• shareIcon

ज्‍यादा देर सोना (ओवरस्लीपिंग) बन सकता है हृदय रोग और डायबिटीज का कारण, जानें क्‍यों ज्‍यादा सोते हैं लोग

विविध By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 08, 2019
ज्‍यादा देर सोना (ओवरस्लीपिंग) बन सकता है हृदय रोग और डायबिटीज का कारण, जानें क्‍यों ज्‍यादा सोते हैं लोग

रोजाना 7 से 9 घंटे की नींद पूरी करना सही माना जाता है, मगर जब सोने समय बढ़ जाता है या जब आप ओवरस्‍लीपिंग के शिकार हो जाते हैं तो यह आपके लिए गंभीर स्थिति हो सकती है।

यह सच है कि स्वास्थ्य के लिए रात की एक अच्छी नींद आवश्यक है। लेकिन ओवरस्लीपिंग (Oversleeping) अथवा जरूरत से ज्‍यादा नींद को डायबिटीज, हृदय रोग और मृत्यु के जोखिम को बढ़ाने के साथ कई अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं से जोड़ा गया है। हालांकि, शोधकर्ता ओवरस्लीपिंग के लिए दो अन्‍य फैक्‍टर को भी जिम्‍मेदार ठहराते हैं- अवसाद और निम्न सामाजिक आर्थिक स्थिति। ये दो कारक नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभावों का कारण हो सकता है। उदाहरण के लिए, निम्न सामाजिक आर्थिक स्थिति के लोगों की हेल्‍थ केयर तक कम पहुंच हो सकती है और इसलिए हृदय रोग जैसी अधिक अनियोजित बीमारियां, जो बदले में, ओवरस्लीपिंग का कारण हो सकती हैं।

कितनी नींद जरूरी है?

आपके सोने की मात्रा आपके जीवनकाल के दौरान अलग-अलग होती है। यह आपकी उम्र और गतिविधि के स्तर के साथ-साथ आपके सामान्य स्वास्थ्य और जीवन शैली की आदतों पर भी निर्भर करता है। उदाहरण के लिए, तनाव या बीमारी की अवधि के दौरान, आपको नींद की अधिक आवश्यकता महसूस हो सकती है। हालांकि, नींद की जरूरत समय के साथ और व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग होती है, विशेषज्ञ आमतौर पर सलाह देते हैं कि वयस्कों को हर रात सात से नौ घंटे के बीच सोना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- 2 मिनट में बनने वाले इंस्टैंट नूडल्स कितने खतरनाक हो सकते हैं! ये 6 कारण पढ़कर हैरान रह जाएंगे आप

लोग क्‍यों ज्‍यादा सोते हैं?

जो लोग हाइपरसोमनिया (H‍ypersomnia) से पीड़ित हैं, उनके लिए वास्तव में ओवरस्लीपिंग एक मेडिकल डिऑर्डर है। इस स्थिति के कारण लोग दिन भर अत्यधिक नींद से पीड़ित होते हैं, जो आमतौर पर झपकी से राहत नहीं देता है। इससे उन्हें रात में असामान्य रूप से लंबे समय तक सोने का भी कारण बनता है। हाइपर्सोमनिया वाले कई लोग नींद के लिए अपनी आवश्यकता के परिणामस्वरूप चिंता, कम ऊर्जा और स्मृति समस्याओं के लक्षण अनुभव करते हैं।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया, एक विकार है जो लोगों को नींद के दौरान सांस लेने को रोकने का कारण बनता है, इससे भी नींद की अधिक आवश्यकता हो सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह सामान्य नींद चक्र को बाधित करता है। ओवरस्लीपिंग के अन्य संभावित कारणों में कुछ पदार्थों का उपयोग शामिल है, जैसे शराब और कुछ दवाएं। अवसाद सहित अन्य चिकित्सा स्थितियां, लोगों को परेशान कर सकती हैं। इसके अलावा बहुत से लोग ऐसे हैं जो बस अधिक सोना चाहते हैं।

ओवरस्लीपिंग या ज्‍यादा सोने के नुकसान- Side Effects Of Oversleeping

  • एक अध्‍ययन में पाया गया है कि रात में ज्‍यादा सोने से डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • जो लोग दिन के दौरान बहुत अधिक सोते हैं और अपनी रात की नींद को बाधित करते हैं, वे सुबह सिरदर्द से पीड़ित हो सकते हैं। (कोमा में जाते-जाते बचे थे प्रियंका चोपड़ा के पति निक जोनस, टाइप 1 डायबिटीज का हैं शिकार (देखें वीडियो)
  • बहुत कम या अधिक नींद आपके वजन को प्रभावित करता है। एक अध्‍ययन के मुताबिक, जो लोग 9 से 10 घंटे सोते हैं उनमें मोटे होने का खतरा अधिक होता है।
  • जब आपको पीठ दर्द का अनुभव हो रहा हो, तो आपको अपने नियमित एक्‍सरसाइज करने की आवश्यकता नहीं हो सकती है। इसके लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें। पीठ दर्द के कारकों में अब डॉक्टर ओवरस्लीपिंग को भी शामिल किया है।
  • अनिद्रा आमतौर पर अवसाद से जुड़ा है, जबकि ओवरस्लीपिंग अवसाद से ग्रस्त लोगों का 15% है। यह बदले में उनके अवसाद को बदतर बना सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नियमित नींद की आदतें रिकवरी प्रक्रिया के लिए महत्वपूर्ण हैं।
  • नर्सों के स्वास्थ्य अध्ययन में लगभग 72,000 महिलाएं शामिल थीं। उस अध्ययन के आंकड़ों के सावधानीपूर्वक विश्लेषण से पता चला है कि जो महिलाएं नौ से 11 घंटे सोती थीं उनमें रोजाना आठ घंटे सोने वाली महिलाओं की तुलना में 38% अधिक कोरोनरी हृदय रोग होने की संभावना थी। हालांकि, शोधकर्ताओं ने अभी तक ओवरस्‍लीप और हृदय रोग के बीच संबंध के लिए एक कारण की पहचान नहीं की है।
  • कई अध्ययनों में पाया गया है कि जो लोग रात में नौ या अधिक घंटे सोते हैं, उनमें रात में सात से आठ घंटे सोने वाले लोगों की तुलना में मृत्यु दर काफी अधिक होती है। इस सहसंबंध का कोई विशेष कारण निर्धारित नहीं किया गया है। लेकिन शोधकर्ताओं ने पाया कि अवसाद और कम सामाजिक आर्थिक स्थिति भी लंबी नींद से जुड़ी है। वे अनुमान लगाते हैं कि ये कारक बहुत अधिक सोने वाले लोगों के लिए मृत्यु दर में देखी गई वृद्धि से संबंधित हो सकते हैं।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK