गेहूं आटे से सस्ता और असरदार है कच्चे केले का आटा, न्यूट्रिशिनिस्ट रूजेता दिवेकर से जानें आटा बनाने का तरीका

Updated at: May 27, 2020
गेहूं आटे से सस्ता और असरदार है कच्चे केले का आटा, न्यूट्रिशिनिस्ट रूजेता दिवेकर से जानें आटा बनाने का तरीका

केले के आटे के कई फायदे हैं अगर आप इस बारे में नहीं जानते हैं  तो रूजेता दिवेकर से जानिए केले के आटे के स्वास्थ्य लाभ।  

 

Jitendra Gupta
स्वस्थ आहारWritten by: Jitendra GuptaPublished at: May 27, 2020

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि केले बेहद ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक फलों में से एक है। केले का रोजाना सेवन करना आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है और इसे खाया भी जाना चाहिए क्योंकि ये आपके शरीर को कई आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, जो पाचन, हृदय स्वास्थ्य और वजन घटाने सहित कई शारीरिक कार्यों के लिए बेहद आवश्यक होता है। सबसे अच्छी बात यह है कि केले न केवल पौष्टिक होते हैं, बल्कि ये पूरे वर्ष उपलब्ध रहते हैं और काफी सस्ते भी होते हैं। केले का रंग और आकार देश के अलग-अलग हिस्सों में भिन्न हो सकता है, हालांकि सबसे सामान्य रूप से पाया जाने वाला केला कैवेंडिश है। ये हरे रंग का होता है और पकने के बाद पीला हो जाता है।      

aata

पोषक गुणों से भरपूर केला

बात करें केले के पोषक गुणों की तो केला पोटेशियम, विटामिन बी 6, विटामिन सी, मैग्नीशियम, आयरन, मैंगनीज, फाइबर और प्रोटीन से भरा हुआ होता है। केला रक्तचाप, अस्थमा, कैंसर, मधुमेह (डायबिटीज), हृदय स्वास्थ्य और आंतों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने सहित कई बीमारियों से लड़ने और रोकने में मदद करता है। हम केले के बारे में जानते हैं और हम कच्चे व पके केले दोनों को अपनी डाइट में किसी न किसी रूप में शामिल करते हैं लेकिन हम में से बहुत से लोग शायद ही केले के आटे के बारे में जानते होंगे। क्या आप इसके बारे में जानते हैं अगर नहीं तो इस लेख में मशहूर न्यूट्रीशिनिस्ट रूजेता दिवेकर से जानिए केले के आटे के फायदे, जो आपके कर देंगे हैरान।  

 
 
 
View this post on Instagram

1. Mood booster 2. Fertility booster 3. Immunity booster 4. Digestive aid 5. Gut integrity keeper 6. Hormone regulator Well, there are atleast a dozen more reasons why you must eat the banana, in all it’s forms - kaccha, ripe, overripe & it’s flower. But one of the best kept secrets of an Indian kitchen is the banana flour. Where raw bananas are skilfully peeled and then patiently sundried and crushed to make a flour. It’s then turned into a thalipeeth or flat bread on an iron skillet and enjoyed with a freshly grated coconut chutney or a freshly pounded til chutney. It’s the kind of food that’s fit for the goddess within. The shakti or the feminine power of action in every being. Banana Zaroor khana. Don’t miss the banana plant in the background �� Requesting my mom @rekhadiwekar to post the recipe. #eatlocalthinkglobal #vegan #glutenfree #protein #local #traditional #sonave #sonavecommunityfarmingproject #scfp #banana

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar) onMay 25, 2020 at 10:18pm PDT

गेहूं के आटे का सस्ता विकल्प केले का आटा

कई हेल्थ एक्सपर्ट, जो कि ग्लूटेन फ्री, पैलियो या प्रीमल डाइट अपना रहे हैं और वे लोग, जो सीलिएक रोग का शिकार हैं, गेहूं के आटे के बजाए केले के आटे को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। अफ्रीका और जमैका के कुछ हिस्सों में केले के आटे का उपयोग किया जा रहा है क्योंकि यह वर्षों से गेहूं के आटे का एक सस्ता विकल्प है।

इसे भी पढ़ेंः  तरबूज खाने के बाद थूकें नहीं इसके काले-काले बीज ! इन काले बीज के फायदे सुन उड़ जाएंगे होश

रूजेता दिवेकर से जानें केले के आटे का फायदा

सेलिब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट रूजेता दिवेकर ने केले के आटे के स्वास्थ्य लाभ के बारे में बताया है। उन्होंने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर करते हुए केले के आटे से तैयार व्यंजन, जिसे थालीपीठ कहते हैं, की खूबियों के बारे में गिनाया है। उन्होंने पोस्ट शेयर करते हुए लिखा, ''मूड बूस्टर,  प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाला, इम्यूनिटी बूस्टर, पाचन दुरुस्त करने वाला, आंतों को हेल्दी रखने वाला और हार्मोन को संतुलित रखने वाले केले को अपनी डाइट में शामिल करने के कम से कम एक दर्जन से अधिक कारण हैं। आप कचा, पका, छीलकर कैसे भी इसका सेवन कर सकते हैं।    

रूजेता का कहना है कि भारतीय रसोई के सबसे अच्छे रहस्यों में से एक है केले का आटा। जहां कच्चे केले को छिलको को धूप में सूखाकर रखा जाता है और फिर इसका आटा तैयार किया जाता है। सूखाने के बाद इसे लोहे की कड़ाही में थालीपीठ या फ्लैट ब्रेड में बदल दिया जाता है और नए सिरे से आनंद लिया जाता है। कद्दूकस की हुई नारियल की चटनी या ताज़े प्याज़ की तीखी चटनी के साथ खाने का मजा ही अलग होता है। इस तरह के भोजन की बात ही अलग है।      

इसे भी पढ़ेंः अचानक से चिंता और अवसाद महसूस होना करता है आपको परेशान? डॉ. स्वाती बाथवाल से जानें इसे कम करने वाले वंडर फूड्स

दरअसल ये रेसिपी रूजेता की मां रेखा दिवेकर ने शेयर की है लेकिन केला का आटा आपके लिए एक हेल्दी और सस्ता विकल्प साबित हो सकता है तो आइए जानते हैं कच्चे केले से बने इस पौष्टिक और हेल्दी व्यंजन की खासियत।    

स्टेप 1

केले के आटे बनाने का तरीका 

  • कच्चे केले लें।
  • छिलके को हटा दें।
  • एक चौथाई इंच के टुकड़े बनाने के लिए केले को तिरछा काटें।
  • 2 से 3 दिनों तक धूप में सुखाएं। 
  • आटा बनाने के लिए इस पीस लें।
  • एक हवा बंद बोतल में स्टोर करें।

स्टेप 2

  • एक कटोरी केले का आटा लें।
  • एक कटोरी गूंथे हुए आलू को इस आटे में मिलाएं।
  • हरी मिर्च, जीरा पाउडर (अगर आपको पसंद है), भुना हुआ मूंगफली पाउडर, स्वादानुसार नमक डालें।
  • इसे गाढा बनाने के लिए पानी डालें।
  • छोटी-छोटी गेंद के आकार के पेड़े बनाएं और लोहे के तवे पर फैलाएं। घी का उपयोग करके हल्का फ्राई करें।
  • नारियल की चटनी के साथ परोसें।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK