कोरोनावायरस को हवा में पकड़ कर मार सकता है ये "कैच एंड किल" एयर फिल्टर, साइंटिस्ट ने बताया कैसे करता है काम

Updated at: Jul 09, 2020
कोरोनावायरस को हवा में पकड़ कर मार सकता है ये "कैच एंड किल" एयर फिल्टर, साइंटिस्ट ने बताया कैसे करता है काम

साइंटिस्ट ने एक ऐसा फिल्टर तैयार किया है, जो कोरोनावायरस को हवा में पकड़ कर मार सकता है। जानें कैसे करता है काम।  

Jitendra Gupta
लेटेस्टWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Jul 09, 2020

वैज्ञानिकों ने एक ऐसा "कैच एंड किल" एयर फिल्टर तैयार किया है, जो नोवल कोरोनावायरस को फंसाकर उसे तुरंत बेअसर कर सकता है। ऐसा माना जा रहा है कि ये अविष्कार स्कूलों, अस्पतालों और स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं और विमानों में COVID -19 के प्रसार को कम कर सकता है। हाल ही में मैटीरियल टुडे फिजिक्स नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए एक अध्ययन के अनुसार, ये डिवाइस अपने फिल्टर के माध्यम से एक बार गुजरने पर ही नोवल कोरोनवायरस, एसएआरएस-सीओवी -2 को 99.8 प्रतिशत तक मार सकता है। अध्ययन में कहा जा रहा है कि ये उपकरण 200 डिग्री सेल्सियस तक गर्म होता है,जो  99.9 प्रतिशत घातक बैसिलियम एन्थ्रेसिस के बैक्टीरिया को मार सकता है। ये बैक्टीरिया एंथ्रेक्स रोग का कारण बनते हैं। बता दें कि ये फिल्टर आने वाले समय में बाजारों में व्यावसायिक रूप से उपलब्ध होगा। 

filter

अमेरिका स्थित ह्यूस्टन विश्वविद्यालय (UH) में प्रोफेसर और अध्ययन के सह-लेखक Zhifeng Ren ने कहा कि यह फिल्टर COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए हवाई अड्डों और हवाई जहाजों में, कार्यालय भवनों, स्कूलों और क्रूज जहाजों में उपयोगी साबित हो सकता है।

रेन ने कहा कि इस उपकरण कि वायरस को फैलने से रोकने में मदद करने की क्षमता समाज के लिए बहुत उपयोगी हो सकती है। अध्ययन के शोधकर्ताओं का कहना है कि वे डिवाइस के लिए एक डेस्क-टॉप मॉडल भी विकसित कर रहे हैं, जो कार्यालयों में काम करने वाले लोगों के लिए तत्काल परिवेश में हवा को शुद्ध करने में सक्षम है।

इसे भी पढ़ेंः WHO ने भी माना, हवा के जरिए भी फैल सकता है कोरोना वायरस, पहले किया था इनकार

वैज्ञानिकों के अनुसार, चूंकि वायरस लगभग तीन घंटे तक हवा में रह सकता है तो एक फिल्टर इसे आपके आप-पास मौजूद हवा को जल्दी से साफ कर सकता है। शोधकर्ता इसे एक व्यवहार्य योजना बता रहे हैं क्योंकि दुनिया भर में फिर से ऑफिसों को खोलने पर चर्चा चल रही है। उनका मानना है कि वातानुकूलित स्थानों में प्रसार को नियंत्रित करना तत्काल आवश्यक है।

अध्ययन में कहा गया है कि नोवल कोरोनवायरस 70 डिग्री सेल्सियस से ऊपर तापमान से बच नहीं सकता है, इसलिए फ़िल्टर तापमान को अधिक गर्म बनाकर ( लगभग 200 डिग्री सेल्सियस) वायरस को लगभग तुरंत मारने में सक्षम है।

corona

रेन ने कहा कि निकल फोम कई प्रमुख आवश्यकताओं को पूरा करता है।

शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा, "इस  उपकरण में कई छेद हैं, जो हवा के प्रवाह की अनुमति देते हैं और बिजली से चलने के कारण इसे गुजरने वाली हवा गर्म हो जाती है। साथ ही ये फ्लेक्सीबल भी है। लेकिन उन्होंने कहा कि निकेल फोम में प्रतिरोधकता कम होती है, जिससे तापमान को तेजी से ऊपर उठाना मुश्किल हो जाता है ताकि ये वायरस जल्दी से मार सकें।

इसे भी पढ़ेंः रोजाना के यूज में आने वाली ये 3 चीजें भी बना सकती हैं आपको कोरोनावायरस का शिकार, जानें किनसे बचना है जरूरी

शोधकर्ताओं ने कहा कि उन्होंने फोम को फोल्ड करके, बिजली के तारों के साथ कई डिब्बों को जोड़कर इस समस्या को हल कर दिया, ताकि प्रतिरोध को बढ़ाकर तापमान को 250 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ाया जा सके।

फिल्टर को किसी बाहरी स्रोत से गर्म करने के बजाय बिजली से गर्म करने पर उन्होंने कहा कि फिल्टर से निकलने वाली गर्मी की मात्रा को कम से कम किया जा सकता है, जिससे एयर कंडीशनिंग को बहुत कम तनाव के साथ काम करने की अनुमति मिलती है।

जब वैज्ञानिकों ने वोल्टेज / करंट और तापमान के बीच संबंधों के लिए एक प्रोटोटाइप का निर्माण और परीक्षण किया, तो उन्होंने पाया कि यह पारंपरिक हीटिंग, वेंटिलेशन और एयर कंडीशनिंग (HVAC) सिस्टम के लिए आवश्यकताओं को पूरा करता है और साथ ही कोरोनोवायरस को मार सकता है।

उनका मानना है कि ये उपकरण उन सभी लोगों की मदद कर सकता है, जो आवश्यक उद्योगों में फ्रंटलाइन पर काम कर रहे हैं साथ ही उनकी सुरक्षा में भी सुधार होगा। इस  उपकरण के साथ गैर-कुशल श्रमिकों को भी सार्वजनिक कार्य स्थलों पर लौटने की अनुमति मिलेगी। 

Read More Health News In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK