शिशुओं के सिर को गोल आकार देता है राई का तकिया, जानें लाभ और सावधानियां

Updated at: Jun 13, 2020
शिशुओं के सिर को गोल आकार देता है राई का तकिया, जानें लाभ और सावधानियां

जब बच्चे पैदा होते हैं तो उनका सिर बहुत नाजुक होता है। ऐसे में शिशुओं के सिर के नीचे ऐसा तकिया रखने की जरूरत होती है, जो उनके सिर को आकार दे सके। 

सम्‍पादकीय विभाग
नवजात की देखभालWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jun 12, 2020

हर अभिभावक को अपने शिशु के जन्म से लेकर 6 माह तक अधिक ध्यान देने की जरूरत होती है क्योंकि यही वह समय होता है जब थोड़ी सी सावधानी बरत कर या देखरेख कर शिशु के अंगों केा सही आकार दिया जा सकता है। जब शिशु पैदा होता है तो उसके अंग पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं। इसलिए आपने भी देखा होगा कि आपके घर के बड़े-बुजुर्ग मालिश के दौरान शिशु की नाक में उठाव, माथे में दबाव और सिर को गोलकर करने की कोशिश करते हैं। आज हम आपको शिशु के सिर को सही आकार देने के लिए राई के तकिये के लाभ और सावधानियां बता रहे हैं। 

insideraikatakiya

राई का तकिया ही क्यों?

जब बच्चे पैदा होते हैं तो उनका सिर बहुत नाजुक होता है। इसलिए उस दौरान शिशुओं के सिर के नीचे ऐसा तकिया रखने की जरूरत होती है जो उनके सिर को किसी तरह का नुकसान न पहुंचाए और उनके सिर को सही आकार दे सके। एक्सपर्ट भी कहते हैं कि शिशुओं के लिए राई का तकिया एकदम बेस्ट होता है। अन्य तकिये की तुलना में यह तकिये इसलिए भी इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि यह बहुत मुलायम होता है और सिर के पीछे के हिस्से को एकसमान रखता है। इस तकिये से बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है और सिर का आकार बिगड़ने की संभावना भी कम होती है। 

insidemustard

इसे भी पढ़ें : ब्रेस्टफीडिंग पर हावी न होने दें कोरोना का डर, दूध पिलाते वक्त इन बातों का रखें ध्यान

कितना फायदेमंद है राई का तकिया

1. क्योंकि बच्चे बहुत सॉफ्ट होते हैं इसलिए राई का तकिया उनके लिए बिल्कुल परफेक्ट होता है। शिशु के सिर के नीचे इसे रखने से वह बहुत ही कम्फर्टेबल फील करते हैं।

2. बच्चे थोड़ी थोड़ी देर में करवट बदलते रहते हैं। यह तकिया इस स्थिति में भी फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि जब आपका बच्चा करवट लेता है तब यह अपने आप उसके सिर के हिसाब से एडजस्ट हो जाता है।

3. यदि पैदाइश के समय में बच्चों के सिर के आकार में कोई गड़बड़ी होती है तो इस पर सिर रखकर सोने से वह आसानी से ठीक हो जाते है।

4. आपके बच्चे के 8 से 9 महीने की उम्र के होने तक आप इस तकिये को इस्तेमाल कर सकते है।

इसे भी पढ़ें : Baby care tips: नवजात शिशुओं को बीमार होने से कैसे बचाएं? कोरोना वायरस के समय में 5 जरूरी बेबी केयर टिप्स

ये सावधानी जरूर बरतें

यह सच है कि बच्चें के लिए राई या सरसों का तकिया बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन जब आप शिशुओं के लिए इसे इस्तेमाल करें तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। राई का तकिया बच्चों के लिए बहुत कम्फरटेबल होता है लेकिन इस बात का भी ध्यान रखने की आवश्यकता होती है कि वह बच्चों के सिर के नीचे सही तरह से है या नहीं। क्योंकि अगर बच्चे का सिर एक ही अवस्था में रहेगा तो बच्चे का सिर चपटा हो सकता है। ऐसे में यह देखना जरूरी होता है कि तकिए में सरसों की मात्रा ज्यादा तो नहीं है। ज्यादा सरसों भरने से तकिया कठोर और कड़ा हो सकता है। इसके साथ यह भी ध्यान देने की आवश्यकता है कि अगर गलती से यह तकिया फट जाए तो सरसों बच्चों के कान, आंख या मुंह में भी जा सकती है। जिससे बच्चे की श्वसन नली में रुकावट पैदा हो सकती है।

Read more articles on New-Born-Care in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK