• shareIcon

स्टडी में खुलासा, भारत में 84% कपल शेयर करते हैं पासवर्ड

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 07, 2018
स्टडी में खुलासा, भारत में 84% कपल शेयर करते हैं पासवर्ड

भारतीय समाज में करीब 84 प्रतिशत लोग अपने पार्टनर के साथ अपना पासवर्ड शेयर करते हैं।

आजकल रिश्तों में दरार और अनबन बढ़ती ही जा रही है। जिसके पीछे पश्चिमी संस्कृति का हाथ होने के साथ ही टेक्नोलॉजी का बढ़ता प्रयोग है। हाल ही में हुई एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि भारतीय समाज में करीब 84 प्रतिशत लोग अपने पार्टनर के साथ अपना पासवर्ड शेयर करते हैं। आज के समय में हर हाथ में स्मार्टफोन है और उनकी सुरक्षा पासवर्ड के जरिए की जाती है। इसी बीच एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है। 89 फीसदी भारतीयों का मानना है कि रिश्ते में प्राइवेसी जरूरी चीज है, लेकिन 84 फीसदी लोग अपने पार्टनर से अपना पासवर्ड और पिन नंबर शेयर करते हैं। McAfee की एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है।

इसे भी पढ़ें : अब इमरजेंसी मरीजों का इलाज करेंगे होम्योपैथिक डॉक्टर, बचेंगे पैसे

स्टडी में ये पाया गया कि, 77 फीसदी भारतीयों का मानना है कि टेक्नोलॉजी का यूज उनके रिश्तों का हिस्सा है, जबकि 67 फीसदी का मानना है कि उनका साथी उनसे ज्यादा इंटरनेट से जुड़े डिवाइसों में रुचि लेता/लेती है। मैकेफी के वाइस प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर (इंजीनियरिंग) वेंकट कृष्णापुर ने एक बयान में कहा, 'आज की कनेक्टेड जीवनशैली में दैनिक गतिविधियां और ग्राहकों से साथ संपर्क टेक्नोलॉजी और ऐप्स के जरिए होता है। टेक्नोलॉजी पर हमारी इस निर्भरता के कारण हमें अनजान के साथ अपनी निजी जानकारियों को साझा करना है। इसलिए हमें जरूरत से ज्यादा जानकारियां साझा करने से सतर्क रहना चाहिए और सुधार के उपाय करना चाहिए।'

इसे भी पढ़ें : शोध में खुलासा, 6 घंटे खड़े रहने से जल्दी घटता है वजन

इस रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि चार भारतीय में से तीन (75 फीसदी) को अपने साथी का ध्यान प्राप्त करने के लिए उनकी डिवाइस के साथ बहस करनी पड़ी। आधे से ज्यादा वयस्कों (21 से 40 साल के बीच) ने बताया कि ऐसा एक से ज्यादा बार हो चुका है। इसके बाद, 81 फीसदी भारतीयों का कहना था कि उन्हें अपने दोस्त, परिवार के सदस्य या उनके जीवन के महत्वपूर्ण व्यक्ति के साथ इस बात को लेकर बहस करनी पड़ी कि वह जब साथ होते हैं तो उनका साथी अपने फोन पर ज्यादा ध्यान देता/देती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK