गर्भावस्था के बाद वजन कम करने के दौरान कई कठिनाइयों का सामना करती हैं महिलाएं

Updated at: Feb 17, 2020
गर्भावस्था के बाद वजन कम करने के दौरान कई कठिनाइयों का सामना करती हैं महिलाएं

फिजिकल रिकवरी बहुत सारी जटिलताओं और कठिनाइयों के साथ प्रसव के बाद का समय ले सकती है। इसलिए, देखभाल एक जरूरी है।

सुचेता पाल
वज़न प्रबंधनWritten by: सुचेता पालPublished at: Feb 17, 2020

मां बनना एक महिला के लिए सुखद अनुभव होता है, लेकिन मां बनने के बाद कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। प्रसव के बाद वजन का बढ़ना और मोटापे के बाद बॉडी का शेप में आना कोई आसान बात नहीं है। ऐसे में खुद की देखभाल करना और एक स्वस्थ जीवनशैली को बनाए जरूरी होता है। प्रसव के बाद के लक्षणों में से कुछ कारण:

  • वेजाइनल डिसचार्ज 
  • स्तन संबंधी समस्याएं
  • प्रसव के बाद अत्यधिक रक्तस्राव
  • बाल झड़ना
  • स्‍ट्रेच मार्क्‍स 
  • डिप्रेशन
  • क्रॉनिक हेल्‍थ कंडीशन 

जन्म के बाद के लक्षणों के महत्वपूर्ण कारण हो सकते हैं। यहां प्रेगनेंसी के बाद वजन का कम होना चुनौतीपूर्ण हो सकता है: 

 
 
 
View this post on Instagram

"Why are you in a hurry to lose your post pregnancy weight? Focus on your baby now!" I got this very disturbing message (on so many levels) recently on my insta DM after I shared my #5weekpostpartum recovery workout videos like this one on my stories! And I wondered how many of us women are being discouraged to take care of ourselves 😢🤷 #momshaming . If you know me by now then you also know I don't take BS #unsolicitedadvice lying down so you may have guessed my reply but if you didn't then here goes! Firstly, NONE OF YOUR BUSINESS . Secondly, you are soooo IGNORANT that you still believe that you can lose weight ( fat) in the gym! Duhhhhh Thirdly, as you already have made it your business then let's get the facts right. When a #NewMom starts her recovery via exercise (after receiving doctors permission and under professional guidance) then it only means one thing. SHE KNOWS HER SHIT AS A MOM! Most importantly as a woman💪 She knows that she requires an even greater strength & endurance for motherhood than what she required for pregnancy and childbirth put together times 2. So she needs to put in that hustle like never before as she has lost a great deal of it creating a universe for 9 months! Her focus is the baby😘 . . She knows that she requires that mental resilience which all women will swear by is a must in motherhood. That kind of crazzyyyy resilience ( never give up attitude) only comes from exercise. . . And lastly being a mother is a part of being a woman ( not the end all and be all of being a woman. Separate post coming up on this!) So yes SHE WILL EXERCISE FOR HER OWN DAMN SELF. And if that results with the side effect of losing weight then Hurrrraaayyy! . . And oh by the way, I am totally struggling with the basics as you can clearly see but also soooo proud of this journey of #selflove. I will make my #lilK proud. @snehadesu the cheering helps;) . . Stop #momshaming Start some #momloving

A post shared by Sucheta Pal (@suchetapal) onFeb 9, 2020 at 3:21am PST

नींद की कमी 

नींद की कमी के कारण, मस्तिष्क ठीक से काम नहीं करता है। इसलिए शरीर के हार्मोन्स में बदलाव होता है, और यह बदलाव एक मां के लिए कठिन हो सकता है, खासकर अगर स्तनपान। तनाव और नींद दोनों हमारे शरीर को प्रभावित कर सकते हैं, इसलिए स्वस्थ आहार और व्यायाम करना आवश्यक है।

चिंता

नई माताओं को नवजात शिशु की देखभाल करना चाहिए, और इसीलिए वे अपने स्वास्थ्य पर अधिक ध्यान नहीं देते हैं। थकावट और तनाव की भावना आपके तनाव हार्मोन को बढ़ा सकती है जो आपके फैट मेटाबॉलिज्‍म को धीमा कर देती है। इसलिए, बच्चे के स्वास्थ्य पर अतिरिक्त तनाव और लगातार चिंता करने से मां के स्वास्थ्य पर कुछ गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

pregnancy

गर्भावस्था के प्रभाव

जब महिला गर्भवती हो जाती है और शरीर की चर्बी बढ़ जाती है तो वजन में वृद्धि होती है। नई मां के लिए व्यायाम और नींद के लिए समय निकालना बहुत आसान नहीं है। नवजात शिशु का होना आप पर एक नई जिम्मेदारी होने जैसा है। अपने बच्चे की देखभाल की दौड़ में अपने स्वास्थ्य के बारे में सोचना मुश्किल हो जाता है। दूध पिलाने से लेकर सफाई करने और बच्चे को सुलाने तक, इन सभी वजहों से माताएं थक जाती हैं। 

पीसीओएस 

विभिन्न अध्ययनों के अनुसार, 5 से 10 प्रतिशत महिलाओं में पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) होता है। यह स्थिति एक हार्मोनल असंतुलन की विशेषता है जो वजन घटाने को अधिक कठिन बनाता है और मासिक धर्म की अनियमितता का कारण बनता है।

pregnancy

गर्भावस्था के बाद आपका शरीर कैसे बदलता है? 

आप मानसिक रूप से व्यायाम करने के लिए तैयार हो सकती हैं लेकिन शारीरिक रूप से नहीं। इसलिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि अधिक व्यायाम न करें। प्रसव और जन्म पीठ दर्द सहित शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकता है, जो अत्‍यधिक व्‍यायाम से बदतर हो सकता है। आपके ज्‍वाइंट्स गर्भावस्था के हार्मोन से जन्म के 6 महीने बाद तक प्रभावित होते हैं जो आपको चोट के खतरे में डाल सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान, आपके पेट की मांसपेशियां अलग हो सकती हैं, लेकिन वे जन्म के बाद वापस सामान्य हो जाती हैं। मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए आपको व्यायाम करने की आवश्यकता होगी। 

pregnancy-exercise

क्‍या है सुचेता की राय 

बच्चे को जन्म देने के बाद जब एक मां अपने आपको फिर से फिट करने के लिए एक्सरसाइज का सहारा लेती है तो उन्हें पता होता है कि वो कैसे एक मां बनी हैं। अक्सर जब आप एक बच्चे को जन्म देती हैं तो आप बहुत ही थका हुआ महसूस करती हैं। वहीं, बच्चे के जन्म के बाद एक मां को फिर से फिट होने के लिए कम से कम 6 हफ्तों का समय लग जाता है। एक्सरसाइज के साथ ही आप मानसिक तौर पर भी अपने आपको फिट करने की कोशिश करते हैं।

यश, उन सभी माताओं को इन समस्‍याओं के साथ बाहर कर देता है जो खुशी के साथ उनका सामना करती हैं। 

(With inputs from Sucheta’s Instagram)

Read more articles on Weight Management In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK