बच्चे, बूढ़े और जवान सभी के लिए जीवनरक्षक का काम करता है ओआरएस, जानें इसके अनेक फायदे

Updated at: Feb 12, 2020
बच्चे, बूढ़े और जवान सभी के लिए जीवनरक्षक का काम करता है ओआरएस, जानें इसके अनेक फायदे

बच्चों से लेकर बड़ों तक सबके लिए जीवनरक्षक का काम करता है ओआरएस, जान लें इससे होने वाले और फायदे जो आपको रखते हैं स्वस्थ।

Vishal Singh
विविधWritten by: Vishal SinghPublished at: Aug 09, 2018

वैसे तो ओआरएस(Oral Rehydration Solution) का घोल लोगों अक्सर गर्मियों में इस्तेमाल करते हैं। ओआरएस का घोल पीने से शरीर से कई बीमारियां दूर हो जाती है। कई लोग ये सोचते हैं कि ओआरएस सिर्फ बच्चों को पिलाया जाता है, जबकि ऐसा नहीं है ओआरएस का घोल बच्चे से लेकर बुजुर्ग हर कोई पी सकता है। 

ओआरएस(Oral Rehydration Solution) का सबसे ज्यादा इस्तेमाल बच्चों को दस्त लगने के समय किया जाता है। इससे बच्चों के दस्त जल्द ठीक होने में मदद मिलती है। इसके साथ ही डायरिया की चपेट में आने पर आप बच्चों को बिना चिकित्सकीय सलाह के भी ओआरएस का घोल दे सकते हैं। ऐसा करने से बच्चों के शरीर में पानी की कमी नहीं होती। जिसकी वजह से बच्चों की तबीयत बहुत ज्यादा बिगड़ने से भी बच सकती है। इस स्थिति में ये जीवनरक्षक का काम करता है। 

अक्सर सभी लोग बच्चे को दस्त लगने पर उसे डॉक्टर के पास लेकर जाते हैं या फिर दवा खिलाते लगते हैं। लेकिन आप इसकी जगह ओआरएस दे सकते हैं। कई जानकार भी इस बात को मानते हैं कि ज्यादातर मामलों में डायरिया तीन-चार दिनों में केवल ओआरएस और जिंक के घोल से ही ठीक हो जाता है। बच्चों को दस्त के समय होने वाली कमजोरी से बचाने के लिए परिजनों को खासा ध्यान रखने की जरूरत होती है। 

साल 2019 की एक शोध के मुताबिक, डिहाइड्रेशन के कारण देश में हर साल करीब 15 लाख लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे में डॉक्टरों की सलाह के बाद ओआरएस का घोल आपके जीवन की रक्षा करने का काम करता है। इसलिए आपको अपने शरीर में किसी भी तरह की डिहाइड्रेशन नहीं होने देनी चाहिए। आइए आपको बताते हैं कि शरीर में डिहाइड्रेशन होने के क्या लक्षण होते हैं। 

डिहाइड्रेशन के लक्षण 

  • पेशाब का रंग पीला पड़ना
  • मूंह सूखने लगे 
  • आंखें धंस जाना
  • शरीर में कमजोरी महसूस होना 
  • त्वचा में ठंडापन महसूस होना 

ors

इसे भी पढ़ें: गर्भावस्‍था में दस्‍त की समस्‍या से ऐसे निपटें

ओआरएस का इस्‍तेमाल 

कई बार बच्चों में खानपान सही ना होने की वजह से दस्त होना आम होता है। लेकिन ये दस्त अगर एक-दो दिन तक रहें तो ये चिंता का विषय बन जाता है। इसलिए आपको बच्चे की सेहत पर ध्यान रखने की जरूरत है। अगर आपके बच्‍चे को दिन में तीन या उससे ज्‍यादा बार दस्‍त आएं तो उसे ओआरएस देना शुरू कर देना चाहिए। इसके अलावा आपके बच्चे की उम्र छह महीने या उससे ज्यादा है तो इसके लिए आप 20 मिलीग्राम जिंक रोजाना दे सकते हैं। अगर ओआरएस से आराम नहीं मिल रहा तो आपको बिना देरी के डॉक्टर के पास जाने की जरूरत है। 

ओआरएस घोल बनाने का तरीका

  • आप एक साफ बर्तन में पानी और ओआरएस का पैकेट डालें। 
  • ओआरएस घोल को सिर्फ पानी में बनाएं।
  • अगर आपका बच्चा ओआरएस पीकर उल्टी कर देता है तो उसे कुछ देर बाद दोबारा ओआरएस दें।

इसे भी पढ़ें: दस्त (डायरिया) और पेट की गड़बड़ी को आसानी से दूर कर देगी BRAT डाइट, जानें क्या है ये

  • सावधानी 
  • आप वैसे तो ओआरएस(Oral Rehydration Solution) बच्चे को किसी भी समय दे सकते हैं। लेकिन कई मामलों में आपको सावधानी बरतने की जरूरत होती है। अगर आपे बच्चे को किसी तरह की एलर्जी है तो ऐसे में आपको ओआरएस डॉक्टर की सलाह के साथ ही देना चाहिए। 
  • गर्भवती महिलाओं को भी ओआरएस(Oral Rehydration Solution) अपने आप नहीं लेना चाहिए। इसके लिए उन्हें पहले डॉक्टर से इस बारे में संपर्क करना चाहिए। 

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK