प्रेग्‍नेंसी फोबिया पर काबू पाने के तरीके

    प्रेग्‍नेंसी फोबिया पर काबू पाने के तरीके

    कुछ महिलायें प्रसव के दौरान होने वाले डर से इतना सहम जाती हैं कि वे गर्भवती नहीं होना चाहती, उनके इस डर को टोको‍फोबिया भी बोला जाता है, यह शारीरिक से ज्‍यादा दिमागी डर होता है।

    मां बनने का एहसास शायद इस दुनिया के सबसे खूबसूरत एहसासों में से एक है। प्रेग्‍नेंसी को हम खुशी के साथ जोड़ते हैं क्‍योंकि घर में एक नए महमान के आने से खुशियां दोगुनी हो जाती हैं। इसे टोकोफोबिया के नाम से भी जाना जाता है।

    लेकिन कुछ महिलायें प्रसव और उससे पहले के दौर से गुजरने के बाद बहुत डर जाती हैं, इसलिए दोबार से गर्भवती होना भी नहीं चाहती हैं। हालांकि प्रेगनेंसी का यह डर कई महिलाओं में आम होता है और इस डर के पीछे कोई और नहीं बल्कि दिमागी डर छुपा होता है। अगर आप भी प्रेग्‍नेंसी फोबिया से गुजर रहीं रही हैं तो यह टिप्‍स आपके काम आ सकते हैं।

    Pregnancy Phobia in Hindi

    काउंसलर से बात करें

    गर्भावस्‍था बाद अगर आप को डर लग रहा है, प्रसव के बाद होने वाले दर्द से आप उबर नहीं पा रही हैं तो सबसे पहले एक काउंसलर के पास जायें और उससे सलाह लें। काउंसलर के पास इस डर से बाहर निकलने की तरकीबें होंगी जो आपके लिए फायदेमंद हो सकती हैं। उन महिलाओं से भी बात करनी चाहिये जो इस दौर से गुजर चुकी हों।

     

    पार्टनर का साथ

    अगर आपकी महिला साथी किसी भी प्रकार के सदमे से गुजर रही है तो इससे बाहर निकालने का काम उसके पुरुष मित्र का सबसे अधिक है। क्‍योंकि वह ही उसकी भावनाओं को समझकर उसे इससे बाहर निकलने में मदद कर सकता है। तो पार्टनर को चाहिए कि अपनी महिला साथी की हर तरह से मदद करें।

     

    सकारात्‍मक सोच रखें

    हर दर्द की दवा है सकारात्‍मक सोच, यही सोच आपको हर कदम पर साथ निभाती है। आपको इस पॉजिटिव सोच की ओर भी ध्‍यान देना चाहिये कि अगर इस दुनिया में बच्‍चा लाना खुशी की बात नहीं होती, तो बहुत से जोड़े यह काम न करते। जब पुराने जमाने में महिलाएं बिना किसी मेडिकल सहायता के प्रसव के दौर से आराम से गुजर जाती थीं, तो आपको तो इतनी सारी मेडिकल सुविधायें उपलब्‍ध हैं, ऐसे में डर किस बात का।

    Ways To Overcome from Pregnancy Phobia in Hindi

    जानकारी इकट्ठा करें

    गर्भावस्‍थ से लेकर प्रसव तक के बारे में सभी प्रकार की जानकारी इकट्ठा कीजिए। बच्‍चा होने से संबधित जानकारी के बारे में बारे में लोगों से पूछने की बजाए अच्‍छा होगा कि आप टीवी या फिर अच्‍छी किताबों में पढ़ कर जानकारी प्राप्‍त करें। आपको तो इस बात से खुश होना चाहिये कि प्रेगनेंसी के समय आप आराम से बिना किसी चिंता के जितनी मर्जी उतनी कैलोरी का खाना खा सकती हैं।

    क्‍यों होता है टोकोफोबिया

    कई महिलाएं प्रसव को लेकर इतनी अधिक डरी होती हैं कि वे 40 तक की उम्र पार होने के बाद भी गर्भवती नहीं होना चाहती हैं। कुछ महिलाएं तो अपनी बॉडी शेप को लेकर ही डर जाती हैं, कि अगर उनका वही सुडौल शेप दुबारा न मिल पाया तो क्‍या होगा। कुछ महिलाएं इसलिये डरती हैं कि मां बनने के बाद उनके पार्टनर उन्‍हें पहले जैसा प्‍यार नहीं करेंगे। कुछ को लगता है कि उनकी जिंदगी में एक नया मेहमान आने से उनकी दिनचर्या प्रभावित हो जायेगी। इसके अलावा महिला को प्रसव के दौरान होने वाला दर्द सबसे अधिक सताता है।

    मां बनना एक खूबसूरत एहसास है, और घर में एक नये मेहमान के आने से खुशियां भी बढ़ जाती हैं। इतनी मेडिकल सुविधाओं ने प्रसव के दर्द को कम कर दिया है। तो फिर प्रेग्‍नेंसी फोबिया क्‍यों।

     

    Read More Articles on Pregnancy in Hindi

     
    Disclaimer:

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK