• shareIcon

विशेषज्ञों का दावा, बेटों से ज्यादा बेटियां रखती हैं माता-पिता का ख्याल

डेटिंग टिप्स By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Apr 30, 2018
विशेषज्ञों का दावा, बेटों से ज्यादा बेटियां रखती हैं माता-पिता का ख्याल

भारतीय संस्कृति में सदियों से यह परंपरा चली आ रही है कि अपने बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल की जिम्मेदारी बेटे ही निभाते हैं, लेकिन जमाना बदल रहा है। 

भारतीय संस्कृति में सदियों से यह परंपरा चली आ रही है कि अपने बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल की जिम्मेदारी बेटे ही निभाते हैं, लेकिन जमाना बदल रहा है। आजकल कुछ परिवारों में केवल दो या तीन बेटियां ही होती हैं। ऐसे में उनकी ससुराल वालों को भी यह समझने की कोशिश करनी चाहिए कि उनके बुजुर्ग माता-पिता अपनी बेटी पर ही निर्भर हैं। वैसे भी बेटियां भले ही जॉब करती हों, फिर भी घर के साथ उनका खास तरह का जुड़ाव होता है और बेटों की तुलना में वे अपनेे माता-पिता की ज्यादा अच्छी देखभाल कर पाती हैं। इसलिए अगर कोई बेटी आर्थिक रूप से सक्षम है तो उसे स्वयं आगे बढ़कर अपने पेरेंट्स की जिम्मेदारी उठानी चाहिए। जब वे परवरिश के मामले में बेटियों को बराबरी का दर्जा देते हैं तो बेटियों को भी परिवार की जिम्मेदारी उठाने से पीछे नहीं हटना चाहिए।

मिलजुल कर रखें खयाल

आज के जमाने में यह सोचना गलत है कि माता-पिता की देखभाल केवल बेटों को ही करनी चाहिए। जब हमारे पेरेंट्स बेटे और बेटी के बीच कोई भेदभाव नहीं करते तो हमें भी उनके प्रति कृतज्ञ होकर बुढ़ापे में उनकी सेवा करनी चाहिए। हमारी यह जिंदगी और पहचान हमें अपने माता-पिता से ही मिली है। हम चाहे उनकी जितनी भी सेवा कर लें, उनके ऋण से मुक्त नहीं हो सकते। इसलिए जहां तक संभव हो हमें उनका पूरा खयाल रखना चाहिए। यह बात अलग है कि जिन परिवारों में बेटी के साथ बेटा भी होता है, वहां स्वाभाविक रूप से बहन की तुलना में भाई की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। फिर भी मेरा मानना है कि चाहे बेटा हो या बेटी, अपने माता-पिता को पूरा सम्मान देते हुए, हमें मिलजुल कर उनका खयाल रखना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : डेटिंग साइट्स पर खोज रहे हैं जीवनसाथी, तो हो जाएं सावधान

विशेषज्ञ की राय

आजकल लोग बेटे-बेटी के बीच कोई भेदभाव नहीं करते। वे अपने बेटों की तरह बेटियों को भ्भी पढऩे और आगे बढऩे का पूरा मौका देते हैं, बल्कि बेटियों के प्रति उनके मन में विशेष स्नेह होता है क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है कि शादी के बाद उनकी बेटी ससुराल चली जाएगी। आज के मध्यवर्गीय शहरी समाज में आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर लड़कियों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। इसलिए वे शादी के बाद माता-पिता के प्रति अपने कर्तव्य को महसूस करती हैं। ससुराल में रहते हुए भी वे सास-ससुर के साथ-साथ अपने माता-पिता का भी ध्यान रख्खती हैं। भ्जब भी जरूरत होती है, वे उनकी मदद के लिए तैयार रहती हैं। आज के सास-ससुर भी पुराने समय की तरह बहू पर बंदिशें नहीं लगाते।

इसे भी पढ़ें : डेट पर जानें से पहले लड़के करें ये 1 काम, गर्लफ्रेंड होगी इंप्रेस

सबसे अच्छी बात यह है कि इस सकारात्मक सामाजिक बदलाव का असर पाठिकाओं के विचारों में भी नजर आ रहा है। बुजुर्ग पाठिका मीरा जैन की इस बात से मैं भी सहमत हूं कि बेटियां माता-पिता के प्रति ज्यादा केयरिंग होती हैं और युवा पाठिका आंचल का यह कहना बिलकुल सही है कि बेटियों को भ्भी अपने माता-पिता का पूरा ध्यान रखना चाहिए। हालांकि यह बदलाव अभ्भी महानगरों के शिक्षित परिवारों तक ही सीमित है। छोटे शहरों और गांव में आज भी लोग बेटियों को पराया धन समझते हैं, पर आशा है कि समय के साथ वहां भ्भी लोगों की सोच में बदलाव आएगा।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Relationship in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK