामने जरूर जाना चाह‍िए। आपको विटाम‍िन डी र‍िच डाइट लेने के ल‍िए अपनी द‍िनचर्या में दूध के प्रोडक्‍ट्स एड करने चाह‍िए। दूध में लैक्‍टोस मौजूद होता है इसल‍िए वो नैचुरली मीठा होता है उसमें अलग से चीनी म‍िलाकर की जरूरत नहीं होती। इसके अलावा आप घी, पनीर, मक्‍खन खाएं। हरी सब्‍ज‍ियों में भी व‍िटाम‍िन डी होता है इसके अलावा आप मशरूम खा सकते हैं। सोयाबीन म‍िल्‍क, टोफू भी अच्‍छा ऑप्‍शन है। सॉल्‍मन फ‍िश में व‍िटाम‍िन डी की अच्‍छी मात्रा होती है। इसे आप डाइट में शाम‍िल करें। इसके अलावा आप एग योक को डाइट में शाम‍िल करें। इसके अलावा पनीर और मटर भी खा सकते हैं। 

इन तरीकों से आप आंखों की बीमारी रैट‍िनोपैथी से बच सकते हैं, ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। 

Read more on Diabetes in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK