Parenting Tips: बच्‍चे को जल्‍द बात करने में मदद करेंगी ये 5 पेरेंटिंग टिप्‍स

Updated at: Apr 20, 2020
Parenting Tips: बच्‍चे को जल्‍द बात करने में मदद करेंगी ये 5 पेरेंटिंग टिप्‍स

यदि आप भी अपने जिगर के टुकड़े यानि अपने नवजात बच्‍चे को सुनने के लिए उत्सुक हैं, तो यहां कुछ पेरेंटिंग टिप्स दिए गए हैं, जो आपकी मदद कर सकते हैं।

Sheetal Bisht
नवजात की देखभालWritten by: Sheetal BishtPublished at: Apr 20, 2020

बच्चे के जन्म के बाद, आप उसकी ममतामयी आवाज़ में 'मम्मा' और 'पापा' शब्द सुनने का इंतजार नहीं कर सकते। केवल माता-पिता ही क्यों, दादा-दादी, भाई-बहन, हर कोई चाहता है कि बच्चा जल्दी से बात करना शुरू कर दे। लोग बच्चे से बात करने की कोशिश भी करते हैं। कुछ बच्चे 6 महीने की उम्र से ही बात करना शुरू कर देते हैं, यानि कुछ शब्‍द बोलना शुरू कर देते हैं, जबकि कुछ में 2-3 साल तक का समय लग सकता है। जब इंतजार लंबा हो जाता है, तो यह चिंता बढ़ जाती है क्योंकि इसे सामान्य नहीं माना जाता है।

विशेषज्ञों के अनुसार, ज्‍यादातर बच्‍चे 11 से 14 महीने की उम्र में बड़बड़ाना या बुदबुदाना शुरू कर देते हैं। दूसरी ओर, बच्चे 16 महीने तक तोतला या फिर साफ शब्द बोलने लगते हैं। उनके द्वारा दैनिक आधार पर लगभग 40 शब्द बोले जाते हैं। बच्‍चे जरिए बोले गए पहले शब्द या तो वे हो सकते हैं, जिन्हें वे कहने के लिए प्रोत्साहित करते हैं या वे सबसे ज्यादा सुनते हैं। बच्चे बेहद स्मार्ट होते हैं और वह आपके द्वारा कहे गए हर शब्द को बोलने की कोशिश करते हैं, जो न केवल उन्हें बोलने के लिए उकसाता है बल्कि उनकी शब्दावली भी बढ़ाता है। केवल माता-पिता ही बच्चे की बात करने में मदद कर सकते हैं। यहाँ आपके बच्चे को जल्‍दी बात करने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: बच्‍चे का नाम कैसे रखें ? अगर हैं आप भी कंफ्यूज, तो नामकरण से पहले रखें इन 10 बातों का ख्‍याल

स्पीकिंग और बेबीज ब्रेन

बोलने से दिमाग नियंत्रित होता है। बोलने को ट्रिगर करने के लिए, शिशु के मस्तिष्क को उनके नाम के साथ वस्‍तुओं या व्यक्तियों की पहचान करने की आवश्यकता होती है। यह आवाल और बोलने के लिए उनके होंठ और जीभ को ट्रेन करता है। बच्चा कितनी जल्दी बोलना शुरू करता है, यह मस्तिष्क के विकास और कौशल पर निर्भर करता है। औसतन, 18 महीने का बच्चा अपने छोटे रूपों में शब्दों को गुनगुनाना शुरू कर देता है। इसके बाद, आवाज की स्पष्टता विकसित की जाती है, जो बच्चे को स्पष्ट शब्द बोलने में मदद करती है। माता-पिता बच्चे को बोलने के लिए प्रेरित कर सकते हैं, जो उसे शब्दों को चुनने में मदद करता है। यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं।

बच्‍चे से चिट-चैट करें 

Do Chit Chat With Baby

अपने दिमाग को प्रशिक्षित करने में मदद करने के लिए बच्चे के साथ बातें करना सबसे आसान काम है। आप जितने अधिक शब्द बच्‍चे को सुनाते हैं, उतने अधिक बच्चे का मस्तिष्क उन्हें पकड़ने और शब्दों को समझने की प्रक्रिया करेगा। जितना उनका दिमाग लगा रहता है, उतना ही यह बच्चे को बोलने देगा। आप बच्‍चे से वैसे ही बात करते हैं जैसे आप किसी और से बात करते हैं, बस थोड़ा प्‍यार और चेहरे पर भाव के साथ। इससे बच्‍चा प्यार और जुड़ाव महसूस करेगा। यह बच्‍चे को आपसे बात करने और आपकी बातों का जवाब देने के लिए प्रोत्साहित करता है।

लोरी या गाना गाएं

म्‍युजिक नवजात शिशु के दिमाग तक पहुंचता है और विकास को प्रोत्साहित करता है। जैसा कि आप गाते हैं, बच्चा संगीत को पकड़ने और साथ गाना शुरू करने की कोशिश करेगा। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितना अच्‍छा गाते हैं या कितना बुरा। क्‍योंकि यह कोई गायन प्रतियोगिता नहीं है, यह केवल बच्‍चे को बात करने के लिए प्रोत्‍साहित करने वाली एक प्रक्रिया है। आप बच्‍चों के साथ गाने में मदद करने के लिए तुकबंदी, लोरी और कुछ हल्‍के गाने या कविताएं गाएं।

Sing a Lori

वाक्य को पूरा करें 

जब आपका बच्चा कुछ बोलने की कोशिश करता है या कुछ कहता है और वाक्य अधूरा छोड़ देता है, तो आप उसके वाक्‍य को पूरा करें। यह उन बच्चों के लिए सबसे अच्छा है, जो अस्पष्ट शब्द बोलते हैं। यह अभ्यास उन्हें अपनी आवाज़ में स्पष्टता लाने और अधिक शब्द सीखने के लिए प्रेरित करेगा।

इसे भी पढ़ें: नवजात बच्‍चे के साथ ट्रेवल में ध्‍यान रखेंगें ये 4 बातें, तो उठा पाएंगे ट्रिप का पूरा मजा

बच्‍चे की बातों या आवाज को दोहराएं

Bobble Back

जब बच्चा कुछ कह रहा हो या आवाज कर रहा हो, तो उसके बाद दोहराएं। वह आपके शब्दों को देखकर प्यार और प्रोत्साहित महसूस करेगा। इस तरह, आप उसे और नए शब्द सिखा सकते हैं और वह जल्द ही बात करना शुरू कर देगा।

Read More Article On Parenting Tips In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK