झुकी हुई पलकों से हो चुके हैं परेशान? जानें इसके कारण और क्या ये हो सकती हैं कभी ठीक

Updated at: Aug 06, 2020
 झुकी हुई पलकों से हो चुके हैं परेशान? जानें इसके कारण और क्या ये हो सकती हैं कभी ठीक

 झुकी हुई पलक, जिसे ड्रूपी आइलिड भी कहा जाता है, किसी आघात, उम्र या विभिन्न चिकित्सा विकारों के कारण हो सकती है। 

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Aug 05, 2020

कई बार ऐसे होता है कि किसी व्यक्ति की पलके उपर की ओर उठने की बजाए नीचे की ओर ज्यादा झुकने लगती हैं। ऐसा बहुत से कारणों की वजह से हो सकता है जैसे कोई चोट लगना या उम्र बढ़ना या जन्म जात। झुकी पलकें दृष्टि को कम कर सकती हैं या बहुत कम कर सकती हैं। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि यह पुतली की मूवमेंट को कितना बाधित कर रहीं हैं।हालांकि, प्राकृतिक रुप से उम्र बढ़ने की प्रक्रिया के कारण  वयस्कों में यह सबसे आम है। 

eye

लेवेटर मांसपेशी पलक को उठाने के लिए जिम्मेदार है। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे मांसपेशियों में खिंचाव आ सकता है और इसके परिणामस्वरूप पलक गिर सकती है। ज्यादातर मामलों में, स्थिति स्वाभाविक रूप से भी सही हो जाती है।  बहुत सी बार व्यक्ति को इसके इलाज की आवश्यकता पड़ती है। तो आइए जानते हैं लक्षण, कारण और उपचार

झुकी पलक के लक्षण (Symptoms)

झुकी पलक का मुख्य लक्षण है कि एक या दोनों ऊपरी पलकें शिथिल हो जाती हैं। जिससे  दृष्टि प्रभावित हो  सकती है। कुछ लोग मुश्किल से ही अपनी पलकों को उठा पाते हैं हर समय आंखें खुली रखना उनके लिए मुश्किल होता है। इस वजह से या तो आंखें बहुत शुष्क रहती हैं या बहुत ज्यादा पानी बहता रहता है। आंखों के आसपास दर्द भी अनुभव हो सकता है। यदि इस समस्या ने गंभीर रूप ले लिया है तो व्यक्ति को बात करते समय बार-बार देखने के लिए अपना सिर पीछे की ओर झुकाना पड़ता है।

इसे भी पढ़ेंः लंबी पलक के लिए आईलैश एक्‍सटेंशन का इस्‍तेमाल पड़ सकता है आंखों पर भारी, कंजंक्टिवाइटिस का बढ़ता है खतरा

कारण

1. उम्र बढ़ना (due to aging)

लेवेटर मसल  पलकों को ऊपर उठाने में मदद करतीं हैं। उम्र के बढ़ने के साथ साथ ही यह मसल भी कमजोर होने लग जाती है। जिसकी वजह से  पलकें कभी कभार नीचे  की ओर झुकने लगती हैं। बढ़ती उम्र के साथ  आंखों की त्वचा भी ढीली पड़ जाती है।   इस वजह से ढ़ंग से दिख नहीं पाता।  ऐसे में डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। 

2. चोट लगने की वजह से (eye injury)

यदि लेवेटर  मसल पर किसी तरह की चोट या हानि पहुंची हो, तो इस वजह से भी  पलके झुक सकतीं हैं। या फिर आंखों को बहुत ज्यादा मसलने से  या फिर कॉन्टेक्ट लेंस पहनने से भी  पलकें ऐसी हो सकतीं हैं। यह थोड़े दिन में खुद ही ठीक हो जातीं हैं। यदि ऐसा नहीं होता है तो डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए। 

3. आई सर्जरी के कारण (because of surgery)

यदि कभी मोतियाबिंद आदि के कारण आई सर्जरी करवाई हो, तो हो सकता है सर्जरी करते समय डॉक्टरों ने जिन उपकरणों का प्रयोग किया हो, उनके कारण भी  पलकें झुक गईं हों। या ऐसा भी हो सकता है कि आंखो में उपकरणों के प्रयोग के कारण  आंखों में सूजन आ गई हों। 

4. आप जन्मे ही ऐसे हों (by birth)

 हो सकता है जन्म के समय से ही बच्चे की पलकें थोड़ी सी झुकी हुईं हों। ऐसा तब होता है जब बच्चे की लेवेटर  मसल अच्छे से ना बन पाई हो। ऐसे बच्चों को साधारण बच्चों के मुकाबले थोड़ा कम दिखाई देता है। उन्हें ढ़ंग से देखने के लिए अपने सिर को थोड़ा हिलाना डुलाना पड़ता है। 

eyelids

5. सिर दर्द के कारण (due to headache)

यदि  माइग्रेन की परेशानी है और अकसर भयंकर  सिर दर्द  होता है, तो  ट्राइजेमिनल नर्व जो  मुंह से लेकर  जबड़े तक जुड़ी हुई होती है, उसकी वजह से भी पलकों में थोड़ा बदलाव हो जाता है। परंतु यह समस्या तब तक ही रहती है जब तक  सिर में दर्द रहता है।  सिर दर्द ठीक होने के बाद  आंखे भी पहले के समान हो जाती हैं। 

इसे भी पढ़ेंः लैपटॉप पर ज्यादा देर समय बिताते हैं, तो आंखों को सुरक्षित रखने के लिए बिना भूलें करें ये 5 काम

6. आईलिड ट्यूमर (eyelid tumor)

आईलिड ट्यूमर के कारण भी आंखे भारी हो कर नीचे की तरफ झुक जाती हैं। यह एक प्रकार की जेनेटिक बीमारी के कारण भी हो सकता है। इस के द्वारा कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का कोई खतरा तो नहीं होता है लेकिन इस समस्या को हलके में भी नहीं लेना चाहिए।  इसका इलाज या सर्जरी करा लेनी चाहिए जिस से यह ट्यूमर भयानक रूप न ले पाए। 

7. गंभीर स्थिति (serious condition)

कुछ मामलों में, झुकी पलक अधिक गंभीर स्थितियों, जैसे कि स्ट्रोक, ब्रेन ट्यूमर या नसों या मांसपेशियों के कैंसर के कारण हो सकती है। न्यूरोलॉजिकल विकार जो आंखों की नसों या मांसपेशियों को प्रभावित करते हैं - जैसे कि मायस्थेनिया ग्रेविस - से भी पलकों के झुके रहने की समस्या हो सकती है।

उपचार (Treatment)

यदि यह स्थिति उम्र की वजह से है तो कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह स्थिति आमतौर पर आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं होती है। हालाँकि, यदि आप इस समस्या को कम करना चाहते हैं, तो आप प्लास्टिक सर्जरी का विकल्प चुन सकते हैं। वैसे आमतौर पर पलकों को सूजने से रोकना चाहिए। लेकिन यदि आपकी पलक आपकी दृष्टि को अवरुद्ध करती है, तो आपको चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होगी।  डॉक्टर सर्जरी भी  कर सकता है।

क्या पलकों का झुकना रोकना संभव है (Is it possible to prevent Droopy Eyes)

इस परेशानी को रोकने का कोई तरीका नहीं है। बस लक्षणों को जानना और आंखों की नियमित जांच करवाना आपको विकार से लड़ने में मदद कर सकता है। यदि आपको लगता है कि आपके बच्चे को एक आंख की पलक से दिखाई देता है, तो उसे तुरंत इलाज और निगरानी के लिए डॉक्टर के पास ले जाएं। यदि आप खुद इस बीमारी से प्रभावित है तो रोग की गंभीरता को समझते हुए डॉक्टर से सलाह लें।

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK