• shareIcon

रजोनिवृति में कैसा हो आपका आहार

सभी By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 21, 2013
रजोनिवृति में कैसा हो आपका आहार

रजोनिवृति में कैसा हो आपका आहार: रजोनिवृति के दौरान मोटी महिलाओं को कैलोरी की मात्रा कुछ इस प्रकार लेनी चाहिए कि उनका वजन धीरे-धीरे करके अपेक्षित सामान्य स्तर पर आ जाये

महिलाओं में रजोनिवृति या मासिक धर्म की समाप्ति के साथ ही एक महत्वपूर्ण परिवर्तन शुरू हो जाते है। कुछ महिलाओं में रजोनिवृति अचानक आ जाती है, लेकिन कुछ महिलाओं में ये अचानक नहीं आती, पर ऐसी स्थिति में इससे पहले कुछ समय तक मासिक धर्म अनियमित हो जाता है।

 


रजोनिवृति के दौरान आने वाली समस्‍याएं-

इस दौरान शारीरिक परिवर्तन के कारण पर्याप्त नींद नहीं आती, इस के अलावा शरीर में गिरावट, भावनात्मक अस्थिरता एवं चिड़चिड़ापन महसूस होता है। साथ ही ऐसे में दिन-प्रतिदिन मोटापा बढ़ता जाता है और सेक्स के प्रति भी उदासीनता पैदा होती है। ये सब परिवर्तन बढ़ती उम्र और शरीर में 'एस्ट्रोजन' या नारी हारर्मोन के कम मात्रा में उत्पन्न होने से होता हैं। इस हार्मोन की कमी से उपर्युक्त लक्षणों के अलावा चेहरे पर बाल उगने लगते हैं।

सीने में दर्द रहने लगता है एवं हड्डियों में भी विकार होने लगता है। इस अवस्था आमाशय एवं आंतों में पाचन रसों कि कमी हो जाती है, जिसके फलस्वरूप पाचन प्रणाली में बाधा पहुंचती है और भोजन अच्छी तरह पच नहीं पाता। इसके साथ ही गुर्दों के कार्य में शिथिलता एवं हृदय धमनीय प्रणाली में भी परिवर्तन आता हैं।

ऐसे में ये बहुत जरूरी है कि स्त्री या इससे भी अधिक उसका पति उसकी शारीरिक, मानसिक एवं भावनात्मक प्रतिक्रियाओं को समझता हो और वह ये मान कर चले कि मासिक धर्म कि भांति यह भी एक शारीरिक धर्म है। जिसमे पति के सहारे की बहुत जरूरत होती है।

 

 

आहार का ध्‍यान रखे-

1. यदि बढ़ती उम्र में आहार सम्बन्धी कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो शारीरिक परिवर्तनों को किसी हद तक कम किया जा सकता है। ऐसे में वजन को सामान्य बनाये रखने के लिए कैलोरी की सीमित मात्रा लें।

2. रजोनिवृति के दौरान मोटी महिलाओं को कैलोरी की मात्रा कुछ इस प्रकार लेनी चाहिए कि उनका वजन धीरे-धीरे करके अपेक्षित सामान्य स्तर पर आ जाये। इस अवस्था में प्रोटीन अधिक मात्रा में लेनी चाहिए और चर्बी की मात्रा को कम कर देना चाहिए।

3. इस उम्र में कैल्सियम का उपयोग कम हो पाता है। बहुत सी बड़ी उम्र कि महिलाऐं अपने आहार में दूध को इतना महत्व नहीं देती, और इस कारण वे इस तत्त्व कि कमी से पीड़ित रहती हैं। हार्मोन तथा अन्य तत्वों कि कमी के फलस्वरूप ही बड़ी उम्र की महिला की यदि कोई हड्डी टूट जाये तो उसके ठीक होने में बहुत समय लगता है।

4. रजोनिवृति के दौरान महिलाऐं प्रायः खून कि कमी से पीड़ित रहती हैं। ऐसा उनके आहार में आयरन की कमी के कारण होता है। इसी स्थिति में उन्हें अधिक मात्रा में हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए।

 

 

5. रजोनिवृति के दौरान महिलाओं को प्रतिदिन 8 से 10 गिलास तरल पदार्थ लेना चाहिए। पर्याप्त तरल पदार्थो का सेवन करने से गुर्दों से अतिरिक्‍त ठोस पदार्थ निकल जायेगा, जिससे गुर्दे अधिक अच्‍छी तरह काम कर सकेंगे।

6. बहुत सी महिलाऐं भोजन अच्छी तरह नहीं चबा पाती, इसलिए वे अपने आहार में मॉस, मछलियाँ और सब्जियां लेना छोड़ देती है। इसी महिलाओं को अधिक मात्रा में फल व दूध का सेवन करना चाहिए।

7. आहार पर ध्यान देने के साथ-साथ बढ़ती उम्र कि महिलाओं को अच्छा जीवन जीने के लिए अपने सामाजिक जीवन एवं मानसिक स्वास्थ को भी अच्छा रखना चाहिए और अपने आप को सदा जवान समझना चाहिए। जहां तक हो सके घरेलू काम काज करते रहना चाहिए। ऐसे में काम में व्यस्त रहने से मानसिक तनाव से दूर रह सकती हैं। महिलाओं को सुबह शाम बाहर घूमने भी जाना चाहिए।

 

Read More Articles On- Women's health in hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।