• shareIcon

    प्रेग्नेंसी में कभी न करें इस चीज का सेवन, शिशु को होगा खतरा!

    गर्भावस्‍था By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Mar 05, 2018
    प्रेग्नेंसी में कभी न करें इस चीज का सेवन, शिशु को होगा खतरा!

    गर्भवती होने पर एक महिला अन्य महिलाओं की तुलना में कई मायनों में अलग हो जाती है।

    गर्भवती होने पर एक महिला अन्य महिलाओं की तुलना में कई मायनों में अलग हो जाती है। अपने और शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए गर्भवती को अपने लाइफस्टाइल के साथ साथ अपने खानपान पर भी विशेष ध्यान रखना होता है। गर्भवती महिला को और उसके होने वाले शिशु को पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स की जरूरत होती है। प्रेग्नेंसी में महिलाओं को काफी कुछ खाने का मन करता है,जिससे वजन बढ़ना लाजिमी है। ऐसे समय में वजन बढ़ाने वाली चीजें खाने की अपेक्षा शरीर को पोषण मिलने वाली चीजें खानी चाहिए। फल, हरी सब्जियां, दूध आदि शरीर को अंदर से मजबूत बनाने के साथ आपकी त्वचा के लिए भी लाभकारी साबित होते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे प्वाइंटस बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप अपने खानपान को बेहतर कर सकती हैं। 

    • सुबह के समय चार-पांच भीगे बादाम खाएं।
    • नाश्ते के दौरान फल और ग्रीन टी लें। ग्रीन टी में निकोटिन कम होता है। इससे भूख खुलकर लगती है। आप अंडा खा सकती हैं। जूस भी पी सकती हैं।
    • नाश्ते के कुछ समय बाद हरी सब्जियां मिलाकर बनाई गई दलिया या पोहा भी ले सकती हैं।
    • लंच में चोकर वाली रोटी या मिस्सी रोटी के साथ दाल, रसेदार सब्जी और एक पत्ते वाली सब्जी ले सकती हैं।
    • लंच करने के कुछ देर बाद फल खा सकती हैं।
    • शाम के समय सूप पीना चाहिए। इससे रात में भूख खुलकर लगती है। ड्राईफ्रूट्स भी खा सकती हैं।
    • डिनर में रोटी, दाल, रसेदार सब्जी और हरी सब्जी ले सकती हैं। आप चाहें तो चावल भी खा सकती हैं।
    • रात में सोने से पहले एक गिलास गुनगुना दूध भी ले सकती हैं। यह स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद रहेगा।
    • दिन में अगर अधिक भूख लगती है और कुछ खाने का मन करता है तो ताजे फल, सलाद और उबली हुई सब्जियां ले सकती हैं।
    • पनीर, अंकुरित अनाज, सोयाबीन, अंडा ले सकती हैं।
    • दिन में पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
    • जूस पीने के बजाय साबुत फल खाएं। कारण, रेशेदार फल शरीर के लिए ज्यादा फायदेमंद होते हैं।

    ये चीजें भी है जरूरी

    पैरों की सफाई है जरूरी

    गर्भावस्था के दौरान पैरों की सफाई जरूरी है, इसलिए आप थोड़े-थोड़े दिन के अंतराल पर पेडिक्योर करा सकती हैं। पेडिक्योर से आपके पैरों की अच्छी मसाज होती है जिससे पैरों की थकान दूर होती है। इसी तरह आप अपने हाथों के लिए मैनिक्योर करा सकती है। इससे हाथों की सफाई के साथ एक अच्छी मसाज हो जाती है।

    इसे भी पढ़ें : गर्भवती होने का झूठा एहसास हो सकता है गर्भावस्‍था भ्रम

    सनस्क्रीन लोशन

    गर्भावस्था के दौरान सनस्क्रीन लोशन का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए, क्योंकि इन दिनों त्वचा बेहद संवेदनशील हो जाती है, जिसे सूर्य की घातक अल्ट्रावायलेट किरणें रूखा और बेजान बना देती हैं, जिसके कारण त्वचा पर झुर्रियां पड़ जाती हैं।

    स्क्रब और क्लींजर

    गर्भावस्था के दौरान त्वचा काफी तैलीय हो जाती है। इसलिए इन दिनों त्वचा की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। सफाई ठीक ढंग से नहीं करने पर त्वौचा के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं। त्वचा की साफ-सफाई के लिए नियमित रूप से क्लींजर व मुलायम स्क्रब का इस्तेमाल करें।

    इसे भी पढ़ें : महिलाओं की मौत का जिम्‍मेदार है असुरक्षित गर्भपात

    बालों की देखभाल

    इस अवस्था में हार्मोंन्स के बदलाव के कारण आपके बाल सुंदर दिखने लगते हैं। आम दिनों की अपेक्षा प्रेंग्नेंसी में आपके बाल ज्यादा मजबूत व मोटे लगते हैं, तो ऐसे समय में आप अपने बालों में नए नए हेयर स्टाइल कर सकती हैं जो आप पर अच्छा लगे। इसके अलावा नया हेयर कट भी करवा सकती है।

    खूब पानी पीएं

    गर्भावस्था में बार-बार पानी पीने से आपकी त्वचा खिली-खिली रहती है। साथ ही आप और आपके बच्चे दोनों को ही पोषण मिलता है। ध्यान रहें इस हालत में आपको अपने और बच्चे दोनों के लिए पानी पीना जरूरी है, इसलिए पानी की बोतल हमेशा अपने साथ रखें।

    भरपूर नींद भी है जरूरी 

    गर्भावस्था में आपको ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए, क्योंकि इस अवस्था में आपको आराम की ज्यादा जरूरत होती है। आराम करने से आप खुद में ताजगी महसूस करती है जिससे आप गर्भावस्था में सुंदर दिखती हैं।

    ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

    Read More Articles On Pregnancy In Hindi

     
    Disclaimer:

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।