• shareIcon

कुछ लोग क्‍यों खाते हैं ज्‍यादा

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja Sinha , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 31, 2012
कुछ लोग क्‍यों खाते हैं ज्‍यादा

वैज्ञानिकों ने पहली बार इस बात पर रोशनी डालने की कोशिश की है कि कुछ लोग ज्यादा क्यों खाते हैं? दरअसल, पेट भर खाने के थोड़ी देर बाद ही दोबारा भूख लगने के पीछे एक हार्मोन जिम्मेदार होता है। आइए जानें कैसे।

भूख लगना अच्‍छी बात है, लेकिन भूख लगने पर जरूरत से ज्‍यादा खा लेना स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से अच्‍छा नहीं होता। इसलिए यह जानना बहुत जरूरी है कि आखिर कुछ लोग जरूरत से ज्‍यादा क्‍यों खा लेते हैं। शोधकर्ताओं का दावा है कि उन्होंने इस बात का पता लगा लिया है कि क्यों कुछ लोग ज्यादा खाना खाते हैं।

over eating in hindi

ज्‍यादा खाना खाने के कारण

वैज्ञानिकों ने पहली बार इस बात पर रोशनी डालने की कोशिश की है कि कुछ लोग ज्यादा क्यों खाते हैं? दरअसल, पेट भर खाने के थोड़ी देर बाद ही दोबारा भूख लगने के पीछे एक हार्मोन जिम्मेदार होता है। ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी कालेज और किंग कालेज में हुए इस अध्ययन में कहा गया है कि पीवाईवाई हार्मोन को नियंत्रित करके मोटापे पर काबू पाया जा सकता है। एक आंकड़े के मुताबिक ब्रिटेन में प्रति चार में एक व्यक्ति मोटापे से ग्रस्त है।


शोध के अनुसार

साइंस जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि भोजन जैसे ही आंत (गट) में पहुंचता है, पीवाईवाई उत्सर्जित होता है। फिर यह दिमाग को भूख शांत हो जाने की सूचना भेजता है। शोध के दौरान आठ लोगों के शरीर में पीवाईवाई हार्मोन इंजेक्ट किया गया और एमआरआई स्कैनर से दिमाग के विभिन्न हिस्सों पर पड़ने वाले इसके असर की जांच की गई।

 

शोध टीम के प्रमुख राशेल बैटरहम ने बताया कि परिणाम चौंकाने वाले थे। 14 घंटे बाद जब इन्हें भोजन दिया गया तो हमने पाया कि जिन लोगों में पीवाईवाई का स्तर ज्यादा था उन्होंने अपनी सामान्य डाइट के मुकाबले कम खाया। अब वैज्ञानिक इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि पीवाईवाई हार्मोन एनोरेक्सिस (कम खाने की मानसिक बीमारी) में किस तरह काम करता है। माना जाता है कि एनोरेक्सिस से पीडि़त लोगों में इस हार्मोन का स्तर काफी बढ़ जाता है। कई अन्‍य कारणों से भी कुछ लोगों को ज्‍यादा खाते हैं।


प्रोटीन और फाइबर की कमी

भोजन में प्रोटीन और फाइबर की कमी के कारण भी कई लोग एक समय में ज्‍यादा खा लेते हैं। प्रोटीन और फाइबर वाले आहार से पेट से ऐसे हार्मोंस निकलते है जो भूख को शांत कर देते है।


protein and fiber less in hindi

पर्याप्त कैलोरी न लेना

शरीर को संपूर्ण आहार की जरूरत होती है। शरीर को एक पर्याप्त मात्रा में कैलोरी की उतनी ही जरूरत होती है, जितनी कि अन्य पौष्टिक तत्वों की। अगर आप कैलोरी में कम आहार का सेवन करेंगे तो शरीर में उसकी कमी बरकरार रहेगी, जिस कारण आपको हमेशा भूख लगती रहेगी।


जल्दबाजी में खाना

खाना खाने का यह बहुत ही गलत तरीका है। इससे आपके नर्वस सिस्टम को मस्तिष्क तक यह संदेश पहुंचाने का मौका ही नहीं मिलता कि खाने का काम पूरा हो चुका है। इसलिए जल्दबाजी में ज्यादा खा लेने के बाद भी पेट भरने का एहसास नहीं होता। और आप बहुत ज्‍यादा खाने लगते हैं।


Image Source : Getty

Read More Articles on Diet-Nutrition in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।