• shareIcon

    ये मच्छर मिटाएगा मलेरिया का नामो-निशान

    मलेरिया By Gayatree Verma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 08, 2016
    ये मच्छर मिटाएगा मलेरिया का नामो-निशान

    मच्छर भले ही केवल बीमारियों के स्रोत हों। लेकिन ये एक ऐसा मच्छर है जो बीमारियां फैलाना तो दूर मलेरिया जैसी बीमारी को खत्म करने में मदद करता है, इसके बारे में इस लेख में विस्‍तार से पढ़ें।

    हर साल मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियां जैसे डेंगू, मलेरिया... आदि के कारण कई लोग असमय काल के गाल में समा रहे हैं। आंकड़ों की माने तो हर साल लगभग 10 लाख लोग मच्छरों से होने वाली बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। मलेरिया के बाद मच्छरों से होने वाली बीमारी, डेंगु हर साल कई लोगों को मृत्यु की गोद में सुलाने का काम करती है। मच्छरों के काटने से इंसानों को इतना ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा है कि पिछले कई सालों से वैज्ञानिक जगत इन खून चूसने वाले कीटों से बचने के उपाय खोजने में जुटा हुआ है।

    मलेरिया

    वैज्ञानिक ने बनाया ‘म्यूटेंट’ मच्छर

    हाल ही में वैज्ञानिकों ने इन बीमारी फैलाने वाले कीटों का एक संशोधित मॉडीफाइड मच्छर बनाया है। वैज्ञानिक इन तैयार मॉडीफाइट मच्छरों में से कुछ को परीक्षण के लिए फ्लोरिडा कीज़ इलाके में छोड़ना चाहते हैं। इन मच्छरों को वैज्ञानिकों ने ‘म्यूटेंट’ मच्छर नाम दिया है। वैज्ञानिकों का प्लान है कि वे म्यूटेंट मच्छरों के जरिये आम मच्छरों को खत्म कर देंगे जिससे मलेरिया हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी।

     

    दूसरा सवाल भी जरूरी

    अगर वैज्ञानिकों की ये खोज कामयाब होती है तो विज्ञान जगत के लिए ये बहुत बड़ी उपलब्धि होगी। लेकिन इसके बाद दूसरा सवाल खड़ा हो जाता है। दूसरा सवाल यह है कि अगर आम मच्छरों की जगह म्यूटेंट मच्छरों ने ले ली तो ईको-सिस्टम पर क्या असर होगा? नए मच्छर कौन सी नई बीमारियां फैलाएंगे? कौन बताएगा कि किस से फायदा होगा किससे नुकसान?

     

    जीन में बदलाव कर बनाया गया ये मच्छर

    आम मच्छरों में जीन में बदलाव कर ये म्यूटेंट मच्छर तैयार किया गया है। इस तकनीक को CRISPR-Cas9 तकनीक नाम दिया गया है विवादों में तो है लेकिन उतना क्रांतिकारी भी है। यह एक मॉलीक्यूल्स को कट-पेस्ट करने का तरीका है जो वैज्ञानिकों को मनचाहे डीएनए सेग्मेंट निकालने और जोड़ने की सहूलियत देता है। कैलिफोर्निया के वैज्ञानिकों ने इन मच्छरों की जीन में कुछ ऐसे बदलाव किए हैं कि ये मच्छर खुद अपने अंदर की बीमारी को फैलाने की जगह खत्म कर देंगे। वैज्ञानिकों को यकीन है कि ये मच्छर सिर्फ एक गर्मियों भर में मलेरिया को हमेशा के लिए खत्म कर देंगे।

     

    लेकिन प्रयोग उल्टा हुआ तो?

    इस प्रयोग को लेकर कई लोग सशंकित हैं। ये प्रयोग नर मच्छरों के जीन में कुछ ऐसे बदलाव कर किए जा रहे हैं जिससे कि उनकी अगली पीढ़ी लारवा से आगे की स्थिति में जिंदा ही न रहे। ऐसे में लोगों को सवाल है कि अगर प्रयोग के दौरान कुछ मादाओं में भी ऐसे बगलाव आ गए तो? क्या होगा जब मॉडीफाइड मादा किसी को काटेगी? इसका जवाब अबतक किसी के पास नहीं।

     

    Read more articles on Malaria in Hindi.

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK