Newborn Care : नवजात बच्‍चे के दांत आने पर हो रहे दर्द को कम करने में मदद करेंगे ये 6 घरेलू उपाय

Updated at: Jun 09, 2020
Newborn Care : नवजात बच्‍चे के दांत आने पर हो रहे दर्द को कम करने में मदद करेंगे ये 6 घरेलू उपाय

यदि आपके बच्‍चे के शुरुआती दांत आ रहे हों, तो आप उसके दर्द और परेशानी को कम करने के लिए यहां दिए गए सुरक्षित और प्राकृतिक घरेलू उपायों को अपना सकते है

Sheetal Bisht
नवजात की देखभालWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jun 09, 2020

आमतौर पर नवजात बच्‍चों के 6 महीने से 24 महीने की उम्र के बीच में दांत आना शुरू हो जाते हैं। कई बार बच्‍चे के दांत आने पर बच्‍चे में चिंड़चिड़ा स्‍वभाव और बुखार महसूस किया जा सकता है। यदि आपका शिशु इस आयु वर्ग में है और अभी तक उसके दांत नहीं आए है,  तो आपको इसके बारे में जानकार होनी चाहिए। बच्‍चों में दांत आने की प्रक्रिया दर्द भरी हो सकती है, जिससे बच्‍चे को मसूड़ो में दर्द के साथ-साथ हल्‍का बुखार भी आ सकता है। यह प्रक्रिया ठीक वैसे ही है, जैसे कि बड़ो में अकल का दांत कहे जाने वाले दांत के आने पर होता है। जिस दर्द और परेशानी से हम दांत आने पर गुजरते हैं, वैसे ही छोटे बच्‍चे भी। इसलिए बच्‍चों के लिए इससे निपटना मुश्किल हो सकता है। यह बुखार और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के साथ-साथ उनके लिए स्थिति को और भी अधिक कष्टकारी बनाता है। ऐसे में नवजात बच्‍चे के दांत आने पर आप कुछ सुरक्षित और प्राकृतिक उपाय अपना सकते हैं, जो बच्‍चों की दर्द से निपटने में मदद कर सकें। 

नवजात बच्‍चों के दांत आने के लक्षण

Newborn Care

यहां बच्‍चे में दांत आने के कुछ शुरुआती लक्षण दिए गए है, जिन्‍हें पहचानकर आप पता लगा सकते हैं कि बच्‍चे के दांत आ रहे हैं। 

  • चिड़चिड़ापन 
  • लगातार हाथों को मुंह में ले जाना 
  • बेवजह रोना
  • दर्द या परेशानी के कारण कुछ भी नहीं खाना 
  • नींद न आना
  • दर्द को कम करने के लिए गालों को रगड़ना 
  • मुंह के चारों ओर हल्के चकत्ते

बच्‍चों के दांत आने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय 

आप बच्‍चे के दांत आने पर दवा के बजाय, कुछ सुरक्षित और प्राकृतिक घरेलू उपाय अपना सकते हैं। यहां कुछ घरेलू उपाय हैं, जिन्‍हें आप बच्‍चे के दांत आने के दर्द कम करने के लिए आजमाएं। 

1- मसूड़ों की मालिश करें 

आप बच्‍चे के दांत आने पर उसके मसूड़ों का हल्‍की मालिश दे सकते हैं। इसके लिए आप सबसे पहले अपने हाथों को अच्‍छे से धो लें। अब आप अपनी तर्जनी उंगली का उपयोग करके अपने बच्चे के मसूड़ों की धीरे से मालिश करें। यह दांत पर मसूड़ों के फटने के कारण होने वाले दर्द को कम करता है।

इसे भी पढ़ें: इन 3 उबटन की मदद से हटाएं नवजात बच्‍चे के शरीर से बाल, न होगा बच्‍चे को दर्द और न होगा एलर्जी का खतरा

Remedies to Ease First Tooth Pain In Infants

2- टीथिंग रिंग

बच्‍चे के दांत आते समय की परेशानी को दूर करने के लिए टीथिंग रिंग एक अच्‍छा खिलौना और नुस्‍खा है। यह बच्‍चे के लिए एक खिलौने के साथ-साथ यह मसूड़ों के दर्द को कम करने में सहायता करता है। बेबी टूथर्स एक नरम सामग्री के साथ बनाए जाते हैं, जो बच्चे के दांत आने के समय में उसकी परेशानी को कम कर सकता है। आप बच्‍चे को टीथिंग रिंग या बेबी टूथर्स देने से पहले इसे कुछ समय के लिए ठंडा करें। इससे यह मसूड़ों को एक ठंडी सनसनी और उन्हें आराम देगा।

3- फ्रोजन क्‍लॉथ 

मूल रूप से ठंडी या ठंडी चीजें बच्‍चे के दांत आने पर होने वाले दर्द को कम करने के लिए सबसे अच्छा तरीका हैं। आप एक साफ मुलायम कपड़े को गीला करके 30 मिनट के लिए डीप फ्रीजर में रखें। इसके बाद आप इस कपड़े को बाहर निकालें और इसे बच्चे के हाथ में थमा दें। बच्‍चा इसे चबाने की कोशिश करेगा, जिससे कि यह उसके मसूड़ों को थोड़ा सुन्न कर देगा। इससे उस समय उसे आराम मिल सकता है। बेहतर परिणाम के लिए आप कैमोमाइल के पानी में कपड़ा भिगो सकते हैं।

Tips And Remedies For First Tooth Pain In Infants

4- अदरक की जड

अदरक में अद्भुत एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो बच्चे को आसानी से दांत आने के दर्द को सहन करने में मदद कर सकते हैं। एक अदरक की जड़ को छील लें, इसे साफ करें, और फिर कुछ मिनट के लिए मसूड़ों पर धीरे से रगड़ें।

इसे भी पढ़ें: बच्‍चे को जल्‍द बात करने में मदद करेंगी ये 5 पेरेंटिंग टिप्‍स

5- लौंग का पाउडर

लौंग सड़े हुए दांत दर्द से लेकर बच्‍चे के शुरूआती दांत आने पर होने वाले दर्द में राहत दे सकती है। लौंग प्रकृति में गर्म होती है और इसमें सुन्न करने वाले गुण होते हैं। लौंग के पाउडर से एक गाढ़ा पेस्ट बनाने के लिए इसमें नारियल तेल, बटर और पानी मिलाएं। अब इस मिश्रण को ठंडा करें और फिर इसे बच्‍चे के मसूड़ों पर मलें।

6- चेहरे की मालिश

दांत के आने के कारण गाल और कान का दर्द भी बच्‍चे को परेशान कर सकता है। इसके लिए आप बच्‍चे के चेहरे की मालिश करें। जिसमें आप एक हल्‍के मोशन में अपने बच्चे के चेहरे की मालिश करें।

Read More Article On New Born Care In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK