World Health Day पर OMH MasterClass में एक्सपर्ट 'आशीष बागरेचा' से जानें मानसिक स्वास्थ्य का कैसे रखें ख्याल

Updated at: Apr 07, 2021
World Health Day पर OMH MasterClass में एक्सपर्ट 'आशीष बागरेचा' से जानें मानसिक स्वास्थ्य का कैसे रखें ख्याल

विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर हमारे मास्टर क्लास सेशन में मेंटल हेल्थ एडवोकेट 'आशीष बागरेचा' से जुड़िए और जानिए मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कुछ सुझाव।

Garima Garg
लेटेस्टWritten by: Garima GargPublished at: Apr 07, 2021

आज यानी 7 अप्रैल का दिन विश्व स्वास्थ्य दिवस (World Health Day) के रूप में जाना जाता हैं। ऐसे में Onlymyhealth ने स्वास्थ्य से जुड़े अलग-अलग विषयों पर 7 खास सेशन रखे, जिसमें हेल्थ एक्सपर्ट्स, डॉक्टर्स, फिटनेस एक्सपर्ट्स और डायटीशियन ने आपको बताया कि अपनी व्यस्त जिंदगी के बीच आप कैसे खुद को और अपने परिवार को स्वस्थ रख सकते हैं। इसी कड़ी में हमें मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कुछ खास सुझाव देने के लिए  मेंटल हेल्थ एडवोकेट 'आशीष बागरेचा' (author and mental health advocate ashish bagrecha) भी जुड़े हैं, जो बता रहे हैं कि आप कैसे अपने मानसिक स्वास्थ्य को ठीक रख सकते हैं। साथ ही वे बता रहे हैं कि खुद को स्ट्रेस, एंजाइटी और डिप्रेशन से कैसे निकालें।   

अपने जीवन से हमारे एक्सपर्ट आशीष बागरेचा को यह सीख मिली कि भूतकाल और भविष्य के बारे में ना सोचकर केवल आज के बारे में सोचें और अपने वर्तमान को जिएं। इसी के साथ उन्होंने अपनी जर्नी के माध्यम से बताया कि आप कैसे खुद को मानसिक समस्या से दूर रखें।

1 - टॉक थेरेपी

कभी-कभी जो लोग मानसिक समस्याओं जैसे डिप्रेशन का शिकार या स्ट्रेस से ग्रस्त हो जाते हैं उनके मन में आत्महत्या जैसे ख्याल आने शुरू हो जाते हैं। ऐसे में अगर यह लोग किसी से बात ना करें तो वह खुद को अकेला महसूस करते हैं और आत्महत्या जैसा निर्णय लेने पर विवश हो जाते हैं। ऐसे लोगों को हम बता दें कि टॉप थेरेपी एकमात्र ऐसा सॉल्यूशन है जो आत्महत्या के ख्याल को दूर कर सकता है। आप अपने परिवार के किसी भी सदस्य के साथ अपनी स्थिति के बारे में बताएं। अगर आप अपने परिवार से नहीं कह पा रहे हैं तो अपने दोस्तों को अपनी समस्या के बारे में बताएं। इसके अलावा आजकल कई ऐसी ऑनलाइन कम्युनिटी या इंस्टा पेज हैं जो आपके इस समस्या को दूर कर सकते हैं।

2 - आर्ट थेरेपी

स्ट्रेस, डिप्रेशन या एंजायटी को दूर करने के लिए आर्ट थेरेपी एक अच्छा विकल्प है। आप ऐसे समय में उस काम को करें, जिससे आपको खुशी मिलती है। उदाहरण के तौर पर अगर आपको पेंटिंग करना पसंद है तो ऐसे समय में अपना अधिकतर टाइम पेंटिंग को दें। ऐसा करने से आपका माइंड डाइवर्ट होगा और आपके मन में नकारात्मक विचार दूर होंगे।

इसे भी पढ़ें- World Health Day पर OMH MasterClass में डॉ. दीपिका अग्रवाल ने बताया महिलाएं कैसे प्लान करें प्रेगनेंसी

3 - फिजिकल हेल्थ का रखें ध्यान

जब हम स्ट्रेस, डिप्रेशन या एंजाइटी जैसी परिस्थिति से गुजरते हैं तो हम ऐसे समय में सबसे ज्यादा अपनी फिजिकल हेल्थ के साथ खिलवाड़ कर रहे होते हैं। क्योंकि स्पेस में व्यक्ति ओवरईटिंग कर लेता है और डिप्रेशन के कारण व्यक्ति को नींद नहीं आती। ऐसे समय में जरूरी है कि आप अपनी फिजिकल हेल्थ का ध्यान रखें। कोशिश करें कि अपनी दिनचर्या में योगा, मेडिटेशन को जोड़ें। साथ ही ओवरईटिंग से बचें। बता दें कि फिजिकल एक्टिविटीज के दौरान हमारे शरीर से कुछ केमिकल्स रिलीज होते हैं जो हमें अच्छा महसूस करवाते हैं।

4 - आहार पर ध्यान दें

कुछ लोग अधिक मात्रा में जंक फूड का सेवन करते हैं, जिसके जरिए उनके शरीर में ज्यादा कैफीन और शुगर का स्तर बढ़ने लगता है। ऐसे में स्ट्रेस के दौरान इस तरीके की गलती आपके स्ट्रेस को और गंभीर रूप दे सकती है। जरूरी है कि आप समय पर खाएं और घर का बना हुआ खाना ही खाएं। अपनी दिनचर्या में आप माइक्रो हैबिट को जोड़ें। माइक्रो हैबिट यानी थोड़े-थोड़े समय थोड़ा-थोड़ा आहार खाएं।

इसे भी पढ़ें- World Health Day पर OMH MasterClass में डायटिशियन स्वाती बाथवाल से जानें हेल्दी डाइट के सीक्रेट्स के बारे में 

5 - नींद का रखें ध्यान

कुछ लोगों की आदत होती है कि वे 2 या 4 बजे सोते हैं ऐसे लोग अपनी इस आदत को बदलें। अगर आपका स्लीपिंग पैटर्न अच्छा नहीं होगा तो स्ट्रेस लेवल और बढ़ेगा। ऐसे में अगर आपको नींद नहीं आ रही है तो आप म्यूजिक सुनें ऐसा करने से भी व्यक्ति को रिलैक्स महसूस होता है। कोशिश करें कि आप जल्दी सोएं। फिजिकल एक्टिविटी को करने के बाद व्यक्ति को थकान महसूस होती है और वह जल्दी सोता है। ऐसे में फिजिकल एक्टिविटी को जरूर अपनी दिनचर्या में जोड़ें, जिससे आपका स्लीपिंग पेटर्न भी सही बना रहे।

टॉक्सिक रिलेशनशिप से कैसे डील करें?

एक्सपर्ट ने बताया कि टॉक्सिक रिलेशनशिप का हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ऐसे में जरूरी है कि अपने पार्टनर के साथ इस विषय पर बात करें और अगर आपका पार्टनर आपकी बात को नहीं समझ पा रहा है तो रिलेशनशिप एंड करने के लिए सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, फेसबुक आदि से अपने पार्टनर को ब्लॉक करें। 

बता दें कि हर रिलेशनशिप में व्यक्ति को कुछ रेड सिग्नल नजर आते हैं। वे रेड सिग्नल इस प्रकार हैं-

1 - पार्टनर को कॉल करने पर‌ उसका हर वक्त बिजी रहना। 

2 - आपके लिए टाइम न निकाल पाना।

3 - पार्टनर का आपको फिजिकली हर्ट करना।

4 - हर वक्त आपके साथ फ्रस्ट्रेटेड रहना।

5 - कुछ पाट्रस ऐसे भी होते हैं जो जरूरत से ज्यादा टाइम देते हैं, जिनके कारण आप अपनी हॉबीज, अपने करियर, अपनी पढ़ाई पर ध्यान नहीं पाते। ऐसे लोगों से भी दूरी बनाने की जरूर है। सबसे पहले इन लोगों से बात करें और अगर बात करने पर भी यह लोग आपकी बात ना समझें तो अपने पर्सनल स्पेस के लिए इन लोगों से दूरी बना लें।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK