त्योहारों में इन 4 तरीके के आटे से बनाएं तरह-तरह के पकवान, नहीं बढ़ेगा फैट और खराब कोलेस्ट्रॉल

Updated at: Jul 28, 2020
त्योहारों में इन 4 तरीके के आटे से बनाएं तरह-तरह के पकवान, नहीं बढ़ेगा फैट और खराब कोलेस्ट्रॉल

कोरोनावायरस के कारण इस साल त्योहारों को यूं सूना-सूना सा न जाने दें, घर रहते हुए ही आजमाएं इन जैसे हेल्दी टिप्स।

 
Pallavi Kumari
स्वस्थ आहारWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jul 28, 2020

भारत में त्योहारों का अपना ही महत्व है। सावन के बीतने के बाद यहां राखी (raksha bandhan 2020), जन्माष्टमी (janmashtami 2020) और फिर धीरे-धीरे करवा चौथ व नवरात्र जैसे त्योहार आने लगते हैं। पर कोरोनावायरस के कारण लोगों के त्योहारों का रूप थोड़ा बदला बदला सा हो सकता है। महामारी से बचाव के लिए ज्यादातर लोग घरों में ही इसे मनाने के तरीकों को आजमाएंगे। ऐसे में खान पान के विभिन्न पकवान घरों में ही तैयार की जाएंगी। पर त्योहारों में खान पान (Balance diet on festive season) की बात आते ही मोटापा, हाई बीपी और डायबिटीज वाले लोग परेशान हो जाते हैं। उन्हें बार-बार फैट बढ़ने, शुगर असंतुलित होने और खराब कोलेस्ट्रॉल का डर लगा रहता है। पर आज हम उनके लिए त्योहारों में पुआ-पकवानों को बनाने का हेल्दी विकल्प लाएं हैं।

inside4-Flour-For-Diabetes.

आटे का इस्तेमाल करके आप मिठाई से लेकर तरह-तरह के डेसर्ट, मालपुआ और बिस्किट्स बना सकते हैं। ऐसे में गेहूं के आटे की जगह आप कई तरह के अन्य आटे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जैस कि कुछ प्रकार के आटे दूसरों की तुलना में ज्यादा स्वस्थ होते हैं तो कुछ नहीं। उदाहरण के लिए, कुछ आटे चोकर और कीटाणु को दूर करने के लिए प्रोसेस्ड किए जाते हैं, तो फाइबर और पोषक तत्वों को संग्रहीत होते हैं। इनसे शुगर और कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का डर ज्यादा रहता है। ऐसे में आप आटे के इन हेल्दी विकल्पों को चुन सकते हैं।

1. नारियल का आटा

नारियल का आटा एक ग्लूटेन फ्री फूड माना जाता है। ये सूखे नारियल को पीस कर पाउडर के रूप में बनाया जाता है। यह पारंपरिक अनाज-आधारित आटे की तुलना में अधिक कैलोरी वाला है और प्रोटीन, गुड फैट, फाइबर और लौह और पोटेशियम जैसे खनिजों का एक अच्छा स्रोत है। अनाज के आटे के विपरीत, नारियल के आटे में वसा की पर्याप्त मात्रा होती है। यह वसा मुख्य रूप से संतृप्त और मध्यम-श्रृंखला ट्राइग्लिसराइड्स (MCTs) से युक्त होता है, जो सूजन को कम कर सकता है और स्वस्थ चयापचय को बढ़ावा देता है।नारियल का आटा एंटीऑक्सिडेंट में भी समृद्ध है और इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं, जो इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी फायदेमंद है।

इसे भी पढ़ें : बादाम का आटा खाने से नहीं होंगी ये 5 बीमारियां, जानें क्यों गेंहूं से ज्यादा होता है फायदेमंद

2. बादाम का आटा

बादाम का आटा बाद को पीसकर बारीक पाउडर बना कर इस्तेमाल किया जाता है। चूंकि इसमें अनाज नहीं है, इसलिए यह प्राकृतिक रूप से लस मुक्त है। बादाम का आटा मैग्नीशियम, ओमेगा -3 असंतृप्त वसा, पौधे प्रोटीन और विटामिन ई का एक अच्छा स्रोत है। साथ ही ये एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट भी है। ध्यान रखें कि बादाम, अन्य नट और बीज की तरह भी कैलोरी में उच्च होते हैं।इस आटे में पोषक तत्व कई लाभ प्रदान करते हैं, जैसे कि इंसुलिन प्रतिरोध में सुधार, साथ ही साथ कम एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल में कमी करते हैं और रक्तचाप को बेहतर बनाते हैं। बादाम का आटा मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा माना जाता है, क्योंकि इसका विटामिन ई अल्जाइमर के जोखिम को कम कर सकता है।

insidealmondsaata

3. क्विनोआ आटा

क्विनोआ का आटा एक अच्छा पाउडर बनाने के लिए क्विनोआ को पीसकर बनाया जाता है। यह लस मुक्त आटा व्यापक रूप से एक संपूर्ण अनाज माना जाता है, जिसका अर्थ है कि इसे संसाधित और परिष्कृत नहीं किया गया है, जिससे इसके मूल पोषक तत्व बरकरार रहेंगे। विशेष रूप से, यह प्रोटीन, फाइबर, लोहा और असंतृप्त वसा का एक अच्छा स्रोत है। इसके अलावा, यह एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों से भी भरपूर है, जो पाचन स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। क्विनोआ आटा पेनकेक्स, मफिन और पिज्जा और पाई क्रस्ट्स के लिए बहुत अच्छा है। आप इसका उपयोग सूप और सॉस को गाढ़ा करने के लिए भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : त्योहारों के मौसम में इम्यूनिटी को स्ट्रांग करने के लिए घर पर बनाएं 3 तरह के लड्डू, सर्दी-खांसी से रहेंगे दूर

4. बकवीट फ्लोर (Buckwheat flour)

ये आटा कई तरह के बीजों को पीस कर बनाया जाता है। एक प्रकार का अनाज के आटे में एक स्वादिष्ट स्वाद होता है और इसका उपयोग पारंपरिक जापानी नूडल्स बनाने के लिए किया जाता है। यह फाइबर, प्रोटीन और मैंगनीज, मैग्नीशियम, तांबा, लोहा और फास्फोरस जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत है। शोध बताते हैं कि यह आटा मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा को कम कर सकता है और हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और प्रीबायोटिक गुण भी हो सकते हैं। 

इस तरह आप इन तमाम तरह के यह पेनकेक्स और पकवानों को बनाने के लिए इन आटों का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस तरह आपको त्योहार अच्छा भी रहेगा और हेल्दी भी रहेगा। तो आने वाले तमाम त्योहारों में इन आटों को अपनाएं और स्वस्थ रहें।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK