• shareIcon

पोलियो वैक्सीन में मिला टाइप-2 वायरस, यूपी, महाराष्ट्र से फिर सामने आ सकते हैं मामले

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 01, 2018
पोलियो वैक्सीन में मिला टाइप-2 वायरस, यूपी, महाराष्ट्र से फिर सामने आ सकते हैं मामले

गाजियाबाद में पोलियो के ओरल वैक्सीन में टाइप-2 पोलियो का वायरस मिलने से हड़कंप मच गया है। लाखों बच्चों को ये दवा पिला दी गई है, जिससे फिर से पोलियो फैलने का खतरा सामने आ गया है।

पिछले दो दशकों से भारत को पोलियोमुक्त बनाने के लिए सरकारी अभियान जारी है। हाल में ये दावा किया गया कि दुनियाभर के अन्य देशों के साथ-साथ भारत भी अब पोलियोमुक्त हो चुका है। लेकिन पिछले दिनों गाजियाबाद में पोलियो के ओरल वैक्सीन में टाइप-2 पोलियो का वायरस मिलने से हड़कंप मच गया है। ये वैक्सीन्स गाजियाबाद के बायोमेड प्राइवेट लिमिटेड द्वारा सप्लाई की जा रही थीं। ये कंपनी सरकार के टीकाकरण कार्यक्रमों के लिए पोलियो की दवाओं की आपूर्ति करती थी। आइए आपको बताते हैं क्या है पूरा मामला।

दवा में पाए गए पोलियो के विषाणु

बनारस में 5 अगस्त को पर्ल्स पोलियो अभियान के तरह छोटे बच्चों को पोलियो वैक्सीन की खुराक पिलाई गई थी। इसके बाद 7 अगस्त को एक बच्चे को पैरों में कुछ परेशानी हुई तो उसके शौच का नमूना जांच के लिए भेज दिया गया। जांच के बाद पता चला कि नमूने में टाइप-2 वायरस पाया गया है। जब ये मामला केंद्रीय औषधि विभाग दिल्ली पहुंचा, तो वैक्सीन की सप्लाई करने वाली बायोमेड प्राइवेट लिमिटेड पर छापा मारकर अन्य सैंपल इकट्ठे कर जांच के लिए भेजे गए। जांच में वैक्सीन की गुणवत्ता को खराब पाया गया। इसके बाद कंपनी में निर्मित इन वैक्सीन को सील कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें:- अब आंखों की रेटिना देखकर दिल की बीमारी बताएगा गूगल का आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस

कई लाख बच्चों को पिलाई गई खराब दवा

जांच में दवाओं में वायरस पाए जाने के बाद पुलिस द्वारा कंपनी के प्रबंध निदेशक एस.पी. गर्ग को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी ने पुलिस के सामने स्वीकार किया गया है कि अकेले बनारस में ही 5 अगस्त को 10 लाख बच्चों को पल्स पोलियो अभियान के तहत दवा पिलाई गई थी। बनारस के अलावा इन वैक्सीन्स को हाल में ही पूर्वी उत्तर प्रदेश के गाजीपुर, मिर्जापुर और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के आगरा, अलीगढ़, मुरादाबाद, मेरठ समेत महाराष्ट्र के कई जिलों सप्लाई किया गया था।

फिर से सामने आ सकते हैं पोलियो के मामले

विश्व को पोलियोमुक्त बनाने के लिए दुनियाभर की सरकारें कई दशकों से लगातार जागरूकता कार्यक्रम चला रही हैं। भारत में भी पिछले लगभग दो दशकों से 'पल्स पोलियो अभियान' चलाया जा रहा है। आपको बता दें कि कई साल पहले ही भारत को पोलियोमुक्त घोषित किया जा चुका है। लेकिन वैक्सीन में टाइप-2 पोलियो वायरस के पाए जाने के बाद से ऐसा माना जा रहा है कि भारत में फिर से पोलियो के मामले सामने आ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- रक्तदान की नई गाइडलाइंस जारी, पुरुष रक्तदाताओं से पूछे जाएंगे निजी रिश्तों से जुड़े सवाल

पोलियो के लक्षण

मरीज की स्थिति वायरस की तीव्रता पर निर्भर करती है। अधिकतर स्थितियों में पोलियो के लक्षण फ्लू जैसी ही होते हैं। लेकिन इसके कुछ सामान्य लक्षण हैं:

  • पेट दर्द
  • उल्टियां आना
  • गले में दर्द
  • सिरदर्द
  • जटिल स्‍‍थितियों में हृदय की मांस पेशियों में सूजन भी आ सकती हैं
  • मांसपेशियों में गंभीर दर्द
  • अंगों का ढीला हो जाना
  • अचानक लकवा मार जाना यानी पैरालिसिस के लक्षण दिखाई देना
  • कूल्हों, एड़ियों और पैरों का विकृत हो जाना

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Health News In Hindi

 

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।