मोटापा, हार्ट अटैक और डायबिटीज जैसी बीमारियों का काल हैं शहतूत की पत्तियां, जानें इसके प्रयोग का तरीका

Updated at: Jul 09, 2020
मोटापा, हार्ट अटैक और डायबिटीज जैसी बीमारियों का काल हैं शहतूत की पत्तियां, जानें इसके प्रयोग का तरीका

शहतूत के पत्तियों की चाय आपको कई गंभीर बीमारियों से बचा सकती है। शहतूत की पत्तियों को डायबिटीज, हार्ट अटैक, कैंसर जैसे रोगों में फायदेमंद माना जाता है

Anurag Anubhav
स्वस्थ आहारWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jul 09, 2020

शहतूत (Mulberry) एक ऐसा फल है, जिसका आकार और आकृति कीड़े जैसी होती है। लाल रस से भरे एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर शहतूत का सेवन तो शरीर के लिए फायदेमंद है ही, साथ ही इसकी पत्तियां भी बहुत गुणकारी होती हैं। शहतूत के पेड़ को बहुत अधिक देखभाल की जरूरत नहीं होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि शहतूत की पत्तियों (Mulberry Leaves) के फायदों को देखते हुए कुछ देशों में इसे चाय (Mulberry Tea) के रूप में बड़े मंहगे दामों में बेचा जाता है। चीन में शहतूत की खेती खूब होती है क्योंकि वहां के सिल्क कारोबारी इसकी पत्तियों को सिल्क पैदा करने वाले कीड़ों को खिलाते हैं। कुल मिलाकर शहतूत की पत्तियां सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं, लेकिन आप में से ज्यादातर लोगों को इसके बारे में पता नहीं होता है। आइए हम आपको बताते हैं साइंटिफिक रिसर्च के आधार पर शहतूत की पत्तियों के फायदे और इसके सेवन का सही तरीका।

mulberry leaves tea for health

हार्ट के लिए है बहुत फायदेमंद (Mulberry Leaves for Cardiovascular Health)

शहतूत की पत्तियां आपके हार्ट के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती हैं। शहतूत की पत्तियों के इस्तेमाल से कार्डियोवस्कुलर हेल्थ अच्छी रहती है। 2018 में फार्मास्युटिकल बायोलॉजी में प्रकाशित एक स्टजी में बताया गया कि शहतूत की पत्तियों में फेनोलिक्स और फ्लैवोनॉइड्स होते हैं, जिसके कारण इसकी पत्तियों का अर्क पीने से कार्डियोमेटाबॉलिक समस्याओं का खतरा कम हो जाता है। इसी तरह BioMed Research Internation द्वारा प्रकाशित एक रिसर्च में बताया गया कि शहतूत की पत्तियों में खास एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो ट्राईग्लिसराइड्स, सीआरपी (CRP) और एलडीएल (LDL) लेवल को कर सकते हैं। इसलिए हार्ट और कोलेस्ट्ऱॉल के मरीज अगर शहतूत की पत्तियों का सेवन करते हैं, तो ये उनके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: ये 5 सब्जियां दुनियाभर में मानी जाती हैं सबसे ज्यादा हेल्दी, जानें इनमें कौन से पोषक तत्व हैं खास और फायदे

डायबिटीज और क्रॉनिक रोगों का खतरा करे कम (Mulberry Leaves for Diabetes & Chronic Diseases)

शहतूत की पत्तियों में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण भी होते हैं, जिसके कारण इन पत्तियों की चाय पीने या इसके अर्क का सेवन करने से क्रॉनिक बीमारियों का खतरा कम होता है। Journal of Functional Foods में छपे एक अध्ययन में बताया गया है कि शहतूत की पत्तियों के अर्क के सेवन से इंफ्लेमेशन पैदा करने वाले कंपाउंड जैसे- साइटोकाइन्स का बनना कम हो जाता है, जिससे अर्थराइटिस, फाइब्रोसिस, डायबिटीज, कैंसर, जैसी बीमारियों का खतरा भी कम होता है।

मोटापा घटा सकती हैं ये पत्तियां (Mulberry Leaves for Obesity)

शहतूत की पत्तियों के इस्तेमाल से वजन घटाने में भी मदद मिलती है। Experimental Biology and Medicine नामक जर्नल में छपी एक स्टडी में बताया गया कि शहतूत की पत्तियों का अर्क पीने से जानवरों में मोटापा और इससे जुड़ी खतरनाक बीमारियां कम हुई हैं। खासकर लिवर के लिए शहतूत की पत्तियां विशेष फायदेमंद हैं क्योंकि ये लिवर लिपि़ड पेरोक्सिडेशन लेवल को कम कर सकती हैं। इसलिए अगर आप रोजाना शहतूत की पत्तियों की चाय पीते हैं, तो इससे आपका मोटापा कम होता है।

इसे भी पढ़ें: दुनिया में सबसे ज्यादा जीने वाले लोगों से जानें 'लंबे स्वस्थ जीवन' के 5 गोल्डेन रूल्स, आपके काम आएंगी ये टिप्स

mulberry leaves health benefits

कैसे करें शहतूत की पत्तियों का प्रयोग (How to Make Mulberry Tea)

शहतूत की पत्तियों का प्रयोग आप चाय के रूप में कर सकते हैं। इसकी चाय बनाने के लिए गर्म पानी में शहतूत की ताजा तोड़ी गई पत्तियों को धोकर डालें और 4-5 मिनट तक पकने दें। इससे शहतूत की पत्तियों का अर्क पानी में घुल जाएगा। इसके बाद चाय को छान लीजिए और इसे पीजिए। अगर आपको इसमें मिठास की जरूरत महसूस होती है, तो आप इसमें एक चम्मच शहद डाल दें और फिर घोलकर पिएं। ध्यान रखें कि शहद ऑर्गेनिक होना चाहिए, न कि चीनी घुला हुआ क्योंकि वो आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK