• shareIcon

सुबह वर्कआउट करने के इन कारणों को जानिये

एक्सरसाइज और फिटनेस By Nachiketa Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 28, 2014
सुबह वर्कआउट करने के इन कारणों को जानिये

सुबह के वक्‍त वर्कआउट करना शाम के वक्‍त वर्कआउट करने से कहीं अधिक फायदेमंद है, यह आपकी दिनचर्या को बनाये रखता है, इससे तेजी से वजन घटाने में मदद मिलती है, साथ ही इसके कई अन्‍य फायदे भी हैं।

व्‍यायाम कभी भी करो वह आपके शरीर को फिट रखेगी। लेकिन दिन में किसी भी समय की तुलना में सुबह-सुबह व्‍यायाम करना अधिक फायदेमंद माना जाता है।

दरअसल व्‍यायाम करने के बाद आपके अंदर ऊर्जा का संचार हो जाता है, और आप पूरे दिन तरोताजा रहते हैं। इसके अलावा सुबह के वक्‍त ताजी और ठंडी हवा चलती है जिससे आप अधिक समय तक व्‍यायाम कर सकते हैं। तो अगर आप वजन घटाने के लिए व्‍यायाम कर रहे हैं तो सुबह का समय ही चुनें। इस लेख में विस्‍तार से जानें कि सुबह के वक्‍त व्‍यायाम करना क्‍यों है फायदेमंद।

Work Out In The Morning in Hindi

लगातार कर सकते हैं

एक अनुमान के मुताबिक लगातार व्‍यायाम करने वाले लोग सुबह के वक्‍त ही व्‍यायाम करते हैं, उनका मानना है कि सुबह के वक्‍त व्‍यायाम करने से उनका रूटीन नियमित होता है और वे अपनी फिटनेस को बरकरार रख सकते हैं। तो अगर आप भी व्‍यायाम को अपना रूटीन बनाना चाहते हैं तो सुबह का वक्‍त ही बेहतर है।


अधिक कैलोरी जलती है

सुबह के वक्‍त व्‍यायाम करने से मेटाबॉलिज्‍म का स्‍तर बढ़ जाता है और इससे आप अधिक कैलोरी जलाते हैं। जबकि रात में सोते वक्‍त मेटाबॉलिक स्‍तर घट जाता है और व्‍यायाम का उतना फायदा नहीं मिल पाता। तो अगर आप अधिक कैलोरी जलाना चाहते हैं तो व्‍यायाम के लिए सुबह का वक्‍त ही चुनें।


ऊर्जा बनी रहती है

अगर आप पूरे दिन खुद को तरोताजा रखना चाहते हैं तो सुबह के समय ही व्‍यायाम करें। जब भी आप सुबह व्‍यायाम करते हैं तब इसका फायदा पूरे दिन आपको मिलता है और आपका शरीर दिनभर ऊर्जावान रहता है।

भूख नियमित होती है

अगर आपको शिकायत रहती है कि आपको समय पर भूख नहीं लगती, आपके खाने का काई समय नहीं है। सुबह का नाश्‍ता आप 10 बजे और लंच 4 बजे करते हैं, डिनर 11 बजे करते हैं तो यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से बिलकुल भी ठीक नहीं। सुबह का व्‍यायाम इसे नियमित कर सकता है। जो लोग सुबह व्‍यायाम करते हैं वे समय पर खाते हैं और उन्‍हें समय पर भूख भी लगती है।
Work Out In The Morning in Hindi

उठने का समय निर्धारित

सुबह व्‍यायाम करने वालों का सोने और उठने का समय निर्धारित होता है। वे सुबह जल्‍दी उठने के लिए रात में जल्‍दी सोते हैं और उन्‍हें अच्‍छी नींद भी आती है। इसके अलावा नियमित दिनचर्या रखने से शरीर की अंत: स्रावी प्रणाली का समायोजन भी सही तरीके से होता है। इससे रक्‍त संचार ठीक से होता है और यह दिल को मजबूत करता है।

दिमाग सक्रिय रहता है

सुबह के वक्‍त व्‍यायाम करने से दिमाग भी मजबूत होता है जबकि शाम के वक्‍त व्‍यायाम का असर दिमाग पर नहीं पड़ता है। कई शोधों में यह बात साबित हुई है कि व्‍यायाम के 4 से 10 घंटे के बाद दिमाग अधिक सक्रिय रहता है। लेकिन अगर आप शाम को व्‍यायाम करके सो जाते हैं तब इसका फायदा आपको बिलकुल नहीं मिलता है।


तो अगर आप शाम को आफिस से लौटकर व्‍यायाम करते हैं तो उस दिनचर्या को बदल दीजिए, सुब‍ह के समय थोड़ा सा वक्‍त व्‍यायाम के लिए निकालिये और खुद को फिट रखिये।

 

Read More Articles on Sports and Fitness in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK