Protein Day 2020: प्रोटीन से भरपूर होगा नाश्‍ता तो दिनभर रहेंगे एर्नेजेटिक, जानें कितनी मात्रा है जरूरी

Updated at: Feb 27, 2020
Protein Day 2020: प्रोटीन से भरपूर होगा नाश्‍ता तो दिनभर रहेंगे एर्नेजेटिक, जानें कितनी मात्रा है जरूरी

Protein Day 2020: प्रोटीन में क्‍या है, यह भारत के पहले प्रोटीन दिवस का विषय है, जिसे प्रोटीन अभियान को पूरा करने के उद्देश्य से मनाया जा रहा है। 

Sheetal Bisht
स्वस्थ आहारWritten by: Sheetal BishtPublished at: Feb 27, 2020

क्‍या हम सोचते हैं कि हम जो खाना खा रहे हैं, उसमें स्वस्थ रहने के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्व मौजूद हैं? जबकि हमारे भारतीय आहार में बहुत सारे प्रोटीन तत्व होने के बावजूद भी हर तीसरे व्यक्ति में प्रोटीन की कमी पाई जाती है। यह महत्वपूर्ण कारणों में से एक है, जो जीवनशैली से जुड़ी कई बीमारियों की शुरुआत की ओर जाता है। प्रोटीन की कमी को पूरा करने में मदद करने के लिए, विश्व स्तर पर कई देश 27 फरवरी को प्रोटीन दिवस के रूप में मनाते हैं, जिसका उद्देश्य प्रोटीन की बढ़ती कमी के बारे में जागरूकता फैलाना है। 

Protein Rich Foods

2020 से, भारत इस दिन को प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए विभिन्न प्रोटीन स्रोतों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एक माध्यम के रूप में दौड़ में शामिल होगा। भारत के पहले प्रोटीन दिवस 2020 का विषय सभी भारतीयों को खुद और दूसरों से पूछने के लिए एक सवाल के रूप में कार्य करने के लिए निर्धारित है - #ProteinMeinKyaHai। हर दिन की गतिविधियों और उससे आगे के माध्यम से मुख्य उद्देश्य प्रोटीन के बारे में अधिक ज्ञान औ जागरूकता का प्रसार करना होगा और भारतीयों को हर भोजन में पर्याप्त प्रोटीन खाने के लिए प्रेरित करके व्यवहार में बदलाव लाना होगा। कम से कम खाने की एक प्लेट का एक चौथाई भाग प्रोटीन से भरपूर हो।

इसे भी पढें: वजन घटाने के लिए 20 मिनट में बनाएं ये 5 हाई प्रोटीन ब्रेकफास्‍ट

प्रोटीन का महत्‍व

यहां इस वीडियो के माध्‍यम से जानें कि आपकी सेहत के लिए प्रोटीन कितना जरूरी पोषक तत्‍व है: 

प्रोटीन से भरपूर हो आपका नाश्ता

जब हम कहते हैं कि प्रोटीन एक आवश्यक पोषक तत्व है, तो यह आवश्यक हो जाता है कि प्रोटीन युक्त आहार के सेवन से आप अपने दिन को शुरू करें। माधुरी रुइया, न्‍यूट्रीशन और फिटनेस एक्‍सपर्ट, प्रोटीन पहल के अधिकार के लिए समर्थक और अमेरिकी एकेडिमी न्‍यूट्रीशन की एक पूर्व छात्र कहती हैं, “भारतीय आहार सभी आवश्यक पोषक तत्वों के साथ बहुत अधिक अनुकूल है, लेकिन जो विकल्प हम बनाते हैं, उनमें कई पोषक तत्वों की कमी होती है, उनमें से एक प्रोटीन है। लापरवाही भी खराब जीवनशैली के कारणों में से एक है, जिसमें नाश्ते को छोड़ना या ईजी-कुकिंग तरीकों का उपयोग कर हाई प्रिजर्वेटिव फूड्स पर जाना शामिल है।'' 

"इसलिए, वह कहती हैं कि एक सही नाश्ते में कार्बोहाइड्रेट, फैट, फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और जैसे कॉम्‍पलेक्‍स पोषक तत्वों का एक सेट शामिल होना चाहिए। सबसे महत्वपूर्ण बात, प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ। क्‍योंकि सुबह में पहले खाने में प्रोटीन युक्त आहार लेने से मांसपेशियों की ताकत बढ़ाने और वजन घटाने में तेजी लाने में मदद मिलती है। यह आपको बिना किसी थकान के दिन भर के लिए ऊर्जा भी प्रदान करता है। सही नोट पर दिन शुरू करने के लिए जागने के 1-2 घंटे बाद प्रोटीन युक्त नाश्ता करना चाहिए।'' 

प्रोटीन की सही मात्रा लेना भी है जरूरी 

Right Amount of Protein per Day

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने भारतीयों के लिए अनुशंसित आहार भत्ता (RDA) के रूप में कुछ दिशानिर्देश दिए हैं। इस RDA में कहा गया है कि प्रति दिन शरीर के वजन के हिसाब से 0.8 से 1 ग्राम प्रोटीन मूल पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए आवश्‍यक है । इसका मतलब है, एक आपकी खाने की प्लेट में एक चौथाई भाग प्रोटीन होना चाहिए। 

इसे भी पढें: ब्रेकफास्‍ट और स्‍नैकिंग टाइम के लिए घर पर बनाएं प्रोटीन और आयरन से भरपूर 3 हेल्‍दी चटनी

प्रोटीन से जुड़ी गलतफहमियां, जिन्‍हें रोकने की जरूरत है 

यह बताते हुए कि कैसे भारतीयों को लगता है कि उनके प्रोटीन का सेवन जारी है, इस पर माधुरी रुइया कहती हैं, “भारतीय आहार में 60 प्रतिशत अनाज है। कुछ को लगता है कि हर भोजन में एक कटोरी दाल प्रोटीन की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त है, लेकिन ऐसे भोजन में आवश्यक मैक्रोन्यूट्रिएंट्स की कमी होती है, जो प्रोटीन की जरूरतों को पूरा करने के लिए आवश्यक हैं। इसलिए, डाय‍टीशियन के अनुसार, प्रत्येक प्रोटीन स्रोत के साथ सही भोजन में दाल, अनाज और एनिमल बेस्‍ड प्रोटीन जैसे मांस, सोया, अंडे, आदि का मिश्रण होना चाहिए।

प्रोटीन के महत्व पर जोर देने वाले अन्य मिथक 

Value Of Protein

सबसे आम मिथक है कि प्रोटीन केवल एथलीटों या बॉडी बिल्‍डर के लिए है,  जबकि तथ्य यह है कि हर किसी को शारीरिक कार्यों को बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन की आवश्यकता होती है। आवश्यकता किसी के शरीर के प्रकार और जीवन शैली पर निर्भर करती है।

एक और आम गलत धारणा यह है कि शाकाहारी भोजन में प्रोटीन की कमी होती है। जबकि शाकाहारी भोजन का सही संयोजन चावल, दाल, क्विनोआ और सोया के साथ में प्रोटीन की अच्‍छी मात्रा होती है। 

सभी के लिए जरूरी है प्रोटीन 

प्रोटीन केवल उन लोगों के लिए नहीं है जो व्यायाम करते हैं और न केवल मांसपेशियों के निर्माण या लाभ के लिए आवश्यक हैं। बहुत सारे तरीकों से प्रोटीन एक आवश्यक बिल्डिंग ब्लॉक है। विशेषज्ञ शरीर में प्रोटीन के निचले-सामान्य स्तर को हाइपोप्रोटीनीमिया कहते हैं, जिसके लक्षण अक्सर त्वचा की असामान्यता, बालों के झड़ने, नाखून और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के रूप में दिखाई देते हैं। यह एक खतरनाक स्तर पर किसी के आहार में प्रोटीन की कमी के महत्वपूर्ण संकेत में से एक है। 

Read More Article On Healthy Diet In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK