Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

बिजली की लाइनों से ल्‍यूकीमिया का खतरा नहीं

लेटेस्ट
By अन्‍य , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 19, 2014
बिजली की लाइनों से ल्‍यूकीमिया का खतरा नहीं

हाल में हुए एक शोध में यह सामने आया है कि बिजली लाइनों के पास रहने वाले बच्चों को ल्यूकीमिया का अधिक खतरा नहीं होता है।

हाल में हुए एक शोध में यह सामने आया है कि बिजली लाइनों के पास रहने वाले बच्चों को ल्यूकीमिया का अधिक खतरा नहीं होता है।

Powerlines Do Not Cause Leukemia यह नतीजा 1962 से 2008 के बीच ब्रिटेन में ल्यूकीमिया से पीड़ित होने वाले 16500 बच्चों के डाटा के विश्लेषण के बाद निकाला गया है।



इस शोध में पाया गया कि बिजली की लाइनों के पास रहने वाले बच्चों में 1980 के बाद से ल्यूकीमिया का खतरा बढ़ा नहीं है। हालांकि 60-70 के दशक में ये खतरा अधिक था।



इसके शोधकर्ताओं का कहना है कि नतीजे आश्वस्त करने वाले जरूर हैं, लेकिन ऐतिहासिक नमूनों को समझने के लिए इस दिशा में और काम किये जाने की आवश्‍यकता है।



ब्रिटेन में हर साल 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में ल्यूकीमिया के 460 नए मामले सामने आते हैं। यूनीवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के चाइल्ड कैंसर रिसर्च सेंटर ने रिसर्च के लिए नेशनल रजिस्ट्री ऑफ चाइल्डहुड ट्यूमर्स के डाटा का इस्तेमाल किया।



इसके शोधकर्ता कैथरीन बंच ने बताया, "यह जानकारी अभिभावकों को निश्चिंत करने वाली है, लेकिन जब तक हम यह नहीं बता पाते कि पहले के दशकों में ये खतरा क्यों बढ़ा था तब तक हम कुछ परिस्थितियों में खतरा होने की संभावना को नहीं नकार सकते।"



शोधकर्ता अब इस सवाल का जबाव तलाशने की दिशा में ही काम कर रहे हैं, कि पहले ये खतरा क्‍यों था।

 

source-bbc.com

 

 

Read More Health News in Hindi

Written by
अन्‍य
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागFeb 19, 2014

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK