• shareIcon

वायु प्रदूषण के कारण अचानक बढ़े फेफड़ों के कैंसर के मामले, बिहार समेत कई राज्यों में खतरा

Updated at: Dec 24, 2018
लेटेस्ट
Written by: अनुराग अनुभवPublished at: Dec 24, 2018
वायु प्रदूषण के कारण अचानक बढ़े फेफड़ों के कैंसर के मामले, बिहार समेत कई राज्यों में खतरा

सिर्फ धूम्रपान से नहीं, वायु प्रदूषण से भी कैंसर होता है। देश भर में वायु प्रदूषण के कारण फेफड़ों के कैंसर के मामले तेजी से बढ़े हैं। उत्तरप्रदेश, बिहार, राजस्थान आदि राज्यों में भी प्रदूषण खतरनाक स्तर से बहुत ज्यादा है।

सिर्फ धूम्रपान से नहीं, वायु प्रदूषण से भी कैंसर होता है। देश भर में वायु प्रदूषण के कारण फेफड़ों के कैंसर के मामले तेजी से बढ़े हैं। आमतौर पर मुख्यधारा की मीडिया में दिल्ली के वायु प्रदूषण की चर्चा रहती है मगर देश के अन्य राज्यों उत्तरप्रदेश, बिहार, राजस्थान आदि राज्यों में भी प्रदूषण खतरनाक स्तर से बहुत ज्यादा है। हाल में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जब सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों की सूची जारी की, तो उनमें भारत के 14 शहर शामिल थे, जिनमें कानपुर, फरीदाबाद, बनारस, गया, पटना, मुजफ्फरपुर, गुड़गांव, जयपुर आदि शामिल हैं।

धूम्रपान नहीं करने वालों में भी बढ़ा फेफड़ों का कैंसर

चिकित्सकों का मानना है कि पिछले कुछ सालों में फेफड़ों के कैंसर जुड़े जितने मामले सामने आए हैं, उनमें ज्यादातर लोग धूम्रपान नहीं करते थे मगर प्रदूषण के कारण उन्हें ये बीमारी हुई। पटना के सवेरा कैंसर एंड मल्टीस्पेशियलिटी अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक, कैंसर धूम्रपान नहीं करने वाले लोगों को भी हो रहा है। यहां के चिकित्सकों की टीम ने मार्च, 2012 से जून, 2018 तक 150 से ज्यादा मरीजों का विश्लेषण किया, जिसमें पाया गया कि बिना धूम्रपान करने वाले व्यक्ति भी कैंसर के शिकार बन रहे हैं।

इसे भी पढ़ें:- भारतीय पुरुषों में बढ़ रहा है ओरल कैंसर, सबसे ज्यादा मामले यूपी और बिहार में: चिकित्सक

76 लाख से ज्यादा लोग हर साल शिकार

पटना के जाने-माने कैंसर सर्जन डॉ. वी. पी. सिंह ने सर्वेक्षण के आधार पर बताया कि इन मरीजों में तकरीबन 20 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जो धूम्रपान नहीं करते थे। 50 वर्ष से कम उम्र समूह में यह आंकड़ा तो 30 प्रतिशत तक पहुंचा। ये लोग धूम्रपान नहीं करते थे। उन्होंने हालांकि कहा कि फेफड़ों से जुड़े कैंसर का सबसे बड़ा कारण धूम्रपान होता है। धूम्रपान से होने वाले इस आम कैंसर के बारे में तमाम जागरूकता अभियान चलाए जाते हैं, इसके बावजूद वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (डब्लूएचओ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 76 लाख से ज्यादा लोग हर साल इस बीमारी का शिकार होते हैं।

बहुत मुश्किल है फेफड़ों के कैंसर का इलाज

डॉ. सिंह ने कहा कि फेफड़े के कैंसर से धूम्रपान करने वाले ही नहीं, बल्कि धूम्रपान न करने वाले युवक-युवतियां भी जूझ रहे हैं और ऐसा बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण हो रहा है। उन्होंने कहा कि फेफड़े का कैंसर खतरनाक बीमारी है और इसके निदान के बाद भी पांच साल तक जीवित रहने की उम्मीद कम ही होती है।
डॉ. सिंह ने कहा, "पारंपरिक ज्ञान यह कहता है कि फेफड़े के कैंसर का धूम्रपान मुख्य कारण है, लेकिन हाल के दिनों में हुए शोधों से पता चलता है कि फेफड़े के कैंसर के बढ़ते मामलों में प्रदूषित हवा की भूमिका बढ़ रही है।"

इसे भी पढ़ें:- देश में 18 लाख से ज्यादा हुए टीबी के मरीज, प्रदूषण हो सकता है बड़ा कारण

कैसे पहचानें लक्षण

रोग के लक्षणों और बचने के तरीकों के बारे में उन्होंने कहा कि फेफड़े के कैंसर को आसानी से पहचाना जा सकता है। उन्होंने कहा कि छाती में दर्द, छोटी सांसें लेना और हमेशा कफ रहना, चेहरे और गर्दन पर सूजन, थकान, सिरदर्द, हड्डियों में दर्द तथा वजन कम होना इस बीमारी के मुख्य लक्षण हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को 'पैसिव स्मोकिंग' (सिगरेट के धुएं) से बचना चाहिए। उन्होंने लोगों को प्रतिदिन व्यायाम करने की सलाह देते हुए फल और सब्जियां खाने पर जोर दिया। उन्होंने लोगों से 'सेकेंड हैंड स्मोकिंग' से भी बचने की सलाह दी।

इनपुट्स-  आईएएनएस

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK