Healthy Diet: हेल्दी समझकर इन 6 चीजों को न खाएं कच्चा, जानें इन्हें पका कर खाने का स्वस्थ तरीका

Updated at: Aug 03, 2020
Healthy Diet: हेल्दी समझकर इन 6 चीजों को न खाएं कच्चा, जानें इन्हें पका कर खाने का स्वस्थ तरीका

आपने अपने खाने में बहुत से कच्चे खाद्य भी शामिल कर रखे होंगे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ खाद्य ऐसे भी हैं जिन्हें कच्चा नहीं खाना चाहिए। 

Monika Agarwal
स्वस्थ आहारWritten by: Monika AgarwalPublished at: Aug 03, 2020

अधिकांश लोग खाने के साथ सलाद या फल का सेवन करते हैं। लेकिन कुछ फल-सब्जियां ऐसी भी हैं जिन्हें कच्चा खाना स्वास्थ्य की दृष्टि से हानिकारक है। इनको कच्चा खाने से बहुत बीमारियां हो सकती हैं। असल में कुछ चीजों में पोषक तत्वों की कमी की वजह से इन को पचाने में परेशानी होती है।यदि पेट में भोजन पूरी तरह से पचेगा नहीं, तो उस से पेट में इंफेक्शन का खतरा बनेगा। इंफेक्शन की वजह से अन्य बहुत सी परेशानियां उत्पन्न होने लगेंगी और आप शारीरिक रूप से बीमार पड़ जाएंगे। आइए जानते हैं वे कौन-से खाद्य हैं जिनको कच्चा नहीं खाना चाहिए।

insidemushroomsanddiet

1. आलू (Raw potato)

आलू अधिकतर लोगों  बहुत पसंद होता है। लेकिन ध्यान रखें, किसी भी तरह से कच्चे आलू का सेवन ना करें, क्योंकि इस में पाए जाने वाला सोलानाइन नामक तत्व टॉक्सिन होता है। जिसके कारण गैस, पाचन संबंधी समस्या, सिर दर्द, उल्टी, जी मिचलाना आदि समस्यायें हो सकती हैं। इन परेशानियों से बचने के लिए आपको आलू को उबाल कर या पका कर ही खाना चाहिए। साथ ही उन आलुओं को खाने से भी बचना चाहिए जो हरे रंग के होते हैं। 

2. गोभी जैसी सब्जियां (Cruciferous Vegetables)

 कुछ गोभी के परिवार की सब्जियां जैसे ब्रोकली, बंदगोभी आदि को कच्चा नहीं खाना चाहिए। यदि आप इन्हे कच्चा खाएंगे तो आपको गैस से सम्बन्धित समस्या हो सकती है। असल में इन सब्जियों में एक प्रकार की शुगर होती है जो बिना पके पेट में नहीं घुलती। इन सब्जियों के पोषक तत्वों का फायदा उठाने के लिए इन सब्जियों को पका कर उनका सेवन करना ही लाभप्रद है।

इसे भी पढ़ें : कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए आपको क्या-क्या खाना चाहिए? जानें कोलेस्ट्रॉल घटाने वाले फूड्स की पूरी लिस्ट

3. राजमा (Red kidney beans)

बिना पके या अधपके बीन्स में बड़ी मात्रा में टॉक्सिन, ग्लाइकोप्रोटीन लेक्टिन होता है। जिसके सेवन के कुछ घंटों के भीतर मतली, उल्टी और दस्त जैसी समस्याएं हो जाती हैं। लक्षणों की गंभीरता विषाक्त पदार्थों की मात्रा पर भी निर्भर करती है। राजमा में लेक्टिन की उच्च मात्रा होती है जो बिना पके सेवन करने पर इन समस्याओं का कारण बनती है। राजमा कम से कम 5 घंटे तक भिगोना चाहिए इससे टॉक्सिन को नष्ट करने में मदद मिलती है।

thumbeans

4. मशरूम (Mushroom)

आप वैसे तो मशरूम को कच्चा भी खा सकते हैं लेकिन उनसे अधिक पोषण प्राप्त करने के लिए मशरूम को पका कर या ग्रिल कर के ही खाएं। इससे आपको अधिक फायदे और कम नुकसान होंगे। भुना हुआ या ग्रिल्ड मशरूम में बिना पके हुए मशरूम की तुलना में अधिक पोटेशियम की मात्रा होती है। आप अपने पसंदीदा खाद्य पदार्थों या  पास्ता या पिज्जा में उबली मशरूम एड कर सकते हैं। हालांकि, जरूरी है कि आप मशरूम को सब्जी और फलों के क्लीनर से अच्छी तरह से धोयें ताकि यह एल्गी खाने में हेल्दी हो।

इसे भी पढ़ें : आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है ये 5 सुपरफूड पाउडर, जानें कैसे करें अपनी डाइट में शामिल

5. बैंगन (Egg plant)

बैंगन में यौगिक सोलनिन होता है जो कैल्शियम के अवशोषण को प्रतिबंधित करता है। सोलेनिन विषाक्तता से न्यूरोलॉजिकल और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या के कई लक्षण हो सकते हैं। जिनमें से  मतली, चक्कर आना, उल्टी और ऐंठन शामिल हैं। खाना पकाने से पहले इसे, सब्जी और फलों के क्लीनर से अच्छी तरह  धो लें। अब पका कर खायें। 

6. ग्वार की फलियां (French Beans)

आपको फलियां भी कभी भी कच्ची नहीं खानी चाहिए। कच्ची फलियों में अमीनो एसिड होता है जो कि हमारे शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है। इसलिए इसको कच्चा न खाएं। यदि आप चाहते हैं कि इनसे आपको कोई हानि न पहुंचे तो खाने से पहले फलियों को एक बार पानी में जरूर धो लें। इसके बाद इन्हे पका कर खाएं। इससे यह पहले से स्वादिष्ट भी लगेंगी और आपको कोई हानि भी नहीं पहुंचेगी।

हालांकि कच्ची सब्जियां खाना स्वस्थ रहने के लिए एक अच्छा कदम है। लेकिन कुछ सब्जियां ऐसी हैं जिनको कच्चा कभी भी सेवन नहीं करना चाहिए।  कोई सी भी सब्जी हो उसे इस्तेमाल करने से पहले कीटनाशकों और अन्य रसायनों के अवशेषों को हटाने के लिए , अच्छी तरह से धोयें, जो कि इनकी सतह पर मौजूद होते हैं।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK