शिशु को पहली बार पनीर खिलाते समय इन बातों का रखें ध्यान, जानें बच्चों के लिए पनीर बनाने का खास तरीका

Updated at: Sep 25, 2020
शिशु को पहली बार पनीर खिलाते समय इन बातों का रखें ध्यान, जानें बच्चों के लिए पनीर बनाने का खास तरीका

शिशु को पनीर खिलाना, उनकी हड्डियों और दांतों को शुरुआत से ही मजबूत बनाने में मदद कर सकता है। पर पहली बार पनीर खिलाते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

Pallavi Kumari
बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Pallavi KumariPublished at: Sep 25, 2020

शिशु को जन्म के बाद पहली बार कोई भी चीज देते समय एक बार उसके बारे में गहराई से जरूर सोचें। ऐसा इसलिए क्योंकि कोई भी चीज जो बच्चे के लिए नई है, उस पर उसका शरीर जरूर रिएक्ट करेगा। जैसे कि पनीर। पहली बार बच्चे को पनीर खिलाने पर ये उसके गले में फंस सकता है, उसे गैस की परेशानी हो सकती है और वो बीमार भी हो सकता है। इसलिए बच्चे को पनीर (Paneer for Babies)देते समय कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें। ऐसा इसलिए भी क्योंकि कोई भी सोलिड फूड शिशु को परेशान कर सकती है। वहीं पनीर का प्रोटीन शिशु के शरीर में कुछ अलग रिएक्शन भी दिखा सकता है। तो आइए जानते हैं कि शिशु को पहली बार पनीर खिलाने सही उम्र और उनके लिए ये पनीर तैयार करने की खास रेसिपी।

insidewhentogivepaneertobaby

शिशु को पहली बार पनीर कब दें?

बच्चे को पनीर (How to give paneer to baby)खिलाने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में जरूर बात करे लें। हालांकि साइंस की मानें, तो शिशु को शुरुआती 6 महीने या 1 साल बाद ही पनीर खिलाएं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC)की मानें, तो 7 से 8 महीने बाद ही भोजन को बच्चे के रूटीन में लाना शुरू करना चाहिए।  पर ध्यान रखें कि पनीर दूध से बनता है और अगर आपके बच्चे को लैक्टोज सेसिटिविटी से जुड़ी कोई परेशानी है, तो उम्हें ये परेशान कर सकता है।

इसे भी पढ़ें : बच्चों में क्यों होती है पित्ती की ज्यादा शिकायत, जानें क्या है इससे बचाव और घरेलू इलाज

बच्चे को ना दें पाश्चराइजड पनीर 

जिस तरह आप अपने खाने में बाहर से खरीदे हुए पाश्चराइजड पनीर का इस्तेमाल करते हैं, उन तरीके से आप अपने बच्चे को खिलाने के लिए बाहरी पनीर का इस्तेमाल न करें। जानें पाश्चराइजेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जो बैक्टीरिया को मारने के लिए एक निश्चित तापमान पर भोजन को गर्म करती है। ये पनीर को लंबे समय तक चलने वाला बनाता है पर ये पचने में बहुत समय लेता है। इसलिए अपने बच्चे के लिए खुद से घर पर सॉफ्ट पनीर तैयार करें। 

insidepaneerforbabies

बच्चे के लिए कैसे तैयार करें पनीर (How to give paneer to baby)

बाहर से खरीदा पनीर सख्त हो सकता है, जिसके कारण ये आपके गले में फंस सकता है। ऐसे में आप बच्चे के लिए सॉफ्ट और भुरभुरा से पनीर तैयार करें। इसके लिए

  • -थोड़ा सा दूध लें।
  • -इसमें कुछ बूंद नींबू के डालें और उबाल दें।
  • -ये दूध फट जाएगा और अब इसमें खूब ठंडा पानी मिला दें।
  • -अब पनीर और पनीर का पानी अलग हो जाएगा। 
  • -अब इस पानी को थोड़ा फेंक दें और थोड़ा रहना दें।
  • -अब गैस को पीस से जलाएं और इसमें हल्की चीनी या गुड़ मिला लें।
  • -अब पानी सूखने तक इस चलाते रहें।
  • -जब पानी और पनीर एक दूसरे के साथ प्यूरी की तरह नजर आए तो बंद कर दें।
  • -अब एक सूती कपड़े की मदद से इस पनीर को छान लें।
  • -ध्यान रहें कि कपड़े को खूब न निचोड़ें और पनीर में पानी बना रहना दें।
  • -अब इस पनीरे को आराम से बैठकर अपने बच्चे को खिलाएं।

इसे भी पढ़ें : Healthy Eating: बच्चों को पौष्टिक आहार खाने के लिए इन आसान तरीकों से करें प्रोत्साहित, विकसित होने में मिलेगा

अगर आप इस तरह से अपने बच्चे को पनीर खिलाना नहीं पसंद करते हैं, तो आप पनीर और फलों के साथ (Paneer Recipes for Kids)मिला भी बच्चे को खिला सकते हैं। वहीं इस बात पर जरूर ध्यान रखें कि पनीर खाने के बाद बच्चा कैसी प्रतिक्रिया देता है। अगर उसे रैशेज, उल्टी और खुजली आदि की परेशानी होती है, तो आगे से उसे पनीर न दें और डॉक्टर से उसे जरूर दिखा लें। वहीं पहली बार पनीर देने पर बच्चे को दस्त, मतली और उल्टी जैसी चीजें भी हो सकती हैं। आपके बच्चे को पेट में ऐंठन, सूजन या गैस भी हो सकती है इसलिए पनीर खिलाने के बाद बच्चे पर जरूर नजर रखें।

Read more articles on Children's Health in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK