Diabetes Diet : मानसून में डायबिटीज पेशेंट को लेनी चाहिए खास डाइट, डाइटीशियन कविता रस्तोगी से जानें डाइट टिप्स

Updated at: Jul 13, 2020
Diabetes Diet : मानसून में डायबिटीज पेशेंट को लेनी चाहिए खास डाइट, डाइटीशियन कविता रस्तोगी से जानें डाइट टिप्स

अगर आप भी डायबिटीज से पीड़ित है तो मानसून के दौरान अपनी डाइट का रखें खास ख्याल, पोषण विशेषज्ञ कविता रस्तोगी से जानें हेल्दी टिप्स।

Vishal Singh
डायबिटीज़Written by: Vishal SinghPublished at: Jul 13, 2020

अनियमित जीवनशैली और अनियमित खानपान के कारण डायबिटीज (Diabetics) आज के समय में एक आम बीमारी के रूप में देखा जाता है। अगर आप इसे आम भाषा में समझने की कोशिश करें तो ये मधुमेह या उच्च रक्त शर्करा का स्तर हार्मोन इंसुलिन की कमी के कारण होता है। मधुमेह के प्रबंधन के लिए चार सबसे महत्वपूर्ण स्तंभ माने जाते हैं। जिसमें सही दवा, आहार, एक अच्छी शारीरिक गतिविधि का शासन और आपके स्वास्थ्य की निगरानी जो आपकी सेहत के स्तर को दर्शाती है। ऐसे में न्यूट्रिशनिस्ट कविता रस्तोगी बताती हैं कि मानसून के दौरान कैसे डायबिटीज और हेल्दी डाइट डायबिटीज के रोगियों को हेल्दी रहने में मदद कर सकती है। आइए इस लेख में जानते हैं कि डायबिटीज के मरीज को मानसून डाइट के साथ कैसे स्वस्थ रखा जा सके।

healthy diet

मधुमेह का प्रबंधन

डायबिटीज के प्रबंधन के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है आपकी डाइट जो आपके स्वास्थ्य के लिए काफी महत्वपूर्ण हो जाती है। भारतीय सभी डाइट्स कार्बोहाइड्रेट आधारित होती है, और ज्यादातर भारतीय अपने रोजाना लेने वाली डाइट में लगभग 60 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट का सेवन करते हैं। आहार फाइबर, मोनोअनसैचुरेटेड वसा, आहार प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की खपत में बढ़त आपके इंसुलिन या हाइपोग्लाइसेमिक दवाओं की खुराक या उसके असर को कम कर सकती है।कई विशेषज्ञों की सलाह है कि नए निदान वाले मधुमेह से पीड़ित रोगी भी इसका पालन कर अपनी बीमारी को तुरंत दूर कर सकते हैं और लंबे समय तक स्वस्थ रह सकते हैं। वहीं, मानसून बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण के साथ कई खतरे पैदा करने का काम करता है जिससे बचना आपके लिए काफी जरूरी हो जाता है। 

healthy diet

इसे भी पढ़ें: ब्लड शुगर बढ़ने पर इन 5 तरीकों से तुरंत करें कंट्रोल, 10 मिनट में घटेगा ग्लूकोज

मधुमेह के रोगियों के लिए आहार और स्वास्थ्य सुझाव 

  • मधुमेह (Diabetics) रोगियों को अपने खानपान को लेकर काफी ज्यादा सक्रिय रहने की जरूरत होती है, ऐसे में जब भी वो फल और सब्जियों को काटने या उन्हें खाने की कोशिश करें तो आप सबसे पहले उन्हें अच्छी तरह से धो लें। ऐसा इसलिए क्योंकि मानसून के मौसम में बैक्टीरिया काफी ज्यादा मात्रा में होते हैं और वो आप तक आसानी से खानपान के जरिए पहुंच सकते हैं। इसलिए फल और सब्जियों का बनाने या काटने से पहले जरूर अच्छी तरह से धो लें। 
  • एक संतुलित आहार जिसमें सभी मैक्रोन्यूट्रिएंट्स के साथ-साथ माइक्रोन्यूट्रिएंट्स भी शामिल हों। आपकी डाइट में कार्बोहाइड्रेट, दुबला प्रोटीन, अच्छे वसा और एक अच्छी फल और सब्जियां होनी चाहिए। जो आपके स्वास्थ्य को किसी भी प्रकार से नुकसान न पहुंचा सके। 
  • अच्छे वसा जैसे जैतून का तेल, सरसों का तेल, नट और बीज का सेवन नियमित रूप से करें। इसके साथ ही A2 गाय के घी की कुछ मात्रा जरूर लें। इसके अलावा आप किसी भी तेल को बहुत देर तक गर्म करने से बचें क्योंकि यह तेल में मौजूद सभी पोषक तत्वों को नष्ट करने का काम करते हैं। 

  • जामुन उन लोगों के लिए एक महान फल है जिन्हें मधुमेह है, क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है, इस मौसम में उपलब्ध है। इसका सेवन सुबह-सुबह नाश्ते के रूप में किया जा सकता है, या इसे एंटी-ऑक्सीडेंट के घी के लिए फल और सब्जी की स्मूदी में भी मिलाया जा सकता है। शायद आपको भी इस बारे में जानकारी हो कि जामुन के बीज मधुमेह रोगियों के लिए कितने फायदेमंद होते हैं। आपको बता दें कि जामुन के बीज में जंबोलाना जैसे अच्छे पोषक तत्व होते हैं जो आपके शरीर में रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में आपकी मदद करते हैं।
  • नेचुरल प्रीबायोटिक्स और प्रोबायोटिक्स का एक संयोजन सभी मधुमेह (Diabetics) रोगियों को अपने पेट के स्वास्थ्य को अच्छी तरह से प्रबंधित करने में मदद करता है, क्योंकि वे मानसून में संक्रमण से ग्रस्त हो सकते हैं। 
  • मधुमेह रोगियों के लिए 0-55 और ग्लाइसेमिक लोड 0-10 के ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फल सुरक्षित माने जाते हैं जो उनके स्वास्थ्य को बेहतर करने का काम करते हैं। 

इसे भी पढ़ें: ब्लड शुगर बढ़ने-घटने पर दिखाई देते हैं ये 5 संकेत, नजरअंदाज करने पर जा सकती है जान

व्यायाम के लिए टिप्स

  • अगर आप मधुमेह रोग(Diabetics)  से पीड़ित हैं तो आपको कभी भी व्यायाम को रोकना नहीं चाहिए, बल्कि नियमित रूप से रोजाना इसे अपनी रूटीन में शामिल करना चाहिए। व्यायाम आपके प्रतिरक्षा में सुधार करने का काम करता है, लेकिन इस समय कोशिश करें कि भीड़-भाड़ वाली जगहों पर कसरत के लिए न जाएं। कसरत स्थानों से बचने की आवश्यकता है। योग, ध्यान, उचित सावधानी और अन्य फर्श अभ्यास के साथ तेज चलने के 45 मिनट की सिफारिश की जाती है। 
  • दिन में अलग-अलग समय पर अपने ग्लूकोज की निगरानी जरूर करें, इसके लिए आप भोजन से पहले और भोजन के बाद निगरानी कर सकते हैं। 
  • किसी भी अन्य जटिलता वाले रोगियों को खाने की योजना का चयन करना चाहिए और सभी बताई गई चीजों का पालन करने से पहले अपने आहार विशेषज्ञ से जांच करानी चाहिए।

With inputs from Nutritionist & Dietician Kavita Rastogi, Founder - Nutriremedy 

Read More Articles On Diabetes In Hindi  

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK