थायरॉइड कंट्रोल करने के लिए फायदेमंद हैं फाइबर से भरपूर ये फूड्स, जानें कैसे और कितना खाएं फाइबर

थायरॉइड होने पर फाइबर र‍िच डाइट आपके ल‍िए फायदेमंद हो सकती है, आइए जानते हैं थायरॉइड  में फाइबर र‍िच डाइट लेने का तरीका और फायदे

Yashaswi Mathur
स्वस्थ आहारWritten by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 26, 2021
Updated at: Jul 26, 2021
थायरॉइड कंट्रोल करने के लिए फायदेमंद हैं फाइबर से भरपूर ये फूड्स, जानें कैसे और कितना खाएं फाइबर

थायरॉइड के लक्षण क्‍या होते हैं? अगर आपका वजन अचानक से बढ़ने लगे, गले में सूजन नजर आए, बाल झड़ें तो ये थायरॉइड के लक्षण हो सकते हैं। इन लक्षणों के नजर आने पर आपको तुरंत डॉक्‍टर के पास जाना चाह‍िए। थॉयराइड में आपके शरीर में पोषक तत्‍वों की कमी हो जाती है ज‍िसे पूरा करने के ल‍िए आपको फाइबर र‍िच डाइट लेनी चाहिए। थायरॉइड में फाइबर र‍िच डाइट लेने से थायरॉइड कंट्रोल रहता है, वजन कम होता है और ऐसे सारे इंडेक्‍टर जो थायरॉइड को बढ़ा सकते हैं जैसे कोलेस्‍ट्रॉल, ब्‍लड शुगर भी कंट्रोल में रहते हैं। थायरॉइड में आप फाइबर र‍िच डाइट शुरू करने जा रहे हैं तो इस लेख के जर‍िए आपको पता चलेंगे थॉयराइड में खाए जाने वाले फाइबर र‍िच फूड्स के बारे में। इसके अलावा थाइरॉइड मरीजों को डाइट में फाइबर एड करने का सही तरीका भी जान लेना चाहिए। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के वेलनेस डाइट क्‍लीन‍िक की डाइटीश‍ियन डॉ स्‍म‍िता सिंह से बात की।

fiber rich diet for thyroid

थायरॉइड के मरीजों के ल‍िए क्‍यों फायदेमंद है फाइबर? (Benefits of fiber rich foods for thyroid patients)

थायरॉइड के मरीजों के ल‍िए फाइबर कई मायनों में फायदेमंद है जैसे-

  • ज‍िन लोगों को हाइपो थायरॉइड होता है उन्‍हें फाइबर रिच फूड्स खाने से वजन कम करने में मदद म‍िलती है।
  • जिन लोगों को हाइपो थायरॉइड की समस्‍या होती है उन्‍हें अक्‍सर कॉन्‍सट‍िपेशन की श‍िकायत होती है इसल‍िए ऐसे उनके ल‍िए फाइबर इंटेक फायदेमंद है।
  • फाइबर र‍िच फूड्स खाने से कोलेस्‍ट्रॉल कंट्रोल रहता है। अगर थायरॉइड के मरीज फाइबर का सेवन करेंगे तो बैड कोलेस्‍ट्रॉल कंट्रोल रहेगा। 
  • फाइबर र‍िच फूड्स खाने से ब्‍लड शुगर कंट्रोल रहती है। 
  • फाइबर र‍िच फूड्स आसानी से पच जाते हैं और इनमें ग्‍लाइसेम‍िक इंडेक्‍स भी कम होता है। 

थायरॉइड के मरीज फाइबर र‍िच डाइट कैसे लें? (Ways to start fiber rich diet for thyroid patients)

vegetables in thyroid

थायरॉइड के मरीजों को फाइबर र‍िच डाइट लेने के ल‍िए इन बातों को ध्‍यान में रखना चाह‍िए- 

  • आपको फाइबर र‍िच डाइट लेने के ल‍िए अचानक से ढेर सारा फाइबर अपनी डाइट में शाम‍िल नहीं करना है।
  • आपको अपने पेट को नई डाइट में एडजस्‍ट होने का मौका देना चाहि‍ए। अगर आप अचानक से बहुत सारा फाइबर खाने लगेंगे तो पेट में दर्द या अन्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं।
  • आपको फाइबर अपनी डाइट में शाम‍िल जरूर करना है पर थायरॉइड  मरीजों के ल‍िए गेहूं नुकसानदायक होता है, इसल‍िए ऐसे फाइबर र‍िच फूड्स न चुनें जो आप थायरॉइड में न खा पाएं।
  • आपको ऐसे फाइबर फूड्स भी डाइट में एड नहीं करना है ज‍िनसे आपका वजन कम होने के बजाय बढ़ जाए जैसे ब्रेड, पास्‍ता आद‍ि।
  • थायरॉइड में आप सब्‍ज‍ियां, बीन्‍स, नट्स, सीड्स का सेवन कर सकते हैं।
  • थायरॉइड के मरीजों को फाइबर र‍िच डाइट लेने के साथ हाइड्रेशन का भी ध्‍यान रखना है। 
  • नई डाइट में आपको परेशानी न हो इसल‍िए आप पानी पीते रहें, ज‍िससे पेट में गैस, दर्द, ऐंठन की समस्‍या न हो। 
  • अगर आपको कम समय में फाइबर इंटेक बढ़ाना है तो आप डॉक्‍टर की सलाह पर फाइबर सप्‍लीमेंट भी ले सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- क्‍या फाइबर वाले फूड्स ज्यादा खाने से होती है गैस की समस्या? डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें सच्चाई

थायरॉइड के मरीजों को क‍ितना फाइबर लेना चाह‍िए? (Quantity of fiber for thyroid patients)

  • थायरॉइड की मरीज मह‍िला है तो उन्‍हें 20 से 30 ग्राम फाइबर लेना चाह‍िए वहीं अगर थायरॉइड का मरीज पुरुष है तो उन्‍हें 35 से 40 ग्राम फाइबर प्रत‍िद‍िन लेना चाह‍िए।
  • थायरॉइड में फाइबर र‍िच डाइट लेने के बाद आपको छह महीने बाद थायरॉइड टेस्‍ट करवाना चाह‍िए ये देखने के ल‍िए क‍ि फाइबर र‍िच डाइट का आपके शरीर पर क्‍या असर हुआ है। 

थायरॉइड कंट्रोल करने के ल‍िए खाएं फाइबर र‍िच फूड्स (Fiber rich foods for thyroid patients)

1. कद्दू (Pumpkin)

थॉयराइड में फाइबर र‍िच डाइट ले रहे हैं तो कद्दू का सेवन कर सकते हैं। कद्दू हमारी सेहत के ल‍िए फायदेमंद होता है। इसमें प्रोटीन, कैल्‍श‍ियम, मैग्‍न‍िश‍ियम, पोटैश‍ियम, सोड‍ियम, व‍िटामि‍न ई जैसे पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं। कद्दू में एंटी-ऑक्‍सीडेंट, एंटी-इंफ्लामेटरी गुण भी होते हैं। अगर 100 ग्राम कद्दू की बात करें तो इसमें  0.7 ग्राम फाइबर होता है।

2. बादाम (Almonds)

almonds for thyroid

नट्स और बीज थायरॉइड में फायदेमंद होते हैं। आपको नट्स जैसे बादाम, काजू, मूंगफली, प‍िस्‍ता, अखरोट का सेवन करना चाह‍िए। अगर 100 ग्राम बादाम की बात करें तो उसमें 8.9 ग्राम फाइबर होता है वहीं काजू में 5.8 ग्राम, मूंगफली में 8.3 ग्राम, अखरोट में 6.2 ग्राम फाइबर पाया जाता है। इन नट्स में फाइबर के अलावा कई पोषक तत्‍व हाते हैं जो थॉयरॉइड, डायब‍िटीज, हार्ट ड‍िसीज आद‍ि में फायदेमंद होता है। आपको इन्‍हें अपनी डाइट में शाम‍िल करना चाह‍िए।

इसे भी पढ़ें- भूख भी मिटानी है और वजन भी घटाना है तो जरूर खाएं ये 5 फल, फाइबर से भरे लो-कैलोरी वाले ये फल हैं फायदेमंद

3. लौकी (Lauki)

lauki for thyroid

थायरॉइड में फाइबर र‍िच फूड खाना चाहते हैं तो लौकी का सेवन करें। लौकी के 100 ग्राम की मात्रा में 4.48 ग्राम फाइबर होता है। फाइबर के साथ लौकी में कॉपर, सोड‍ियम, व‍िटामि‍न सी, मैग्‍न‍िश‍ियम, व‍िटाम‍िन बी6 आद‍ि की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। लौकी खाने से वजन घटाने में मदद म‍िलती है। आपको थॉयराइड है तो आपको लौकी का सेवन जरूर करना चाह‍िए। लौकी का जूस भी पी सकते हैं या हल्‍के मसाले में पकी लौकी को खा सकते हैं। ऐसी डिशेज अवॉइड करें ज‍िसमें लौकी को तला गया हो।

4. तरबूज (Watermelon)

watermelon for thyroid

आपको थायरॉइड में फाइबर र‍िच फूड एड करना है तो फलों का सेवन करें। फलों में उच्‍च मात्रा में फाइबर मौजूद होता है। आप अनार, तरबूज, सेब आद‍ि फलों का सेवन कर सकते हैं। तरबूज की बात करें तो ये फल वजन घटाने में मदद करता है, ब्‍लड प्रेशर को भी कंट्रोल रखता है। इसमें व‍िटाम‍िन सी, ई, लाइकोपीन, पोटैश‍ियम आद‍ि तत्‍व मौजूद होते हैं इसल‍िए ये सेहत के ल‍िए फायदेमंद होता है। तरबूज की 100 ग्राम की मात्रा में 0.5 ग्राम फाइबर मौजूद होता है।

5. कटहल (Jackfruit)

थॉयराइड में कटहल खाना भी फायदेमंद होता है। कटहल के 100 ग्राम ह‍िस्‍से में  1.7 ग्राम फाइबर होता है। आप पके हुए कटहल का गूदा खा सकते हैं। कटहल में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। इसे खाने से शरीर में क‍िसी तरह का घाव भी जल्‍दी भर जाता है। फाइबर के अलावा थायरॉइड में खनिज तत्‍व, कार्ब्स, फाइटोकेमिकल्स जैसे तत्‍व मौजूद होते हैं। 

थॉइरॉइड में अगर फाइबर र‍िच डाइट लेने से आपको परेशानी हो रही है तो डाइट रोक दें और डॉक्‍टर से सलाह लें, ये मल्‍टीपल ड‍िसीज के लक्षण हो सकते हैं।

Read more on Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK