बच्चों के टिफिन में पैक करें ये 3 हेल्दी फूड, मिलेंगे सभी पोषक तत्व

Updated at: Apr 09, 2019
बच्चों के टिफिन में पैक करें ये 3 हेल्दी फूड, मिलेंगे सभी पोषक तत्व

सुनने में और सोचने में यह सरल लगता है कि बच्चों के टिफिन में रोज हेल्दी और टेस्टी लंच रखेंगे, लेकिन अक्सर यह एक कठिन काम हो जाता है कि वास्तव में दोपहर के भोजन के लिए क्या पैक किया जाए। बच्चे एक ही भोजन खाने से ऊब जाते हैं। सबसे बड़ी चुनौती यह होत

Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Apr 09, 2019

सुनने में और सोचने में यह सरल लगता है कि बच्चों के टिफिन में रोज हेल्दी और टेस्टी लंच रखेंगे, लेकिन अक्सर यह एक कठिन काम हो जाता है कि वास्तव में दोपहर के भोजन के लिए क्या पैक किया जाए। बच्चे एक ही भोजन खाने से ऊब जाते हैं। सबसे बड़ी चुनौती यह होती कि बच्चों को कैसे पोषक तत्वों से युक्त डाइट दी जाए। आज हम सेलेब्रिटी पोषण विशेषज्ञ रुजुता दिवेकर द्वारा बताए गए हेल्दी, स्वादिष्ट और आसान लंच आइडिया बता रहे हैं।

रोटी, गुड़ और घी

यह एक ऐसा लंच है जो हेल्दी होने के साथ ही बच्चों को पसंद भी आता है। आप बच्चों के टिफिन में गुड़, घी के साथ एक रोटी पैक कर सकते हैं। आप बच्चों को इसे रोल बनाकर खाने की भी सलाह दे सकते हैं। यदि आपके बच्चे को बार-बार एलर्जी होती है, तो गुड़ का सेवन करें, यह अभी सीजन में असरकारी होता है। गर्मियों में आपके पास घी और चीनी के साथ रोटी का विकल्प होता है या अगर आप चाहें तो गुड़ के साथ भी दे सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : रात में क्यों नहीं करना चाहिए दही का सेवन? जानें क्या है दही खाने का सही समय

दही-चावल/चावल के साथ तड़का/फोधिंचा भट/नींबू चावल

यह ठंडा होने पर भी स्वाद में टेस्टी होता है। आमतौर पर जब चावल ठंडे होते हैं तो इनका स्वाद बहुत अच्छा नहीं होता है, लेकिन इसमें एक तड़का या दही मिलाकर इसे टेस्टी बनाया जा सकता है। आप ताड़ी चावल को दही या चास के साथ भेज सकते हैं जिसमें एक चुटकी सेंधा नमक के साथ हिंग या करी पत्ता होता है और आपको पूरा भोजन मिलता है जो प्री और प्रोबायोटिक्स का एक सही मिश्रण भी है। बाजार का कोई भी दही या घर का जमा हुआ आप चावल के साथ मिलाकर बच्चों को दे सकते हैं। यह एक ऐसा फूड है जो सभी मौसम में अच्छा है। लंच के अलावा इसे स्नैक या स्कूल के बाद के नाश्ते के तौर पर भी बच्चों को दिया जा सकता है।

ताजे फल

केला एक ऐसा फल है जो खासकर बढ़ते बच्चों, एथलेटिक बच्चों और लड़कियों के लिए, जिन्हें पीरियड्स के दौरान ऐंठन होती है। अगर आपका बच्चा है जिसके घुटने शाम को चोटिल हुए हैं उसके लिए भी फ्रूट्स का पैक बहुत अच्छा है। बेर, अमरूद और आंवला जो अभी मौसम में हैं या आम, जामुन, सीताफल, करवंद ऐसे मौसमी फल हैं जो सेहत के लिए बहुत अच्छे होते हैं। अपने बच्चे के फलों के पोर्टफोलियो में विविधता लाएं और कीवी, जामुन और पसंद के विपणन में न खरीदें।

Buy Online: Milton Double Decker Plastic Lunch Box, Purple & MRP. 198.00/- only

2 साल की उम्र के बाद बच्चों को हर तरह के फल खिलाने चाहिए। अगर बच्चा किशोर है तब तो उसकी डाइट में या टिफिन में फलों का होना अनिवार्य होता है। मौसमी फल कब्ज, मुंहासे, हॉर्मोन्स बैलेंस और चेहरे की रौनक को बरकरार रखने में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं। फ्रूट्स को लंच में, खेलकूद के बाद और स्कूल बस स्नैक्स में भी लिया जा सकता है।

Read More Articles On Healthy Eating In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK