इन कारणों से स्प्रिंग में प्रेगनेंट होना है बेहतर

Updated at: Mar 29, 2017
इन कारणों से स्प्रिंग में प्रेगनेंट होना है बेहतर

अगर आप प्रेगनेंसी की तैयारी कर रही हैं तो केवल बजट ही नहीं मौसम की भी प्लानिंग कर लीजिए, क्‍योंकि मौसम और प्रेगनेंसी का भी संबंध है, इस लेख में विस्‍तार से जानते हैं क्‍यों वसंत के वक्‍त गर्भधारण करना बेहतर होता है।

Gayatree Verma
गर्भावस्‍था Written by: Gayatree Verma Published at: Mar 29, 2017

फूलों की भीनी-भीनी खुश्‍बू, हाथ में जूस का ग्लास, हल्की सी बहती नम हवा और आंखों में होने वाले बच्चे के सपने...। जब सीन सुनने औऱ पढ़ने में इतना अच्छा लग रहा है तो वास्‍तविक जीवन में ऐसा मौसम आपके सामने हो तो क्‍या कहनें, जाहिर सी बात है अच्‍छा महसूस होगा।

ये सीन तभी सच होगा जब आप स्प्रिंग के मौसम में प्रेगनेंट होंगी। स्प्रिंग के मौसम में हर तरफ हरियाली छा जाती है और हर तरह के फल-फूल मिलते हैं। स्प्रिंग से अच्छा मौसम तो प्रेगनेंट होने के लिए हो ही नहीं सकता। अगर आप और आपके पार्टनर ने हाल ही में पोजिटिव रिजल्ट पाया है तो आपको ये जानकर खुशी होगी कि आप कितने परफेक्ट समय में प्रेगनेंट हुई हैं। स्प्रिंग मौसम प्रेंगनेंसी के लिए काफी परफेक्ट मौसम माना जाता है औऱ सिर्फ ये ऐसे ही नहीं है। बल्कि इसके कुछ कारण भी हैं।

इसे भी पढ़ेंः गर्भवती का लाइफस्टाइल बनाता है शिशु को कमजोर

 

बजट

प्रेगनेंसी प्लानिंग में सबसे पहले कपल बजट का अनुमान लगाते हैं। जब उन्हें लगता है कि हां वो अपने बच्चे का पालन-पोषण अच्छे से कर सकते हैं तो वो प्रेगनेंसी प्लानिंग को आगे बढ़ाते हैं। लेकिन क्या आपको मालुम है कि स्प्रिंग मौसम की प्रेगनेंसी आपके बजट को और अधिक मैनेज कर सकती है। इसके चार कारण है।

गर्भावस्था

 

फ्रेश फुड

स्प्रिंग को सबसे अच्छा मौसम बनाती है इस वक्त मिलने वाले फल, ग्रीन वेजिटेबल्स, और हर तरह के फ्रेश जूस जो आपको अन्य मौसम में मुश्किल से ही मिलते हैं। फुड जितने फ्रेश होंगे उसमें उतने ही अधिक न्यूट्रिंट्स होते हैं। इस मौसम में मिलने वाले सारे फल और सब्जियां खू खाइए जिससे कि आपके पेट में बढ़ रहे आपके छोटे से बेबी को बहुत सारा न्यूट्रिंट्स मिल सके। सब से अच्छी बात है कि इस मौसम में सब तरह के फल जैसे तपबूज, खरबूज, पपीता आदि  और सब्जियां काफी सस्ती मिल जाती हैं।

 

विंटर कोट को भूल जाइए

प्रेगनेंसी का सबसे मुश्किल मौसम ठंड को माना जाता है। खासकर तो तब जब पांच महीने के बाद वाली प्रेगनेंसी में पेट का आकार बढ़ते जाता है। इस समय आपका कोई भी सामान्य कोट आपके पेट को कवर नहीं कर पाता जिस कारण महंगे-हैवी मैटरनीटि कोट खरीदने पड़ते हैं जो कुछ ही महीनों के बाद बेकार हो जाएंगे।   

इसे भी पढ़ेंः क्या सी-सेक्शन के बाद, टैंपॉन कप का प्रयोग करना है सुरक्षित?

 

वार्म सनसाइन

अगर अप्रैल में आपका चौथा महीना लगने वाला है तो आपके लिए इससे अच्छी बात कोई नहीं हो सकती। पहले तीन महीने में तो प्रेगनेंसी का पता नहीं चलता तो उस समय कोई भी मौसम चल जाता है। प्रेगनेंसी के सारे अनुभव चौथे महीने से शुरू होते हैं। औऱ इन महीनों की शुरुआत के लिए मार्च-अप्रैल बेस्ट है। धूप की रोशनी। हरियाली। ना ज्यादा गर्मी, ना ज्यादा ठंड। बॉडी के साथ दिमाग भी शांत हो जाता है।

 

फ्लू का डर नहीं

इस मौसम की सबसे अच्छी बात होती है कि इस मौसम में बीमार रहने का डर नहीं होता। सर्दी के मौसम में फ्लू और अन्य संक्राम बीमरियों का डर काफी होता है जो स्प्रिंग के मौसम में खत्म हो जाता है। साथ ही ना पसीने के चिपचिप ना  ठंड की सर्द-गर्म की झंझट। अब आप ही बताइए इससे अच्छा दूसरा मौसम कोई हो सकता है क्या... !!!

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read more articles on pregnancy in hindi.

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK